पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • हरियाणा रोडवेज के कर्मचारियों के चक्का जाम का असर

हरियाणा रोडवेज के कर्मचारियों के चक्का जाम का असर

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
परिवहन विभाग के कर्मचारियों की हड़ताल का मंगलवार को खासा नजर आया। विभाग के सब डिपो की 49 बसों में से एक भी बस स्टैंड से बाहर नहीं निकली। सभी बसों के चक्के पूरे दिन जाम रहे। बस स्टैंड पर अन्य दिनों की तुलना में हालांकि यात्रियों की संख्या कम देखने को मिली, लेकिन जो लोग पहुंचे उन्हें इधर-उधर भटकना पड़ा। चक्के जाम से प्राइवेट बस संचालकों ने जमकर चांदी कूटी तो परिवहन विभाग को चार लाख रुपए का घाटा उठाना पड़ा।

रोड ट्रांसपोर्ट एंड सेफ्टी बिल के माध्यम से देश के सार्वजनिक परिवहन क्षेत्र का निजीकरण करने, विभागों में आउटसोर्सिंग करने, ठेका प्रथा को बढ़ावा देने व श्रम कानूनों में मजदूर विरोधी बदलाव करने के खिलाफ हरियाणा रोडवेज के कर्मचारियों ने मंगलवार को पूर्ण रूप से रोडवेज बसों का चक्का जाम किया। चक्का जाम के दौरान यात्रियों का काफी परेशानी उठानी पड़ी। वहीं, प्राइवेट बसों को बस स्टैंड के अंदर तक नहीं घुसने दिया। उम्मीद थी कि देर शाम या रात के समय लंबी दूरी की कुछ बसें चल सकती हैं। लेकिन कोई बस नहीं चली। यात्री पूर्ण रुप से प्राइवेट बसों पर निर्भर रहे।

कर्मचारियों की हड़ताल सुबह चार बजे से ही शुरू हो गई थी। कर्मचारियों ने सुबह चार बजे दिल्ली जाने वाली बस को बस स्टैंड परिसर से नहीं निकाला। वहीं पूर दिन पुलिस प्रशासन की नजर भी कर्मचारियों पर टिकी रही। हरियाणा कर्मचारी महासंघ के प्रधान विजयपाल ने बताया कि कई डिपो पर वर्ष 2016 के भर्ती किए हुए कर्मचारियों को दबाव देकर बुलाया गया है व उनके टर्मिनेशन लैटर जारी किए गए हैं। ऐसे में उन डिपो पर अनिश्चितकालीन हड़ताल रहेगी। जब तक सरकार उनके टर्मिनेशन लैटर रद्द नहीं करती। उन्होंने कहा कि हांसी सब डिपो से किसी कर्मचारी को टर्मिनेट करने की बात अभी तक जानकारी में नहीं आई है। अगर ऐसा हुआ तो यहां भी हड़ताल जारी रहेगी। चालक, परिचालक सहित स्टैंड इंचार्ज, डीआई, वर्कशॉप के कर्मचारी भी हड़ताल में शामिल रहे।

हड़ताली कर्मचारियों ने प्राइवेट बसों को बस स्टैंड के अंदर नहीं घुसने दिया, यात्री पूरी तरह से प्राइवेट बसों पर निर्भर रहे

49 बसों के थमे पहिए, 225 कर्मचारी हड़ताल पर, रोडवेज को 4 लाख का नुकसान, कई रूटों पर दौड़ीं प्राइवेट बसें

सवारियों की मजबूरी का फायदा उठाकर ऑटो चालकों ने भी वसूला मनमर्जी का किराया

हड़ताल के दौरान सिर पर सामान लाद कर बसों के लिए भटकतीं महिला यात्री।

बरवाला में भी हड़ताल का रहा असर, दिनभर सड़कों पर दौड़ीं परिवहन समिति की बसें

बरवाला| हरियाणा रोडवेज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वान पर रोडवेज के चक्के जाम का असर शहर में भी देखने को मिला। रोडवेज कर्मियों की हड़ताल के चलते दिन भर सरकारी बसें बस अड्डा परिसर में ही खड़ी रहीं, जबकि बस अड्डे के दोनों गेट पर ताला होने के चलते जहां सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस पीसीआर बस अड्डे के गेट पर तैनात रही। वहीं, परिवहन समिति की बसें भी बस अड्डे के अंदर प्रवेश नहीं कर पाई। वह बाहर से सवारियां लेकर अपने गंतव्य के लिए चलती रहीं। शहर से प्राइवेट बसों के अलावा अन्य राज्यों की बसें भी गुजरीं। इसके अलावा मंगलवार को प्राइवेट वाहनों ने भी हरियाणा रोडवेज के बंद का खूब फायदा उठाया। वहीं, परिवहन समिति की बसों में यात्रियों को लटक कर व इनकी छतों पर बैठकर अपने गंतव्य तक पहुंचना पड़ा। हरियाणा रोडवेज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति ने मोटर व्हीकल संशोधन बिल 2017 को रद्द करवाने व सरकार द्वारा 700 बसें ठेके पर लेने के विरोध सहित अन्य कई मांगों को लेकर हड़ताल रखी।

बरवाला बस अड्डे के बाहर खड़ी पीसीआर वैन।

खबरें और भी हैं...