• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Dera Bassi
  • अंडरपास की जिम्मेदारी रेलवे की, बदनाम हो रही नगर परिषद: शर्मा
--Advertisement--

अंडरपास की जिम्मेदारी रेलवे की, बदनाम हो रही नगर परिषद: शर्मा

डेराबस्सी नगर परिषद की एक बैठक पहली बार एक्टिंग प्रधान मानवेंदर सिंह टोनी राणा की अध्यक्षता में हुई। इसमें परिषद...

Danik Bhaskar | Jul 10, 2018, 02:00 AM IST
डेराबस्सी नगर परिषद की एक बैठक पहली बार एक्टिंग प्रधान मानवेंदर सिंह टोनी राणा की अध्यक्षता में हुई। इसमें परिषद के तहत जनेतपुर व बाकरपुर रेलवे अंडरपास में बारिश के दौरान निकासी बंद होने के लिए रेलवे विभाग को ही पूरी तरह जिम्मेदार ठहराया गया। परिषद ने अंडरपास के रखरखाव के लिए परिषद को हैंडओवर करने का प्रस्ताव पास किया, वहीं इसकी दीवारों के बाहर धंस रही जमीन समेत पेवरब्लॉक्स से दीवार सहित अंडरपास पुल के लिए खतरा बताया। परिषद का कहना था कि निकासी समस्या के लिए नगर परिषद को बेवजह बदनाम किया जा रहा है। बैठक में विशेष तौर पर शामिल हुए एमएलए एनके शर्मा ने कहा कि रेलवे विभाग द्वारा करीब दो तीन साल पहले परिषद के गांव बाकरपुर व जनेतपुर में रेलवे अंडरपास बनाने से पहले नगर परिषद से कोई प्रवानगी नहीं ली गई। यह मंडी बोर्ड या बीएंडआर की सड़कों पर बनाए गए हैं। ये अंडरपास अभी तक हैंडओवर करना तो दूर, रेलवे ने परिषद के साथ कोई पत्र व्यवहार तक नहीं किया। इन अंडरपासों का दौरा करने पर पाया गया कि अंडरपास की दीवारों के साथ साथ काफी बड़ी बड़ी दरारें आ चुकी हैं और इंटरलॉकिंग टाइल्स का कोई पुख्ता इंतजाम नहीं हुआ है। जिम्मेदारी रेलवे विभाग की है, परंतु निकासी न होने पर बरसात के दौरान पानी भरने पर बार बार बंद हो रही वाहनों की आवाजाही के लिए नगर परिषद को बेवहज बदनाम किया जा रहा है। उक्त दरारों के अलावा निकासी की समस्या के बारे में रेलवे के उच्चाधिकारियों को अवगत कराने का फैसला किया गया ताकि भविष्य में लोगों के जानमाल की सुरक्षा के अलावा किसी असुखद घटना से बचा जा सके।

घग्गर रेलवे स्टेशन से होगा हलके का कायाकल्प

एनके शर्मा ने बताया कि सर्वप्रथम घग्गर स्टेशन का नाम बदलकर डेराबस्सी स्टेशन किया जाएगा, क्योंकि घग्गर के नाम पर कोई गांव व कस्बा नहीं है। फिलहाल यहां अंबाला-चंडीगढ़ रूट से कुल 80 पैसेंजर ट्रेन रोजाना अप डाउन करती हैं। मीटिंग में तय किया है कि दिल्ली के लिए घग्गर स्टेशन पर एक्सप्रेस ट्रेनों का स्टॉपेज बनाया जाए। इसकी शुरुआत दिल्ली से नंगल-ऊना तक जनशताब्दी से की जाएगी। डेराबस्सी रेलवे आेवरब्रिज तले फाटकों से रेलवे स्टेशन तक 300 मीटर की अप्रोच रोड बनाने का फैसला किया गया है। इसके अलावा कंप्यूटराइज्ड रिजर्वेशन सुविधा शुरू होने से भी लोगों को भारी राहत मिलेगी। एमएलए ने कहा कि उक्त सभी प्रस्ताव पास कर दिए गए हैं और जल्द ही अकाली-भाजपा का एक संयुक्त रिप्रेजेंटेशन रेलवे बोर्ड सहित रेल मंत्री से मिलकर उन्हें सौंपा जाएगा।

ये प्रस्ताव भी पास िकए नगर परिषद की बैठक में

एक्टिंग प्रधान टोनी राणा ने बताया कि शहर के अलग अलग स्थानों पर 9 लाख रु. की लागत से डस्टबिन लगाने का फैसला किया गया। गाय, भैंस, कुत्ते आदि आवारा पशुओं को पकड़ने के लिए किसी तजुर्बेकार ठेकेदार को ठेका देने का फैसला किया गया। बैठक में कहा किया कि नगर परिषद हर माह करीब एक लाख रुपए जमा करा रही है, परंतु सरकारी गौशाला, लालडू में बड़ी तादाद में आवारा पशुओं के रखरखाव करने का सामर्थ्य नहीं है। तंदरुस्त पंजाब मुहिम के तहत डेराबस्सी के पार्कों में ओपन जिम खोलने का फैसला किया गया। उन्होंने बताया कि निर्माणों के नक्शे पास करते समय रेन हारवेस्टिंग सिस्टम लगाने के नियमों की जनता सही ढंग से अनुपालना नहीं रही है जिसे अब यकीनी बनाया जाएगा। गांव धनोनी में मुस्लिम भाईचारे के लोगों के लिए 7 लाख रुपए की लागत से कब्रिस्तान बनाने का फैसला किया गया। इस मौके ईओ सखजिंदर सिद्धू, पूर्व प्रधान भूपिंदर सैनी व पूर्व उपप्रधान हरजिंदर रंगी भी शामिल थे।