पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • दुर्घटना कानून में सख्ती के विरोध में ड्राइवर कंडक्टर्स ने की हड़ताल, 400 से ज्यादा बसें रहीं बंद

दुर्घटना कानून में सख्ती के विरोध में ड्राइवर-कंडक्टर्स ने की हड़ताल, 400 से ज्यादा बसें रहीं बंद

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
दुर्घटना से जुड़े कानून को सख्त किए जाने के विरोध में इंदौर सहित कई शहरों में मंगलवार को बस ड्राइवर और कंडक्टरों ने बसों की हड़ताल कर दी। कई मार्गों पर बसों का संचालन बंद रहा, जिससे हजारों यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। हड़ताल के चलते इंदौर में खंडवा, खरगोन, सेंधवा, मनावर रूट की बसें बंद रही। इससे करीब 400 बसों का संचालन बंद रहा और यात्रियों को वापस लौटना पड़ा। प्राइम रूट बस ऑनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष गोविंद शर्मा ने बताया कि बस ड्राइवरों द्वारा इस संबंध में कोई समर्थन नहीं मांगा और हड़ताल कर दी, इसलिए बस संचालक चाहकर भी बसें नहीं चला पाए। वहीं ड्राइवरों का कोई विशेष संगठन ना होने से एकजुटता भी नजर नहीं आई और इंदौर से भोपाल, हरदा, होशंगाबाद, देवास, शाजापुर, उज्जैन, धार, झाबुआ जैसे मार्गों पर बसों का संचालन सामान्य रहा। उन्होंने बताया कि इस संबंध में बस एसो. ड्राइवरों से चर्चा करेगी।

छह साल सजा और 50 हजार रुपए जुर्माने का है प्रावधान

हड़ताल कर रहे ड्राइवरों द्वारा बताया गया कि शासन द्वारा बनाए गए कानून के तहत सड़क दुर्घटना में सारी जिम्मेदारी ड्राइवर की होगी और दुर्घटना के मामले में उसे छह साल का कारावास और 50 हजार जुर्माने की सजा होगी। जमानत भी थाने के बजाए कोर्ट से होगी। इस नियम से बीमा कंपनियां भी बीमा नहीं देगी, जिसका भार भी ड्राइवर कंडक्टर पर पड़ेगा। ड्राइवर-कंडक्टर लंबे समय से इन नियमों का विरोध कर रहे हैं।

भास्कर संवाददाता | इंदौर

दुर्घटना से जुड़े कानून को सख्त किए जाने के विरोध में इंदौर सहित कई शहरों में मंगलवार को बस ड्राइवर और कंडक्टरों ने बसों की हड़ताल कर दी। कई मार्गों पर बसों का संचालन बंद रहा, जिससे हजारों यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। हड़ताल के चलते इंदौर में खंडवा, खरगोन, सेंधवा, मनावर रूट की बसें बंद रही। इससे करीब 400 बसों का संचालन बंद रहा और यात्रियों को वापस लौटना पड़ा। प्राइम रूट बस ऑनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष गोविंद शर्मा ने बताया कि बस ड्राइवरों द्वारा इस संबंध में कोई समर्थन नहीं मांगा और हड़ताल कर दी, इसलिए बस संचालक चाहकर भी बसें नहीं चला पाए। वहीं ड्राइवरों का कोई विशेष संगठन ना होने से एकजुटता भी नजर नहीं आई और इंदौर से भोपाल, हरदा, होशंगाबाद, देवास, शाजापुर, उज्जैन, धार, झाबुआ जैसे मार्गों पर बसों का संचालन सामान्य रहा। उन्होंने बताया कि इस संबंध में बस एसो. ड्राइवरों से चर्चा करेगी।

खबरें और भी हैं...