पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • स्तनपान सप्ताह के समापन पर महिलाओं को किया जागरूक

स्तनपान सप्ताह के समापन पर महिलाओं को किया जागरूक

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिला समाज कल्याण विभाग द्वारा पुराना नगर भवन में विश्व स्तनपान सप्ताह के समापन समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन उपविकास आयुक्त रामा शंकर प्रसाद ने दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम का संचालन जिला समाज कल्याण पदाधिकारी चित्रा यादव ने की। संबोधित करते हुए उप विकास आयुक्त ने कहा कि देश में प्रतिवर्ष 1 से 7 अगस्त तक स्तनपान सप्ताह मनाया जाता है, ताकि स्तनपान को बढ़ावा दिया जा सके और नवजात बच्चों का स्वास्थ्य सुधार हो सके। उन्होंने कहा कि मातृ व शिशु मृत्यु दर में कमी हो और जच्चा बच्चा दोनों स्वस्थ रहें इसके लिए सरकार जागरूकता कार्यक्रम चला रही है। कहा कि अक्सर देखा जाता है कि जागरूकता के अभाव के कारण ग्रामीण क्षेत्र की महिलाएं न तो अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखती है और न ही बच्चों का इसी उद्देश्य को लेकर सरकार ने आंगनबाड़ी केंद्र का संचालन किया है। कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य महिलाओं को जागरुक करना है ताकि वे नवजात शिशु का पालन पोषण सही तरीके से कर सके। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सिविल सर्जन डॉ बीके साहा ने कहा कि मां का पहला गाढ़ा दूध शिशु के लिए अमृत के समान होता है। इसमें रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। स्तनपान से शिशु व मां के बीच भावनात्मक लगाव बढ़ता है। बच्चे मां के करीब होते हैं ऐसी स्थिति में यह आवश्यक है कि महिलाएं अपने शिशुओं को सही तरीके से स्तनपान कराएं। स्तनपान कराने से जच्चा और बच्चा दोनों को लाभ होता है। उन्होंने कहा कि गांव में जन्म के बाद मां का पहला दूध बच्चों को नहीं पिलाते हैं जो गलत है जन्म के बाद मां का पहला गाढ़ा दूध बच्चों के लिए काफी फायदेमंद है। उन्होंने कहा कि जन्म के 6 माह तक बच्चों को केवल मां का दूध पिलाएं। 6 माह के बाद पौष्टिक आहार देने से बच्चे का सर्वांगीण विकास होता है और शिशु कुपोषण से बचता हैं। समाज कल्याण पदाधिकारी चित्रा यादव ने कहा कि स्तनपान सप्ताह आंगनबाड़ी केंद्र से शुरू होती है। जिसका समापन जिला स्तर पर होता है। कहा कि आंगनबाड़ी सेविकाओं द्वारा सप्ताह दिनों तक दौरान कर गांव-गांव में महिलाओं को जागरूक करती है ताकि सभी मां अपने बच्चों को स्तनपान कराने के प्रति जागरूकता हो सके। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी केंद्र पर बच्चों, गर्भवती महिलाओं और किशोरियों को पौष्टिक आहार दिया जाता है जो कुपोषण और कई गंभीर बीमारियों से लड़ने में मदद पहुंचाता है। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी केंद्रों के सेविकाओं द्वारा रैली निकालकर गांव-गांव में लोगों को जागरुक किया है। शिशुओं को कराया गया मुंह जूठी उप विकास आयुक्त द्वारा शिशुओं को खीर खिलाकर मुंह जूठी कराया गया। हेल्दी बेबी शो में प्रथम मालपड़ा के पीयूष भंडारी, द्वितीय काश्तपाड़ा के नकुल दास, तृतीय पोसाई गांव के नीतीश भंडारी रहा। ये रहे मौजूद डीपीएम दीपक कुमार गुप्ता, पोषण सलाहकार कौशिक दत्ता, रेड क्रॉस सचिव राजेंद्र शर्मा, पर्यवेक्षिका कल्याणी देवी सहित सभी प्रखंड के सीडीपीओ व सेविकाएं मौजूद थे।

बच्चों को मुंह जुट्ठी कराते उप विकास आयुक्त।

विश्व स्तनपान सप्ताह के समापन समारोह में शामिल महिलाएं।

खबरें और भी हैं...