पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • बेटा चाहत बार बार चिल्ला रहा था...मम्मी रेस्ट कर रही है...प्लीज मुझे उससे मिला दो

बेटा चाहत बार-बार चिल्ला रहा था...मम्मी रेस्ट कर रही है...प्लीज मुझे उससे मिला दो

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर। बजाजनगर महालेखाकार कॉलोनी में आईआरएस बिन्नी शर्मा के सुसाइड से बजाज नगर एनक्लेव कॉलोनी और विभाग में हर कोई स्तब्ध है। हर किसी की आंखें नम थी। मकान नंबर वी-7 में बिन्नी शर्मा के परिजनों को सांत्वना देने आई भीड़ में चाहत का मासूम चेहरा भी था। उसे तो यह भी पता नहीं था कि मां अब नहीं रही। बिन्नी के बड़े बेटे चाहत वालिया का बुरा हाल था। घर में जो भी परिचित आता वह उससे लिपटकर कहता - मेरी मम्मी रूम में रेस्ट कर रही हैं, मुझे उनसे मिलना है। मुझे मेरी मम्मी के पास ले चलो। जब बिन्नी का शव मुर्दाघर से घर पर पहुंचा तो चाहत को परिजन बाहर ले आए। परिजन चाहत को यह कहकर दिलासा देते रहे मम्मी बीमार है, डॉक्टर उन्हें देखने आया है। घर से बिन्नी की अर्थी उठी तो चाहत दौड़कर शव के पास पहुंच गया। वह परिजनों पर चिल्लाने लगा-मेरी मम्मी को मत ले जाओ, मैं भी साथ चलूंगा। चाहत की हालत देखकर वहां मौजूद हर शख्स की आंखें भर आई। जैसी ही अर्थी उठी, घर में कोहराम सा मच गया। बिन्नी के डेढ़ साल के मुकुंद को तो अभी जिंदगी और माैत का मतलब भी नहीं पता। जब भी मुकुंद की निगाह कमरे में रखे अपनी मां के शव पर जाती उसके मुंह से तेज चीख निकल पड़ती। बिलखते मुकुंद को कभी दादी तो कभी मौसी गोद में लेकर शांत कराती। दूसरी ओर, कॉलोनी के लोगों ने बताया बजाजनगर थाना पुलिस सुबह 7 बजे बिन्नी के घर पर पहुंची तो जानकारी मिली।

खबरें और भी हैं...