पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Jamshedpur
  • फेसबुक और वाट्सएप हमें दूसरों से जोड़ रहे हंै लेकिन अपनों से दूर कर रहे : प्रेमभूषण

फेसबुक और वाट्सएप हमें दूसरों से जोड़ रहे हंै लेकिन अपनों से दूर कर रहे : प्रेमभूषण

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मोबाइल की बजाए माता-पिता के साथ समय बिताएं। न जुबानी और न ही दिमागी, दिल से उनके साथ रहें। देखें फिर जीवन कैसे बदल जाता है। इसके बाद परिवार में उत्सव व आनंद का माहौल बना रहेगा। फेसबुक और वाट्स एप हमें दूसरों से जोड़ रहा है, लेकिन अपनों से दूर कर रहा है। जीवन में हर कार्य की समय सीमा निर्धारित करें, कितना कमाना है, कितना आराम करना और कितना खर्च करना है। यह बातें कथावाचक प्रेमभूषण महाराज ने कहीं। वे बिष्टुपुर जी टाउन मैदाम में रामकथा के तीसरे दिन मंगलवार को रामजन्म का प्रसंग सुना रहे थे।

उन्होंने राजा दशरथ के घर चार पुत्रों की प्राप्ति की खबर सुनाई तो चारों ओर उत्सव का माहौल बन गया। कथावाचक ने अपने भजन अवध में आनंद भयो, जय रघुवर लाल की... पर श्रद्धालुओं को झूमने पर मजबूर कर दिया। भगवान राम के जन्म के उपलक्ष्य में पूरे पंडाल को फूलों व लाइटों से सजाया गया था।

भक्तों ने श्रीराम के जन्म की मनाई खुिशयां

श्रेष्ठ व्यक्ति श्रेष्ठ व निकृष्ट सदैव निकृष्ट सोचता है

जीवन में जो श्रेष्ठ होता है वह सदैव श्रेष्ठ सोचता है और श्रेष्ठ ही करता है। वहीं, जो निकृष्ट होता है वह सदैव निकृष्ट ही सोचता है। सहजता एक श्रेष्ठ भक्ति है। स्वभाव की दृढ़ता के समान कोई दु:ख नहीं है और यदि स्वभाव में सत्संग है तो उसके समान कोई सुख नहीं। यदि लक्ष्य श्रेष्ठ हो, व्यवहार में प्रसन्नता हो और उत्साह हो तो उसकी प्राप्ति अवश्य होती है। उत्साह ही सतकर्म का फल है। जहां धर्म और सत्य कर्म है, वहीं उत्सव और आनंद है।

स्वामीजी के बोल

जीवन में हर कार्य की समयसीमा निर्धारित करें, कितना कमाना है, कितना आराम करना और कितना खर्च करना है।

जीवन कोल्हू का बैल नहीं है, बहुत जतन के बाद मिला है।

घर की महिलाओं को गहने दें, वह घर की लक्ष्मी है वह खुश तो सब धन्य है।

जीवन में अपनी कद्र करें, जिसमें रुचि हो वही मार्ग हमेशा चुनें।

आज के युवा ग्रहकारी नहीं, वह जीवन को टू मिनट मैगी जैसा समझते हैं।

महाराजजी ने ये भजन गए

इन मस्तों की बस्ती में आता है कोई, कोई रोता है सारी दुनिया गाता है...

रामा कृष्ण बने मनहारी पहन कर...

जिंदगी एक किराए का घर है एक बार बदलना पड़ेगा, मौत जब आएगी...

जाने की कोई तैयारी नहीं करता है, समान रखता है सौ बरस का...।

खबरें और भी हैं...