पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • अधीक्षक बोले शिकायत का क्यों इंतजार करूं, कमियां दिख रही हैं, सिस्टम सुधारें

अधीक्षक बोले- शिकायत का क्यों इंतजार करूं, कमियां दिख रही हैं, सिस्टम सुधारें

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जेएच के अधीक्षक डॉ. जेएस सिकरवार ने मंगलवार को निरीक्षण के दौरान ओपीडी में ईएनटी विभाग के प्रोफेसर डॉ. बीपी नार्वे कक्ष में खाली बैठे थे। यह देखकर अधीक्षक बोले सभी विभागों में कंसल्टेंट मरीज देख रहे हैं और उनके यहां मरीजों की भीड़ है और आप खाली बैठे हैं क्या मरीज नहीं आते हैं? डॉ.नार्वे बोले, पीजी देख रहे हैं वे रैफर करते हैं तब मरीज यहां आता है। अधीक्षक बोले, पीजी यह कैसे डिसाइड कर सकता है कि मरीज को क्या इलाज देना है सीनियर कंसल्टेंट काे देखना चाहिए। अन्य विभागों के सीनियर कंसल्टेंट भी तो मरीज देखते हैं, आप क्यों नहीं देखेंगे। डॉ. नार्वे बाेले- हमारे यहां उनकी तरह के केस नहीं आते हैं। आपको कभी शिकायत मिली हो तो बताएं। अधीक्षक ने कहा शिकायत आने का इंतजार क्यों करूं मुझे खुद कमी दिखाई दे रही है। मैं कुछ नहीं जानता आपके यहां का सिस्टम ठीक नहीं है,इसे सुधारें।

अस्पताल अधीक्षक सबसे पहले सुबह 9:30 बजे ब्लड बैंक गए जहां व्यवस्थाएं ठीक मिलीं। इसके बाद वे सेंट्रल पैथोलॉजी लैब पहुंचे। यहां सिर्फ 6 ब्लड कलेक्शन देख वे कर्मचारी पर नाराज होकर बोले-ओपीडी में 682 पर्चे सुबह 9 बजे तक कट चुके हैं और आपके यहां सिर्फ 6 मरीज के सैंपल ही हुए हैं। साढ़े नौ बजे काम शुरू कर रहे हो,जबकि सवा आठ बजे ही काम शुरू हो जाना चाहिए। सबसे ज्यादा शिकायतें आपके यहां से ही आती हैं कि कभी रिपोर्ट नहीं मिल रही है तो कभी सैंपल देर से लिया जा रहा है। ड्यूटी टाइम 8 बजे का है तो उसी टाइम पर आइए वरना कार्रवाई के लिए तैयार रहो,यदि साढ़े नौ बजे ही काम शुरू करना है तो शाम 5 बजे जाओगे। डॉक्टर के प्राइवेट रूम की चाबी कोई डॉक्टर कैसे रख सकता है। इसे खुलवाकर मुझे बताओ वरना ताला तुड़वा दिया जाएगा। इसके बाद वे ओपीडी पहुंचे जहां डॉ. धर्मेंद्र तिवारी मरीज देख रहे थे। उनके बगल का कमरा बंद था। पूछने पर डॉ. तिवारी ने बताया कि उनके विभाग के 6 असिस्टेंट प्रोफेसर नौकरी छोड़ गए हैं, नए की भर्ती होनी है इसलिए खाली हैं।

जेएएच का निरीक्षण करते अधीक्षक डॉ. जेएस सिकरवार।

खबरें और भी हैं...