पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • जहर खाने से नवविवाहिता की मौत पिता बोले ससुरालियों ने मार डाला

जहर खाने से नवविवाहिता की मौत पिता बोले- ससुरालियों ने मार डाला

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ग्वालियर थाना क्षेत्र के अंतर्गत एक नवविवाहिता की मौत का मामला सामने आया है। महिला की मौत पर पिता ने ससुराल वालों पर दहेज के लिए प्रताड़ित करने और हत्या का आरोप लगाया है। वहीं ससुराल वालों का कहना है कि रात को उसने आत्महत्या करने के लिए जहर खा लिया और अस्पताल में मौत हो गई। ससुराल वाले आत्महत्या का कारण नहीं बता सके। मृतका का पति घटना के बाद से ही गायब हैै। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है।

आलमपुर के पास स्थित ग्राम खूजा में रहने वाले राजेन्द्र सिंह की बेटी हेमलता (25) की शादी पिछले साल 18 फरवरी को ग्वालियर के गोसपुरा क्रमांक-1 में रहने वाले सौरभ पुत्र सुमेर सिंह राजपूत से हुई थी। राजेन्द्र सिंह ने बताया कि शादी के एक माह बाद ही यह लोग आए दिन दहेज की मांग करते थे। करीब 20 लाख रुपए की शादी की थी, इसके बाद भी दहेज मांगते थे। फिर बेटी की मारपीट करने लगे। इसके चलते 4 लाख रुपए और दे दिए। शुक्रवार सुबह सौरभ ने उनके बड़े दामाद को फोन पर कहा कि हेमलता की तबीयत खराब हो गई है। यह लोग जब ग्वालियर आए तो उसकी मौत हो चुकी थी। शव पीएम हाउस में मिला। इसके बाद सौरभ गायब हो गया। राजेन्द्र ने बताया कि पहले तबीयत खराब होने की बात कह रहे थे फिर खुदकुशी करने की बात कहने लगे। ससुराल वालों ने उनकी बेटी की हत्या की है। उधर, सुमेर सिंह का कहना है कि हेमलता अपने कमरे में सो रही थी। रात करीब 3 बजे वह पानी पीने उठी और इसके बाद उसने जहरीला पदार्थ खा लिया। इसके बाद झटके के साथ सांसें चलीं और उल्टी होने लगी। इस पर उसे अस्पताल ले गए। निजी अस्पताल से उसे जेएएच रैफर कर दिया। जहां उसकी मौत हो गई। हेमलता के मायके वालों ने पीएम हाउस पर हंगामा भी किया। वे लोग पैनल से पीएम कराने की मांग कर रहे थे। पुलिस जब पहुंची तो किसी तरह शांत हुए।

झूठ बोला कि नौकरी करता है, बाद में पता लगा जुआरी है, बेटी नशे की लत पूरी करने करती थी नौकरी: राजेन्द्र सिंह ने बताया कि सुमेर सिंह मालनपुर स्थित एक फैक्टरी में नाैकरी करते हैं। शादी जब तय करने गए थे तो उन्होंने झूठ बोला था कि उनका बेटा नौकरी करता है। शादी के बाद पता लगा कि वह शराब पीने का आदी है और जुआ खेलता है। जुआ खेलने के लिए वह दहेज की मांग करता था। इसके बाद भी 4 लाख रुपए दे दिए। फिर और पैसे मांगने लगा तो बेटी नौकरी करने लगी। जो कमाती थी, उसे ही देती थी। इसके बाद भी उसने बेटी की जान ले ली।

हेमलता

पीएम हाउस के बाहर खड़े गमगीन परिजन।

पुलिस ने नहीं सुनी, मुझे भगा दिया
राजेन्द्र ने बताया कि बेटी की मौत होने के बाद वह पहले हजीरा फिर ग्वालियर थाना पहुंचा लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई। इसके बाद एसपी ऑफिस गया तब पुलिस अधिकारी पहुंचे।

खबरें और भी हैं...