पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • तीन अवैध वाटर प्लांट किए गए सील बिना ट्रेड मार्क के बेचा जा रहा था पानी

तीन अवैध वाटर प्लांट किए गए सील बिना ट्रेड मार्क के बेचा जा रहा था पानी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नगर पंचायत क्षेत्र में तीन अवैध वाटर सप्लाई प्लांट को मंगलवार को सील कर दिया गया है। हुसैनाबाद शहर के जपला चौबे में शकील एक्वा, मधुशाला रोड के आरपी एक्वा व बगीचा के तृप्ति वाटर प्लांट को बिना ट्रेड मार्क लिए हुए वर्षों से अवैध तरीके से संचालित कर शहर में पानी बेचने का काम किया जा रहा था।

हुसैनाबाद अनुमंडल पदाधिकारी सह नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी कुंदन कुमार के निर्देश के आलोक में हुसैनाबाद अनुमंडल दंडाधिकारी परमेश्वर कुशवाहा व नगर प्रबंधक प्रभात कुमार ने अचानक प्लांट में पहुंचकर निरीक्षण किया और पानी प्लांट से संबंधित विभिन्न दस्तावेज की मांग की तो वाटर प्लांट के संचालक कोई दस्तावेज नहीं प्रस्तुत कर पाए। इसलिए अधिकारियों ने तीनों प्लांट को सील कर कर दिया। उल्लेखनीय है कि गर्मी के दिनों में वाटर प्लांट के इर्द गिर्द सैकड़ों घरों के चापाकल के पानी का जलस्तर आवश्यकता से अधिक नीचे चले जाने के कारण लोगों ने शिकायत की थी।

नगर अध्यक्ष और पार्षदों ने शहर में संचालित सभी पानी प्लांट के दस्तावेज की जांच करते हुए प्लांट को शीघ्र बंद करने का निर्देश दिया था। बावजूद इसके वाटर प्लांट को चालू कर पानी बेचने का कार्य धड़ल्ले से जारी था। इस संबंध में नगर पंचायत के सिटी मैनेजर प्रभात कुमार ने बताया कि शहर में कई अवैध रूप से वाटर सप्लाई प्लांट चलने की सूचना मिल रही थी। इन वाटर सप्लाई प्लांट चलाने वालों के पास नगर पंचायत से ट्रेड लाइसेंस नहीं लिया गया था। इस कारण नगर पंचायत को राजस्व के साथ गर्मी के मौसम में प्लांट में डीप बोरवेल के कारण आस-पास के शहरवासियों को पानी की किल्लत का सामना करना पड़ता था। मौके पर नगर पंचायत के लिपिक रविकांत पटेल, धीरज गुप्ता, अशोक गुप्ता, सहित कई अन्य कर्मी मौजूद थे।

हुसैनाबाद वाटर सप्लाई प्लांट को सील करते नगर पंचायत के सिटी मैनेजर प्रभात कुमार।

ट्रेड मार्क के बाद ही प्लांट कर सकते हैं संचालित: नपं अध्यक्ष

नगर पंचायत अध्यक्ष शशि कुमार ने कहा कि नगर पंचायत से आदेश लिए बिना अवैध रूप से वाटर प्लांट लगाकर पानी बेचने का कारोबार किया जा रहा था। इससे लोगों को गर्मी के दिनों में परेशानी होती थी। उन्होंने कहा कि ट्रेड मार्क और वाटर हार्वेस्टिंग का आदेश लेने के बाद ही पानी का प्लांट संचालित होगा।

महंगे दामों पर बिकता था पानी

हुसैनाबाद शहर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में दर्जनों अवैध रूप से वाटर प्लांट लगाकर पानी बेचने का धंधा जोर शोर से जारी है। प्लांट के संचालक प्रति जार 20 से लेकर 30 रुपए में उपलब्ध कराते हैं। इस प्रकार प्रति दिन लाखों लीटर पानी निकालकर बाजारों में बेचा जाता था।

खबरें और भी हैं...