पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • अब चांधन के किसानों को दूसरी जगह जाकर नहीं बेचनी होगी अपनी पैदावार

अब चांधन के किसानों को दूसरी जगह जाकर नहीं बेचनी होगी अपनी पैदावार

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जैसलमेर के ग्राम चांधन क्षेत्र के किसानों द्वारा विधायक छोटू सिंह भाटी से यह मांग की जा रही थी कि ग्राम चांधन में कृषि मंडी की स्थापना की जाए जिससे की क्षेत्र के किसानों को उनकी उपज का उचित मूल्य प्राप्त हो सके। चांधन क्षेत्र में करीब 1 हजार ट्यूवबेल है और इस क्षेत्र में अत्यधिक मात्रा में मूंगफली, रायडा, मूंग, मोठ, ग्वार, तिल का उत्पादन किसानों द्वारा किया जाता है लेकिन कृषि मंडी नहीं होने के कारण बाहरी या स्थानीय व्यापारियों द्वारा अपने हिसाब से कीमत तय की जाती है या किसानों को आस पास की मंडियों में अपनी पैदावार बेचने के लिए भेजी जाती है।

किसानों की समस्या काे देखते हुए विधायक छोटू सिंह भाटी के प्रयासों से राज्य सरकार ने अपनी अधिसूचना में ग्राम चांधन में कृषि उपज मंडी समिति जैसलमेर के अधीन गौण मंडी यार्ड चांधन की स्थापना की घोषणा की है। साथ ही चांधन से धायसर रोड़ पर कृषि मंडी के लिए 70 बीघा भूमि भी राज्य सरकार द्वारा आवंटित कर दी गई है। भूमि की कीमत कृषि मंडी द्वारा राजकोष में जमा करवा दी गई है। अब कृषि मंडी द्वारा जल्द ही कब्जा लेकर चार दीवार व उसके बाद कृषि मंडी का काम शुरु करवा दिया जाएगा।



राज्य सरकार की अधिसूचना में गौण मंडी यार्ड चांधन की स्थापना की गई है तथा कलेक्टर के आदेश द्वारा चांधन धायसर रोड़ पर मंडी समिति को 70 बीघा भूमि आवंटित की गई है। शीघ्र ही भूमि का कब्जा प्राप्त कर मंडी यार्ड का निर्माण प्रारंभ करते हुए मंडी यार्ड में सभी आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध करा मंडी का संचालन प्रारंभ कर दिया जाएगा। -रजनीशसिंह, सचिव, कृषि मंडी

खबरें और भी हैं...