पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • नैतिक शिक्षा के बगैर देश की स्कूली शिक्षा अधूरी : डॉ. बेदी

नैतिक शिक्षा के बगैर देश की स्कूली शिक्षा अधूरी : डॉ. बेदी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
विद्या धाम में चल रही है विद्या भारती की जनरल मीटिंग।

सिटी रिपोर्टर | जालंधर

‘आज अपना देश बदलाव के दौर से गुजर रहा है। वैश्विक स्तर पर भी यह परिवर्तन का दौर स्पष्ट दिखाई दे रहा है। इस दौर में शिक्षा ही एकमात्र संबल है। जिस मात्रा में हम अपनी स्कूली शिक्षा में गुणवत्ता लाएंगे, उसी अनुपात में देश भी प्रगति की ओर जाएगा।

स्कूली शिक्षा ऐसी हो, जिसके द्वारा अपने बच्चों को हमारी विरासत की जानकारी मिले।’ ये बातें सेंट्रल यूनिवर्सिटी धर्मशाला के चांसलर एचएस बेदी ने गुरु गोबिंद सिंह एवेन्यू स्थित विद्या धाम में आयोजित दो दिवसीय जनरल मीटिंग के उद्‌घाटन सत्र में कही। उन्होंने कहा कि हमारे बच्चों को सबसे ज्यादा जरूरत नैतिक शिक्षा की है। हमें यह स्पष्ट रूप से समझना होगा कि यह नैतिक शिक्षा पुस्तकों से नहीं बल्कि आचरण की पवित्रता व संस्कारों से प्राप्त होगी। विद्वान प्रो. एलन की पुस्तक से उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि भविष्य गत भारत का चित्र भारत के स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के चेहरे पर लिखा है। स्कूली शिक्षा में बदलाव से ही सामाजिक क्रांति आएगी। बता दें कि विद्या भारती पंजाब में इस साल चुनाव होने वाले हैं। पिछली कार्यकारिणी का समय पूरा हो चुका है और प्रांतीय सदस्यों द्वारा नई कार्यकारिणी का चयन किया जाना है। यह साधारण सभा रविवार को दोपहर दो बजे तक चलेगी।

स्कूली बच्चों को प्राचीन विरासत से अवगत करवाना बेहद जरूरी

खबरें और भी हैं...