पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Jamshedpur
  • पहली बार ऑनलाइन परीक्षा होगी, एक कमरे में अभ्यर्थियों को मिलेंगे अलग अलग प्रश्नपत्र

पहली बार ऑनलाइन परीक्षा होगी, एक कमरे में अभ्यर्थियों को मिलेंगे अलग-अलग प्रश्नपत्र

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
टाटा स्टील में ट्रेड अप्रेंटिस की परीक्षा पहली बार ऑनलाइन होगी। झारखंड के अलावा बिहार, प. बंगाल और ओडिशा के आवेदकों को भाग लेने का अवसर दिया गया है। चारों प्रदेश में ऑनलाइन परीक्षा के लिए डेढ़ दर्जन परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। जहां कंप्यूटर होंगे, वहां पर आवेदकों को ऑनलाइन परीक्षा देने का मौका मिलेगा। जिन केंद्रों पर कंप्यूटर नहीं होंगे, वहां पर टेबलेट्स की व्यवस्था की जाएगी। अभ्यर्थी नकल न कर सकें, इसके लिए एक कमरे में बैठने वाले आवेदकों को अलग-अलग प्रश्नपत्र मिलेंगे। 16 अगस्त को आवेदकों को एडमिट कार्ड भेज दिया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि ट्रेड अप्रेंटिस के जरिए टाटा स्टील में बहाली होती है। मानदेय के साथ दो साल का प्रशिक्षण और उसके बाद कारखाना में परमानेंट नौकरी मिलती है। झारखंड गठन के बाद टाटा स्टील की ट्रेड अप्रेंटिस की परीक्षा में यहां का डोमिसाइल अनिवार्य किया गया था। टाटा स्टील के कर्मचारी पुत्रों को छूट दी गई थी। जिन आवेदकों के माता-पिता टाटा स्टील में नहीं रहे हैं, उनके लिए परीक्षा में शामिल होने की अधिकतम उम्र सीमा 19 साल है। जबकि कर्मचारी पुत्र 30 साल की उम्र तक इसमें भाग ले सकते हैं।

टाटा स्टील ट्रेड अप्रेंटिस

झारखंड के अलावा बिहार, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में भी परीक्षा केंद्र बनेंगे

ट्रेड अप्रेंटिस परीक्षा एक नजर में

12,000 आवेदन पिछले साल आए थे

12,000 आवेदन इस साल ऑनलाइन

300 रुपए परीक्षा शुल्क पहली बार लिए जा रहे

सिटी रिपोर्टर | जमशेदपुर

टाटा स्टील में ट्रेड अप्रेंटिस की परीक्षा पहली बार ऑनलाइन होगी। झारखंड के अलावा बिहार, प. बंगाल और ओडिशा के आवेदकों को भाग लेने का अवसर दिया गया है। चारों प्रदेश में ऑनलाइन परीक्षा के लिए डेढ़ दर्जन परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। जहां कंप्यूटर होंगे, वहां पर आवेदकों को ऑनलाइन परीक्षा देने का मौका मिलेगा। जिन केंद्रों पर कंप्यूटर नहीं होंगे, वहां पर टेबलेट्स की व्यवस्था की जाएगी। अभ्यर्थी नकल न कर सकें, इसके लिए एक कमरे में बैठने वाले आवेदकों को अलग-अलग प्रश्नपत्र मिलेंगे। 16 अगस्त को आवेदकों को एडमिट कार्ड भेज दिया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि ट्रेड अप्रेंटिस के जरिए टाटा स्टील में बहाली होती है। मानदेय के साथ दो साल का प्रशिक्षण और उसके बाद कारखाना में परमानेंट नौकरी मिलती है। झारखंड गठन के बाद टाटा स्टील की ट्रेड अप्रेंटिस की परीक्षा में यहां का डोमिसाइल अनिवार्य किया गया था। टाटा स्टील के कर्मचारी पुत्रों को छूट दी गई थी। जिन आवेदकों के माता-पिता टाटा स्टील में नहीं रहे हैं, उनके लिए परीक्षा में शामिल होने की अधिकतम उम्र सीमा 19 साल है। जबकि कर्मचारी पुत्र 30 साल की उम्र तक इसमें भाग ले सकते हैं।

पड़ोसी राज्यों को मौका देने के बावजूद 12 हजार आवेदन आए

तीन साल में टाटा स्टील का फैलाव हुआ है। कलिंगा नगर परियोजना गति पकड़ चुकी है। ओडिशा में भूषण स्टील का अंगुल प्रोजेक्ट अब टाटा स्टील की है। प. बंगाल में भी टाटा स्टील समूह की कुछ कंपनियों का संचालन हो रहा है। टाटा स्टील में अफसर से कर्मचारी की बड़ी संख्या बिहार के लोगों की है। इस नाते ट्रेड अप्रेंटिस में बिहार को भी शामिल किया गया है। पिछले साल 12 हजार आवेदन आए। इस बार भी आवेदकों की संख्या लगभग 12 हजार है।

पहली बार कलिंगा नगर में ट्रेड अप्रेंटिस प्रभावी होगा

पहली बार कलिंगा नगर प्लांट में ट्रेड अप्रेंटिस से बहाली को प्रभावी किया गया है। इसकी स्थापना के पहले टाटा स्टील व ओडिशा सरकार के बीच समझौता हुआ है कि इस प्लांट में 60 प्रतिशत तृतीय व चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी की बहाली ओडिशा के आवेदकों की होगी। शेष 40 फीसदी कर्मचारी देश के किसी भी हिस्से से हो सकते हैं। शीर्ष प्रबंधन चाहता है कि जमशेदपुर की तरह कलिंगा नगर प्लांट के भीतर भी लघु भारत की महक मिले।

खबरें और भी हैं...