पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • कटिहार के कोढा गैंग की दस्तक की सूचना पर बैंकों की सुरक्षा बढ़ी, होटल लाॅज में छापा

कटिहार के कोढा गैंग की दस्तक की सूचना पर बैंकों की सुरक्षा बढ़ी, होटल-लाॅज में छापा

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिले के जामताड़ा और मिहिजाम शहर में कोढा गैंग के अपराधियों के सक्रिय होने की सूचना है। गैंग के शहर में सक्रिय होने की सूचना पर पुलिस रेस हो गई है। पुलिस ने अपराधियों पर लगाम कसने के लिए मंगलवार को शहर के विभिन्न बैंक में गश्ती बढा दिया। गश्ती के लिए दो विशेष टीम का गठन किया गया। गठित टीम का नेतृत्व पुलिस पदाधिकारी नबी हसन और अमजद हुसैन कर रहे थे। इसके अलावे टाइगर मोबाइल के जवान भी विभिन्न बैंक के आसपास गश्त लगा रहे थे। हर संदिग्ध पर विशेष नजर रखीं जा रही थी। गश्ती की दाेनों टीमों ने कायस्थ पाड़ा स्थित स्टेट बैंक, बैंक ऑफ इंडिया, वनांचल ग्रामीण, बैंक ऑफ बड़ौदा, सेंट्रल बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, यूनाईटेड बैंक आॅफ इंडिया, केनरा बैंक, इलाहाबाद बैंक, यूनियन बैंक, एक्सिस बैंक, आईसीआईसीआई, आईडीबीआई समेत सभी बैंकों पर चौकसी बरती गई।

पुलिस ने संदिग्धों की ली तलाशी, शहर में बढ़ाई गश्ती

बाइक समेत अन्य वाहनों की जांच

इस दौरान पुलिस पदाधिकारियों और टाइगर के जवानों द्वारा विशेष रूप से संदिग्ध व्यक्ति की जांच की गई। साथ हीं काले व सफेद रंग के पल्सर और अपाची हाई स्पीड दुपहिया वाहन की भी जांच की गई। हांलाकि पुलिस के हाथ कुछ लगा नहीं है। परंतु पुलिस गैंग के शहर में होने के रिपोर्ट के बाद से काफी सक्रिय है। वहीं दूसरी ओर पुलिस पदाधिकारियों द्वारा देर शाम में शहर के विभिन्न लॉज और होटलों में भी तलाशी ली गई। पुलिस द्वारा स्लम एरिया के लॉज की भी जांच की गई।

किसे बनाता है शिकार : गैंग के सदस्यों का निशाना बुजुर्ग और महिला होती है। बुजुर्ग और महिला जब बैंक से निकासी कर बाहर निकलती है तो तेजी से उनके हाथ से रुपए से भरा बैग झपट लेते हैं और बाईक पर सवार होकर भाग जाते हैं। कटिहार जिले के अठमलगोला थाना क्षेत्र के जोरावनपुर गांव के अधिकांश लोग इस अपराध को अपना व्यवसाय बनाए हुए है। इस गांव की महिलाओं से जब पुरूषों के बारे में पूछा जाता है तो सिर्फ यह बताती है कि पुरूष सदस्य कमाये के लिए गेल है। गैंग के सदस्य बोलचाल में भी काफी पारंगत होते हैं। बैंक में पूछताछ के दौरान गैंग के सदस्य आसानी से सामनेवाले को झांसा भी देते हैं। गैंग के सदस्य बिहार और झारखंड के विभिन्न जिले में अपराध को अंजाम देते हैं।

क्या है कोढा गैंग

कोढा गैंग के अपराधी मूलत: बिहार के कटिहार जिले के जोरावनपुर गांव थाना अठमलगोला के रहनेवाले हैं। गैंग में चार सदस्य होते हैं। जिसमें एक सदस्य उम्रदराज होते हैं।

गैंग के लोगों के आने की सूचना मिली है, सूचना के आधार पर सर्तकता बरती जा रही है। साथ हीं गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। -रवींद्र कुमार सिंह, पुलिस इंस्पेक्टर, जामताड़ा

कैसे देता है अंजाम

गैंग के दो सदस्य बैंक से कुछ दूरी पर बाईक पर सवार होकर रहते हैं जबकि दो सदस्य बैंक के पास रहते हैं। बैंक के पास रहनेवाले सदस्याें में एक सदस्य बाईक पर सवार रहता है और दूसरा बैंक में अपना शिकार ढूढता है।

जामताड़ा व मिहिजाम के 13 सीसीटीवी कैमरे बंद

प्रशासन द्वारा जामताड़ा एवं मिहिजाम शहर में लगाए गए सीसीटीवी कैमरा बंद हैं। ये कैमरा दो वर्ष पूर्व शहर की गतिविधि पर नजर रखने के लिए लगाया गया था। दोनों शहर के प्रमुख 13 स्थानों पर सीसीटीवी कैमरा लगाया गया था। जिसका कंट्रोल एसपी के गोपनीय कार्यालय से होता था। कैमरा के बंद रहने के कारण शहर की गतिविधि पर प्रशासन व पुलिस की नजर नहीं रहती है।

पुलिस की छापेमारी

गिरिडीह पुलिस सोमवार को मिहिजाम पहुंची। जानकारी के अनुसार पुलिस डिक्की से रुपए उड़ाने वाले सरगना की खोज में पहुंची थीं। स्थानीय पुलिस के सहयोग से रात में शहर के कृष्णानगर में छापेमारी किया गया। बताया गया है कि उक्त मकान में गिरोह के सरगना के सदस्य किराया में रहते थे। पुलिस ने डगिरोह के एक सदस्य को भागलपुर से गिरफ्तार किया है।

खबरें और भी हैं...