पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • एक छत के नीचे एलोपैथी, होम्योपैथी व आयुर्वेद पद्धति से नि:शुल्क इलाज

एक छत के नीचे एलोपैथी, होम्योपैथी व आयुर्वेद पद्धति से नि:शुल्क इलाज

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
आज विश्व स्वास्थ दिवस है। ऐसे मौके पर श्री महावीर सेवालय का जिक्र जहन में आता है। यह एक ऐसा अस्पताल है जहां केवल एलोपैथी ही नहीं बल्कि होम्योपैथी व आयुर्वेद पद्धति से शतप्रतिशत नि:शुल्क इलाज हो रहा है। 19 फरवरी 2012 में अन्नक्षेत्र जनकल्याण समिति द्वारा स्थापित इस रजिस्‍टर्ड अस्पताल की खासियत यह है कि यहां मरीजों को नि:शुल्क उपचार व दवा मिल रही है। बल्कि प्राइवेट डॉक्टर तक यहां फ्री सेवाएं देते हैं। पांच साल में डेढ़ लाख मरीज स्वास्थ लाभ ले चुके हैं।

नगर के मध्य रावणद्वार स्थित अन्नक्षेत्र भवन में संचालित श्री महावीर सेवालय में डॉ. महावीर पामेचा शुरू से ही नि:शुल्क चैकअप कर रहे हैं। वे अकेले अब तक 1 लाख 20 हजार मरीजों को फ्री सेवाएं दे चुके हैं। डॉ. पामेचा के अवकाश पर होने पर यह जिम्मेदारी डॉ. अतुल मंडवारिया निभाते हैं। सोमवार से शुक्रवार तक रोज रात 8 से 10 बजे तक खुलने वाले इस अस्पताल में आयुर्वेद डॉक्टर अविनाश त्रिवेदी और होम्योपैथी डॉक्टर चिराग छाजेड़ भी नि:शुल्क सेवाएं देने पहुंच रहे हैं। संस्था अध्यक्ष समाजसेवी चंद्रप्रकाश ओस्तवाल, महासचिव संजय दासोत के साथ ही उनकी पूरी टीम समयदानी है। ये नियमित रूप से बिना स्वार्थ के सेवाएं देते हैं। करीब एक करोड़ 5 लाख तक की दवाएं वितरित करने में संस्था को आर्थिक सहयोग के लिए किसी के आगे हाथ फैलाने की जरूरत नहीं पड़ी है। डायलिसिस जैसी मशीनें नि:शुल्क आ चुकी हैं। दानदाता आगे रहकर सहयोग करते है। केवल चिकित्सा सेवाएं ही नहीं बल्कि जरूरतमंदों को भोजन, पक्षियों को दाना-पानी, बंदर-कुत्ते की रोटी और वृद्धा आश्रम तक नि:शुल्क चल रहे हैं। बल्कि यहीं से नगर के दोनों सरकारी अस्पताल में भी मरीजों के परिजन के लिए भोजन के निशुल्क पैकेट भी पहुंच रहे है।

यहां के सरकारी और प्राइवेट अस्पताल तक में डायलिसिस और फिजियोथैरेपी की व्यवस्था नहीं है। अन्नक्षेत्र जनकल्याण समिति द्वारा संचालित श्रीमहावीर सेवालय में दोनों जरूरी सेवाएं फ्री हैं। दो साल से डायलिसिस चल रहा है। मौजूदा स्थिति में तीन मशीनें हैं। फिजियोथैरेपी निशुल्क है। जबकि डायलिसिस के लिए यहां संस्था से जुड़े समाजसेवियों की कमेटी बनी हुई है। जो वेरिफिकेशन के बाद तय करती है कि कौन ज्यादा जरूरतमंद है। उसी हिसाब से शुल्क कैटेगिरी तय है। गरीब को नि:शुल्क व बाकी को 300, 400, 500 रुपए शुल्क पर डायलिसिस सुविधा उपलब्ध है। सामान्य मरीजों से 900 रुपए लेते हैं जो प्राइवेट अस्पताल के मुकाबले आधे से भी कम शुल्क है।

श्री महावीर सेवालय में रोज रात इस तरह मरीजों की लंबी लाइन लगती है।

खबरें और भी हैं...