पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • अक्षय तृतीया पर सर्वार्थ सिद्धि योग, प्रॉपर्टी वाहन, सोना चांदी की खरीदारी होगी शुभ

अक्षय तृतीया पर सर्वार्थ सिद्धि योग, प्रॉपर्टी वाहन, सोना-चांदी की खरीदारी होगी शुभ

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर न्यूज | जांजगीर-चांपा

अक्षय तृतीया 18 अप्रैल को पड़ रही है, पर इस साल बेहद खास है क्योंकि 35 साल के बाद इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग समेत 3 अन्य योग पड़ रहे हैं। अक्षय तृतीया पर साल मिल रहे तीन योग इस तिथि को शुभ खरीदारी का दिन भी बना रहे हैं। ज्योतिषियों का मानना है कि अगर इस दिन कोई खरीदारी की जाती है या नया काम शुरू किया जाता है तो वह बेहद शुभ साबित होगा | शेष पेज 16







सर्वार्थ सिद्धि योग जिस भी दिन पड़े उस दिन नया काम शुरू किया जाना शुभ होता है। ज्योतिषाचार्य पं. राघवेंद्र पांडेय ने बताया कि इस साल अक्षय तृतीया के दिन प्रॉपर्टी, वाहन और सोना-चांदी खरीदना शुभ होगा। इस दिन सर्वार्थ योग सुबह 6.8 बजे से प्रारंभ होगा जो रात 12.28 तक रहेगा। इसके अलावा इस दिन आयुष्मान और सिद्धि योग भी है। इस दिन सूर्य उच्च राशि मेष व चंद्रमा भी उच्च राशि वृष में रहेंगे। सूर्य-चंद्रमा का उच्च होना भी शुभता का प्रतीक है। सर्वार्थ सिद्धि योग किसी शुभ कार्य को करने का शुभ मुहूर्त होता है। इस मुहूर्त में शुक्र अस्त, पंचक, भद्रा आदि पर विचार करने की जरूरत नहीं होती है।



बंपर खरीदी की उम्मीद

अक्षय तृतीया पर राजधानी समेत प्रदेश के सभी शहरों के व्यापारियों को उम्मीद है कि इस साल बन रहे शुभ योगों के बीच बंपर खरीदारी होगी। छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष जितेंद्र बरलोटा ने बताया कि अक्षय तृतीया के लिए बाजार की तैयारी पूरी है। इस दिन विवाह का मुहूर्त होने की वजह से बाजार में बंपर खरीदारी हो सकती है।

शुभ मुहूर्त
35 साल बाद अक्षय तृतीया पर पड़ रहे सर्वार्थसिद्धि सहित तीन विशेष योग
इस दिन नया काम शुरू करने को माना जाता है बेहद फलदायी
अबुझ मुहूर्त में विवाह फेरे के लिए शुभ समय

अक्षय तृतीय पर दो स्थायी लग्न सिंह और वृश्चिक मिल रहे हैं। इस दौरान सोना, वाहन, मकान आदि खरीदने और पूजा कर्म का विशेष लाभ मिलेगा। इस दिन मुंडन आदि संस्कारों का भी विशेष लाभ मिलेगा, लेकिन विवाह के फेरे लेने के लिए रात 2: 02 से 4 बजे तक का समय ज्यादा बेहतर है।

मुंडन, जनेऊ संस्कार के लिए भी मुहूर्त

इस बार भले ही अक्षय तृतीया से पहले द्वितीया का लोप है, बावजूद इसके अक्षय तृतीया विशेष फल देने वाली होगी। अक्षय तृतीया पर मांगलिक कार्य के अलावा दिनभर खरीदारी या कोई शुभ कार्य मुंडन, जनेऊ संस्कार आदि किए जा सकते हैं। इसके लिए भी मुहूर्त रहेंगे।

जैन समाज के लोग भी मनाएंगे अक्षय तृतीया

अक्षय तृतीया जैन धर्म में भी मनाई जाती है। जैन धर्म में इसे इक्षु तृतीया के रूप में जाना जाता है। राजधानी के दादाबाड़ी और जैन मंदिरों में इस मौके पर विशेष अनुष्ठान होंगे। इसी तरह अन्य समाज भी अक्षय तृतीया को अपने-अपने तरीके से मनाएंगे।

खबरें और भी हैं...