पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • ठेकेदारों की आपसी प्रतिस्पर्धा के चलते अकलतरा में 2 करोड़ के 26 निर्माण कार्य दो साल से अटके

ठेकेदारों की आपसी प्रतिस्पर्धा के चलते अकलतरा में 2 करोड़ के 26 निर्माण कार्य दो साल से अटके

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज | जांजगीर/अकलतरा/ चांपा

नगर के विकास की जिम्मेदारी पालिका की ही नहीं बल्कि स्थानीय ठेकेदारों की भी है कि वे उचित दर पर काम लें और समय पर काम पूरा करें, पर अकलतरा नगर के ठेकेदारों की आपसी लड़ाई के कारण 2 करोड़ के 26 काम का टेंडर 30 से 34% बिलो दर पर गया। बिलो होने से काम की गुणवत्ता सही नहीं होने की आशंका में परिषद ने ठेकेदारों को काम देने से इनकार करते हुए इस पर निर्णय लेने के लिए फाइल सरकार के पास भेज दी। फाइल डायरेक्टर के पास डेढ़ साल से लटकी रही, जिससे 26 काम दो साल से शुरू ही नहीं हो सके हैं। शेष पेज 15





दो साल से अकलतरा नगर के विभिन्न वार्डों में सीसी रोड, नाली सहित जरूरी काम पर रोक लग गई है। ठेकेदारों की आपसी प्रतिस्पर्धा के कारण शहर में काम ही नहीं हो रहा है। वर्ष 2015-16 में शासन ने अकलतरा नगर में 26 निर्माण कार्यों के लिए 2 करोड़ रुपए दिए थे। मार्च 16 में पालिका द्वारा टेंडर निकाला गया तब ठेकेदारों ने संगठित होकर काम बांटने के लिए बहुत ही कम भर दी। जिसके कारण सभी काम 30 से 34 % बिलो में चले गए। ठेकेदारों के सेटलमेंट को परिषद ने नकार दिया और टेंडर पास करने से ही मना कर दिया। जिसके कारण नगर का काम ठप है।

नहीं करा सकते तो वापस कर दो पैसा

सोमवार को रायपुर में समीक्षा बैठक थी जिसमें नगर में काम शुरू नहीं होने के कारण नपा के उप अभियंता को फटकार लगाई गई है। जल्दी काम शुरू कराने का अल्टीमेटम दिया है। चेतावनी दी कि यदि काम नहीं करा सकते तो पैसा वापस ले लिया जाएगा।

पिछले महीने 15 जुलाई को फाइल संचालनालय से आई थी। 20 जुलाई को ठेकेदारों को एग्रीमेंट के लिए लेटर भेजा है। एग्रीमेंट होते ही ठेकेदारों को वर्क आर्डर जारी होगा जिसके बाद काम शुरू हो जाएंगे। एनआर र|ेश, सीएमओ अकलतरा

चांपा नगर पालिका सीएमओ को पड़ी डांट

महिला समूहों का स्वास्थ्य परीक्षण 18 माह में 1 बार

भास्कर न्यूज | चांपा

डोर टू डोर कचरा कलेक्शन कार्य में लगे स्व सहायता समूह की महिलाओं का हर महीने स्वास्थ्य परीक्षण कराना है। इसकी जिम्मेदारी नगर पालिका के अधिकारियों की है लेकिन चांपा नगर पालिका में बीते 18 महीने में केवल एक बार ही महिलाओं का स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया है।

डोर टू डोर कचरा कलेक्शन कार्य में स्व सहायता समूह की 88 महिलाएं काम कर रही है। कचरा उठाने के काम में लगी महिलाओं की सेहत को ध्यान में रखते हुए हर महीने जनरल चेकअप के साथ आंख, ब्लडप्रेशर, शुगर आदि प्रकार के टेस्ट कराना है ताकि किसी प्रकार की बीमारी होने पर समय से पहले उसका इलाज किया जा सके। मगर अधिकारियों द्वारा 18 महीने में एक बार दो महीने पहले आंखों की जांच कराई गई थी।

आज से कराएंगे स्वास्थ्य परीक्षण : सीएमओ

डोर टू डोर कचरा कलेक्शन कार्य में स्व सहायता समूह की महिलाओं का हर महीने स्वास्थ्य परीक्षण कराना है। मेरे आने के बाद दो महीने पूर्व एक बार जांच कराया गया था। समीक्षा बैठक के दौरान इसको लेकर विशेष सचिव ने नाराजगी जताई है। बुधवार से महिलाओं से जांच कराएंगे। सीके श्रीवास्तव, सीएमओ चांपा

राहौद नपं के सीएमओ को मिला नोटिस

9 महीने में 194 में से 4 मकान ही बना पाए पूरा

भास्कर न्यूज | राहौद

नगर पंचायत राहौद में पीएम आवास योजना के तहत 194 मकानों की मंजूरी मिली है लेकिन नौ महीने बाद भी नगर में अब तक 4 मकान ही पूरे बन पाए हैं। जबकि 118 मकानों का निर्माण चल ही रहा है।

पीएम आवास के तहत नगर में 194 मकान का लक्ष्य दिया गया है मगर मकान निर्माण काम में देरी हो रही है। सीएमओ इंद्रेश सिंह ने बताया कि 40 और मकानों का डीपीआर बनाकर शासन को भेजा गया है। 118 मकान निर्माणाधीन है। बारिश की वजह से थोड़ी देरी हुई है। मकान हितग्राही स्वयं बना रहे हैं इसलिए भी विलंब हुआ है। बहरहाल अधूरे मकान की वजह से लोग बारिश में मुसीबतों का सामना करने को मजबूर हैं।

सीएमओ ने अधूरी जानकारी दी तो नाराज हुए सचिव

नगरीय प्रशासन विभाग के विशेष सचिव निरंजन दास ने सोमवार को कलेक्टोरेट सभाकक्ष में संभाग भर के निकायों के कमिश्नर और 46 सीएमओ की बैठक बुलाई थी। इसमें जिले के भी नगरीय निकाय सीएमओ शामिल हुए थे। प्रधानमंत्री आवास की प्रगति के बारे में पूछने पर अधूरी जानकारी और संतोषजनक कार्य नहीं होने पर राहौद सीएमओ को नोटिस जारी किया गया।

भास्कर न्यूज | राहौद

नगर पंचायत राहौद में पीएम आवास योजना के तहत 194 मकानों की मंजूरी मिली है लेकिन नौ महीने बाद भी नगर में अब तक 4 मकान ही पूरे बन पाए हैं। जबकि 118 मकानों का निर्माण चल ही रहा है।

पीएम आवास के तहत नगर में 194 मकान का लक्ष्य दिया गया है मगर मकान निर्माण काम में देरी हो रही है। सीएमओ इंद्रेश सिंह ने बताया कि 40 और मकानों का डीपीआर बनाकर शासन को भेजा गया है। 118 मकान निर्माणाधीन है। बारिश की वजह से थोड़ी देरी हुई है। मकान हितग्राही स्वयं बना रहे हैं इसलिए भी विलंब हुआ है। बहरहाल अधूरे मकान की वजह से लोग बारिश में मुसीबतों का सामना करने को मजबूर हैं।

खबरें और भी हैं...