पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • गंगापुर में पौन घंटे बारिश से किसानों के चेहरे खिले, फसलों को नया जीवन मिला

गंगापुर में पौन घंटे बारिश से किसानों के चेहरे खिले, फसलों को नया जीवन मिला

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नगर संवाददाता | गंगापुर सिटी

उपखंड मुख्यालय सहित आसपास के क्षेत्र में आखिरकार इंद्रदेव मेहरबान हो गए। मंगलवार शाम उपखंड मुख्यालय सहित आसपास के क्षेत्र में करीब पौन घंटे झमाझम बारिश हुई। बारिश के बाद तापमान में गिरावट आ गई और मौसम खुशनुमा होने से लोगों को गर्मी व उमस से राहत मिली लेकिन इसके बाद पुन: लोग गर्मी व उमस से बेहाल हो गए। गौरतलब है कि करीब एक पखवाड़े पूर्व अच्छी बारिश हुई थी और इसके बाद बारिश का दौर खत्म हो गया। पिछले कई दिनों लोग बारिश का इंतजार कर रहे थे लेकिन बारिश नहीं हो रही थी। बारिश नहीं होने से किसान भी चिंतित दिखाई देने लगे।

पिछले 2-3 दिनों से आसमान में बादल छाए रहने से लोगों को बारिश की उम्मीद जगी लेकिन बारिश नहीं हुई। मंगलवार दिन में भी कई मर्तबा आसमान में बादल छाए लेकिन बारिश नहीं हुई। शाम करीब 4 बजे एक बार फिर आसमान में काली घटाएं घिर आई। इसके कुछ देर बाद ही बारिश का दौर शुरू हो गया। पहले तो काफी देर तक धीमी गति से बारिश होती रही लेकिन इसके बाद तेज बारिश होने लगी। बारिश के बाद सड़कों पर पानी बह निकला। उदेई मोड़, सालौदा, फव्वारा चौक, नया बाजार में भी सड़कों पर काफी मात्रा में पानी जमा हो गया। बारिश के बाद लोग काफी प्रसन्न दिखाई दिए। बारिश के बाद तापमान में गिरावट आ गई साथ ही मौसम भी खुशनुमा हो गया और लोगों को पिछले कई दिनों से पड़ रही गर्मी व उमस से राहत मिली लेकिन यह राहत कुछ देर तक रही, इसके बाद एक बार फिर गर्मी व उमस से लोग बेहाल हो गए। बारिश से किसानों के चेहरे खिल उठे। पिछले काफी समय से बारिश नहीं होने से किसान बीच में चिंतित दिखाई दिए लेकिन मंगलवार शाम को हुई बारिश से किसान प्रसन्न दिखाई दिए। पहले जहां बारिश नहीं होने से फसलें मुर्झाने लगी थी वहीं मंगलवार शाम हुई बारिश से खरीफ फसलों को नया जीवन मिला। किसानों को अब आगे इसी तरफ अच्छी बारिश की उम्मीद है।

इंद्र देव ने तोडा़ मौन, फसलों को मिला अमृत

बामनवास। सावन का लगभग एक पखवाड़ा सूखा निकल जाने के बाद मंगलवार को उपखंड मुख्यालय सहित आसपास के गांवों में एक बार फिर इंद्र देव मेहरबान हुए तथा क्षेत्र में हल्की बूंदाबादी हुई। दिनभर उमस भरी गर्मी के बाद सायंकाल करीब 5 बजे शुरू हुई बूंदाबांदी से सूखती फसलों को काफी सहारा मिला है। गौरतलब है कि इस समय किसानों ने अपने खेतों में बाजरे, तिल, ज्वार आदि की फसलें बोई है किंतु पिछले पंद्रह दिन से बारिश की बूंद नहीं गिरने से खेतों में उगी फसल लगभग मुरझा गई थी।

खबरें और भी हैं...