पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • ब्लैंक चेक देते हुए उस सिंगर ने कहा, जितनी चाहो कीमत ले लो, नाक का शेप मुझे मनमाफ़िक चाहिए

ब्लैंक चेक देते हुए उस सिंगर ने कहा, जितनी चाहो कीमत ले लो, नाक का शेप मुझे मनमाफ़िक चाहिए

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लंदन के राइनोप्लास्टी सर्जन डॉ. संदीप पाउल के पास नाक का आकार बदलवाने बॉलीवुड-हॉलीवुड के सेलिब्रिटीज़ भी जाते हैं। हालांकि उनकी निजता के चलते वे नाम नहीं बताते हैं। शुक्रवार को डॉ. पाउल इंदौर आए। सर्जरी की नई तकनीक और कुछ रोचक अनुभव भी सुनाए। इन किस्सों में लोगों में लुक्स के लिए ऑब्सेशन नज़र आता है जो हैरत में डालता है। डॉ. पाउल ने बताया आजकल स्ट्रगलिंग एक्टर्स काफी आ रहे हैं। प्रोड्यूसर्स खुद उन्हें लेकर आते हैं और बताते हैं कि उन्हें कैसी नाक चाहिए। सेलिब्रिटीज के पास बहुत सारे लोग होते हैं, जैसे स्टाइलिस्ट, फोटोग्राफर्स, यही उन्हें बताते हैं कि ऐसा करा लेंगे तो लुक्स और बेहतर हो जाएंगे। खासतौर पर न्यू कमर्स पर प्रेशर होता है। नोज सर्जरी करवा लो तब हम आपको कास्ट करेंगे। न चाहते हुए भी उन्हें सर्जरी करवाना पड़ती है। बॉलीवुड में ये ट्रेंड सबसे ज्यादा है।

डॉक्टर साहब किस्सागो कमाल के हैं। राइनोप्लास्टी की नई तकनीकों की जानकारी के साथ नाक का शेप बदलवाने आए उनके कुछ पेशेंट्स के किस्से सुनाए उन्होंने। दो वाकए आप भी पढ़िए।

डॉ. संदीप पाउल

जापान के एक फेमस सिंगर आए मेरे पास। वे नाक के आकार में इस तरह के बदलाव चाहते थे, जो उनके फेस पर करना उचित न थे। मैंने सर्जरी करने से इनकार कर दिया। उनके एजेंट ने मेरे सामने ब्लैंक चेक रख दिया। कहाजितनी कीमत चाहो लिख दो। लेकिन मैंने फिर भी मना कर दिया। कहा जो बदलाव ये चाहते हैं, वे अनावश्यक और अनुचित हैं।



बॉलीवुड के एक मशहूर प्रोड्यूसर एक यंग एक्ट्रेस को लेकर मेरे पास आए। कहा सर्जरी करवाना है। उन्हें सब बताया कैसा शेप चाहिए, कब सर्जरी प्लान करना है। लेकिन वो लड़की कुछ नहीं बोल रही थी। मैंने सभी को बाहर भेज लड़की से बात की। उसने कहा वो सर्जरी नहीं कराना चाहती लेकिन प्रोड्यूसर के कहने पर वो करा रही है।

केस-1

केस-2

डॉ. संदीप ने बताया कि लंदन सहित दुनिया के कई देशों में अब नॉन-सर्जिकल प्रोसेस को तरजीह दी जा रही है। पिछले कुछ सालों से यही ट्रेंड चल रहा है। इसके पीछे दो मुख्य कारण हैं। पहला बड़ी सर्जरीज़ में पैसे ज़्यादा लगते हैं, जिसकी वजह से कुछ ही लोग ही ये सर्जरी करा पाते हैं। दूसरा यह कि आजकल लोगों के पास समय नहीं है। वो ऐसा कोई काम नहीं करना चाहते जिसकी वजह से उन्हें 2-3 हफ्तों तक घर बैठना पड़े। हालांकि नॉन सर्जिकल प्रोसेस के रिज़ल्ट की लाइफ एक साल ही होती है। स्पेशल ओकेज़न के लिए फेस पर कोई चेंजेस करवाना है तो नॉन सर्जिकल प्रोसेस ज़्यादा सही है।

अब नॉन सर्जिकल प्रोसीजर कर रहे डॉक्टर्स
खबरें और भी हैं...