--Advertisement--

दशहरा ग्राउंड की कोर्ट में सुनवाई 12 जुलाई तक टली

सिटी रिपोर्टर | डेराबस्सी शहर में करोड़ों रुपए मूल्य की प्राइम लैंड दशहरा ग्राउंड केस पर सुनवाई बुधवार को फिर...

Danik Bhaskar | Jul 05, 2018, 02:05 AM IST
सिटी रिपोर्टर | डेराबस्सी

शहर में करोड़ों रुपए मूल्य की प्राइम लैंड दशहरा ग्राउंड केस पर सुनवाई बुधवार को फिर टल गई। लगातार चौथी बार पिटीशनर कम लीज होल्डर के बजाय उनके काउंसिल ही डेराबस्सी कोर्ट में मौजूद थे। खास बात यह रही कि बुधवार को वक्फ बोर्ड की ओर से उनका वकील पेश हुआ, जबकि प्रतिवादी पक्ष से सनातन धर्म सभा के दो दर्जन सदस्य कोर्ट परिसर में मौजूद रहे। कोर्ट ने अगली सुनवाई 12 जुलाई को तय की है। इस बीच नगर परिषद डेराबस्सी ने दशहरा ग्राउंड को आस्था का प्रतीक बताकर भाईचारे व कानून व्यवस्था को बनाए रखने का हवाला देकर वक्फ बोर्ड को लीज रद्द किए जाने के लिए लेटर लिखा है।

डेराबस्सी के एसडीजेएम कोर्ट में यह याचिका लीज होल्डर तरलोचन सिंह पुत्र बलबीर सिंह वासी गांव नन्हेड़ा, राजपुरा ने दी है। इसमें सनातन धर्म सभा नाम के बजाय सभा के प्रधान सुशील और सभा के सदस्यों में रोशनलाल उपनेजा, जगदीश मग्गो व सोहनलाल के अलावा पंजाब वक्फ बोर्ड, अंबाला कैंट को भी पार्टी बनाया गया है। लीज होल्डर ने ग्राउंड में किसी प्रकार के निर्माण कार्य पर स्थायी रोक लगाने के अलावा वहां स्थापित की गई हनुमान जी की पूजनीय प्रतिमा को भी हटाने की मांग की है। बीते दो महीने में चौथी बार सुनवाई मुल्तवी हो चुकी है। कोर्ट में अब तक लीज होल्डर-कम-याची कोर्ट एक बार भी नहीं पहुंचा, जबकि इस शख्सियत का सनातन धर्म सभा सहित आम लोगों को भी इंतजार है, ताकि शिकायतकर्ता के स्थानीय संबंधों का खुलासा हो सके।

उधर, प्रतिवादी पक्ष के काउंसिल एसके जैन ने बताया कि वक्फ बोर्ड के वकील ने पेश होकर जवाबनामे के लिए समय मांगा जिस पर कोर्ट ने 12 जुलाई अगली सुनवाई के लिए मुकर्रर की है। इसी दिन सुशील व्यास समेत चार लोगों का जवाबनामा भी दायर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सिविल केस में याची का मौजूद रहना जरुरी नहीं। याची की जगह उनका काउंसिल भी पेश हो सकता है।

नप ने लीज रद‌्द करने के लिए वक्फ बोर्ड को लिखा लेटर, आस्था, भाईचारा व कानून व्यवस्था का दिया हवाला

अमन व कानून के लिए लीज रद्द हो: नगर परिषद

कांग्रेस के प्रदेश महासचिव दीपइंदर ढिल्लों ने कहा कि वे वक्फ बोर्ड से यह लीज ही कैंसिल कराने की प्रक्रिया शुरू कर चुके हैं। नगर परिषद से लीज रद्द करने का पत्र वक्फ बोर्ड को भेजा जा चुका है। परिषद ने लिखकर मांग की है कि इस जगह का पांच दशकों से कॉमन कॉज के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है और सनातन धर्मसभा द्वारा दशहरा समेत धार्मिक आयोजनों के कारण यह आस्था से जुड़ा है। इस जगह की लीज से शहर में असुखद माहौल व कानून व्यवस्था भंग होने का खतरा हो सकता है। इसके अलावा मसले को सियासी रंगत से भाइचारे का माहौल भी खराब हो सकता है इसलिए लीज रद्द की जाए। वे दशहरा ग्राउंड पर किसी कीमत पर कब्जा नहीं होने देंगे।

1145 गज दशहरा ग्राउंड में 20 शोरूम काटने का साइट प्लान : लीज होल्डर द्वारा दशहरा ग्राउंड में पार्किंग स्पेस समेत करीब 20 बूथ व शोरूम काटने की तैयारी है। याचिका में साइट प्लान भी साथ लगाया है और अपील की गई है कि 1145 वर्ग गज उक्त जमीन पर प्रतिवादियों को निर्माण कार्य करने से रोका जाए। जमीन पर प्रतिवादियों द्वारा बिना परमिशन के स्थापित की गई प्रतिमा भी हटाई जाए। याची ने कहा है कि वक्फ बोर्ड से उसने 11.4.18 को उक्त जमीन 17 हजार रुपए प्रति माह के हिसाब से 35 महीने के लिए लीज पर ली है। यहां पर शोरूम व बूथ काटे जाने हैं जिसका साइट प्लान भी जमा कराया गया है।