पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 2011 के बाद निकली स्टेनोग्राफर की भर्ती, इस बार परीक्षा एजेंसी भी बदली

2011 के बाद निकली स्टेनोग्राफर की भर्ती, इस बार परीक्षा एजेंसी भी बदली

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जैसलमेर | प्रदेश में स्टेनोग्राफर के पदों के लिए वर्ष 2011 के बाद अब भर्ती निकली है। इस बार भर्ती परीक्षा एजेंसी भी बदल गई है। अब इस भर्ती परीक्षा के आयोजन का जिम्मा राजस्थान लोक सेवा आयोग के स्थान पर राजस्थान मंत्रालयिक एवं सेवा चयन बोर्ड के सुपुर्द किया गया है। इस बार कुल 1085 पदों पर भर्ती होनी है। अब आयोग को भी स्टेनोग्राफर का चयन बोर्ड ही करके भेजेगा।

अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड ने स्टेनोग्राफर के कुल 1085 पदों में से 1033 नॉन टीएससी एरिया के लिए और 52 पद टीएसपी के लिए आरक्षित किए हैं। कुल 1085 पदों में से शासन सचिवालय के लिए 70, आरपीएससी के लिए 5 और अधीनस्थ कार्यालयों व विभागाें के लिए 1010 पदों पर भर्ती होनी है। बोर्ड इस परीक्षा के लिए सितंबर या अक्टूबर में परीक्षा का आयोजन कर सकता है। प्रदेश में आयोग ने अंतिम बार स्टेनोग्राफर के 606 पदों के लिए आवेदन प्रक्रिया 6 सितंबर 2011 को शुरू की थी। इन 606 पदों में शासन सचिवालय के लिए 50 और सचिवालय के ही मंत्रालयिक कर्मचारियों के लिए 50 तथा अधीनस्थ कार्यालयों के लिए 506 पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू की गई थी। 2013 में पहले चरण की परीक्षा संपन्न हुई। द्वितीय चरण की परीक्षा में भी करीब साल भर लग गया।

कंप्यूटर की फर्जी डिग्री देने पर 11 को आयोग ने किया था डीबार | स्टेनोग्राफर भर्ती 2011 शुरू से ही विवादों में रही। मामला कोर्ट तक भी गया। इस परीक्षा में जोधपुर नेशनल यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर की फर्जी डिग्री लगाने पर आयोग ने 22 अगस्त 2017 को 11 अभ्यर्थियों को डी बार किया था। इससे पूर्व भी विभिन्न कारणों के चलते इस परीक्षा का मामला कोर्ट में पहुंचा था।

खबरें और भी हैं...