पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • किशोरी की जानकारी लेने आश्रय बाल गृह पहुंच गए असामाजिक तत्व, भागे

किशोरी की जानकारी लेने आश्रय बाल गृह पहुंच गए असामाजिक तत्व, भागे

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शहर में 13 वर्षीय नाबालिग किशोरी भरनो प्रखंड से 4 अगस्त को गुमला पहुंच गई थी। जिसे जिला प्रशासन ने सीडब्ल्यूसी को सौंप दिया था। सीडब्ल्यूसी के अध्यक्ष शंभू सिंह की पहल पर उसे आश्रय बाल गृह में रखा गया था। जहां दूसरे दिन रविवार को वह बाथरूम जाने के क्रम में गिर गई थी। इसके बाद उसे सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। सोमवार रात को असमाजिक तत्वों ने अस्पताल में पहुंचकर उसके बारे में जानने का प्रयास किया। मंगलवार को 8-10 असामाजिक तत्व आश्रय बाल गृह पहुंचकर वार्डन रूबी किस्कू से किशोरी का आधार कार्ड मांगने लगे। नहीं मिलने पर वार्डन को खरी-खोटी सुनाई। जिसके बाद वार्डन द्वारा इसकी सूचना थाना प्रभारी राकेश कुमार को दी गई। इसी बीच असामाजिक तत्व भाग निकले। जिसके बाद थाना प्रभारी ने आश्रय बाल गृह जाकर वार्डन से पूछताछ की। अस्पताल में किशोरी से भी बात करने का प्रयास किया गया। वार्डन ने बताया कि किशोरी भरनो प्रखंड के लोंगा गांव की रहने वाली है। उसके परिवार वालों को सूचना भेजवाने का प्रयास किया जा रहा है। नवंबर 2017 में किशोरी घर से भाग कर यहां आई थी। जिसे उसके माता-पिता को सुपुर्द सीडब्ल्यूसी के समक्ष कर दिया गया था। वार्डन के अनुसार किशोरी बताती है कि माता-पिता के प्रताड़ना से वह बार-बार घर से भागती है। थाना प्रभारी ने बताया कि अस्पताल में सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

खबरें और भी हैं...