पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • वाकिंग प्लाजा शुरू, चार घंटे बंद रहेगी माल रोड

वाकिंग प्लाजा शुरू, चार घंटे बंद रहेगी माल रोड

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
माल रोड पर बंद की गई वाकिंग प्लाजा सर्विस सेना ने दोबारा शुरू कर दी है। अब रोजाना सुबह-शाम 5 से 7 बजे तक माल रोड पर सिविल और सेना दोनों के वाहनों की एंट्री बैन रहेगी। नव नियुक्त प्रेजिडेंट कैंट बोर्ड एसएस बालाजी की अध्यक्षता में मंगलवार को यह फैसला पार्षद संजीव त्रेहन व पार्षद पुनीत कौर चड्‌ढा द्वारा दिए मोशन पर किया गया। यह फैसला दिलचस्प इसलिए हो गया कि रक्षा मंत्रालय के नए आदेशानुसार आर्टिकल 258 के तहत कोई भी सड़क बंद करने के लिए एलएमए को बोर्ड से मंजूरी लेनी जरूरी कर दी गई है। पीसीबी के मार्फत एलएमए माल रोड तो बंद करवाने में सफल हो ही गई जबकि इसके ठीक उलट बोर्ड मीटिंग के ही एक अन्य मोशन में इसी आर्टिकल के तहत बंद सड़कों के मुद्दे पर पीसीबी ने रक्षा मंत्रालय के ट्रैफिक बायलॉज संबंधी आई ताजा नोटिफिकेशन का हवाला देकर चर्चा ही नहीं की। उन्होंने मीटिंग में कहा कि जब तक नई पॉलिसी नहीं आ जाती, मौजूदा स्थिति यथावत रहेगी।

बोर्ड मीटिंग

नई पॉलिसी को लेकर आई चिट्‌ठी की सूचना बोर्ड को नहीं भेजी, उपाध्यक्ष ने जताया विरोध

मीटिंग में आर्टिकल 258 पर दिए मोशन को नई पॉलिसी का हवाला दे टाल गए पीसीबी

एसएस बालाजी की अध्यक्षता में हुई मीटिंग।

बलबीर बाली | जालंधर कैंट

माल रोड पर बंद की गई वाकिंग प्लाजा सर्विस सेना ने दोबारा शुरू कर दी है। अब रोजाना सुबह-शाम 5 से 7 बजे तक माल रोड पर सिविल और सेना दोनों के वाहनों की एंट्री बैन रहेगी। नव नियुक्त प्रेजिडेंट कैंट बोर्ड एसएस बालाजी की अध्यक्षता में मंगलवार को यह फैसला पार्षद संजीव त्रेहन व पार्षद पुनीत कौर चड्‌ढा द्वारा दिए मोशन पर किया गया। यह फैसला दिलचस्प इसलिए हो गया कि रक्षा मंत्रालय के नए आदेशानुसार आर्टिकल 258 के तहत कोई भी सड़क बंद करने के लिए एलएमए को बोर्ड से मंजूरी लेनी जरूरी कर दी गई है। पीसीबी के मार्फत एलएमए माल रोड तो बंद करवाने में सफल हो ही गई जबकि इसके ठीक उलट बोर्ड मीटिंग के ही एक अन्य मोशन में इसी आर्टिकल के तहत बंद सड़कों के मुद्दे पर पीसीबी ने रक्षा मंत्रालय के ट्रैफिक बायलॉज संबंधी आई ताजा नोटिफिकेशन का हवाला देकर चर्चा ही नहीं की। उन्होंने मीटिंग में कहा कि जब तक नई पॉलिसी नहीं आ जाती, मौजूदा स्थिति यथावत रहेगी।

बोर्ड उपाध्यक्ष सुरेश भारद्वाज ने नोटिफिकेशन मीटिंग में ही रखे जाने पर कड़ी आपत्ति दर्ज करवाते हुए कहा कि यदि यह नोटिफिकेशन सब एरिया के पास थी तो बतौर पीसीबी इसे कैंट बोर्ड को उसी समय इसकी सूचना क्यों नहीं दी गई? ट्रैफिक बायलॉज के गठन पर सुझाव व आपत्तियां कैंट बोर्ड को देनी होती हैं। इस सूचना को छिपाकर गलत किया गया। मीटिंग में जनरल अस्पताल कैंट के रेट बढ़ाने के मुद्दे पर उपाध्यक्ष ने कहा कि यह रेट निकटवर्ती सिविल अस्पताल के रेट्स के अनुसार ही तय हो सकते हैं। इस पर रेट बढ़ाने का मोशन लंबित कर दिया गया। सिल्वर ओक स्कूल में दुकानें बनाने का प्रोजेक्ट भी बोर्ड के बुरे आर्थिक हालात के चलते टाल दिया गया।

पांच अवैध बिल्डिंग का मसला प्रिंसिपल डायरेक्टर को भेजा

मीटिंग के एक अन्य पॉइंट पर बोर्ड ने 5 बिल्डिंग कंपाउंड के मसले पर फैसला पीडी पर छोड़ दिया। बोर्ड में इस संबंधी समिति की रिपोर्ट पेश की गई थी। यह पांच इमारतें पिछले कई साल से पीपीएक्ट लगाकर सील की गई थीं, जिन्हें गिराने को लेकर पिछले कई साल से बोर्ड नाकाम रहा है।

पेंशन व वेतन रुकने का किसी भी पार्षद ने नहीं उठाया मामला

दो घंटे चली मीटिंग में कुल 20 पॉइंट्स पर चर्चा हुई। कैंट बोर्ड के पूर्व कर्मचारियों को पेंशन व कांट्रेक्चुअल कर्मियों को चार महीने से वेतन नहीं मिलने का मुद्दा किसी पार्षद ने नहीं उठाया। मीटिंग में मीनाक्षी लोहिया, स्नेह गुप्ता, भरत अटवाल, कर्नल बीएस तोमर, कर्नल अमित महे मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...