पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • पुलिस ने सात दिन बाद कब्र खोदकर निकाली लाश वृद्धा के शरीर पर मिले चोट के निशान टोनही के शक में हत्या की आशंका

पुलिस ने सात दिन बाद कब्र खोदकर निकाली लाश वृद्धा के शरीर पर मिले चोट के निशान टोनही के शक में हत्या की आशंका

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस की मौजूदगी में खोदा गया कब्र

भास्कर न्यूज | जशपुरनगर

कत्ल की शिकायत मिलने पर पुलिस ने तहसीलदार की मौजूदगी में 7 दिन पूर्व दफन लाश को कब्र से बाहर निकलवाकर उसका पोस्टमार्टम कराया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबाकर वृद्धा की हत्या करने का मामला सामने आया है। पुलिस को वारदात में कम से कम तीन आरोपियों के शामिल होने का शक है। नाती ने संदीप पर हत्या का शक जताया है। उसके अनुसार आरोपी वृद्धा पर टोनही होने का शक करता था।

जानकारी के मुताबिक ग्राम पंचायत कुदमुरा के चूल्हापानी निवासी रामदीप राम की सूचना पर पुलिस ने बगीचा तहसीलदार एके बंजारे की मौजूदगी में शुक्रवार को गांव के कब्रिस्तान में दफन एक लाश को बाहर निकलवाई गई। लाश चूल्हापानी निवासी विरसो बाई पति पोला राम 75 वर्ष की थी। 31 मार्च को समाज वालों की मौजूदगी में बिरसो बाई का कफन-दफन किया था, जिस वक्त अंतिम संस्कार किया गया था उस वक्त महिला के परिवार वाले सहित समाज के लोग उपस्थित थे। बताया जाता है कि शिकायतकर्ता नाती रामदीप राम ने अंतिम संस्कार से पहले ही पुलिस को सूचना देने की बात कही थी, पर उस वक्त महिला के रिश्तेदार संदीप कोरवा ने यह कहकर पुलिस को सूचना देने से मना कर दिया कि पुलिस आएगी तो बेवजह लाश का चीरफाड़ करेगी और गांव वालों को भी परेशान करेगी। संदीप ने ही लोगों को पुलिस को सूचना नहीं देने के लिए मना लिया था।

नाती को शक था कि हत्या कर दफनाया गया. पुलिस के अनुसार हत्या 30 मार्च की रात को हुई थी। रात में महिला अपने घर पर अकेली सो रही थी। रात करीब 12 से 1 के बीच संदीप सहित अन्य आरोपी महिला के घर में घुसे और गला दबाकर महिला की हत्या कर दी। महिला बिरसो बाई रोज महुआ चुनने जाती थी | शेष पेज 15





31 मार्च को जब वह महुआ चुनने के लिए नहीं पहुंची तो बिरसो की बहु ने अपने बेटे को दादी के घर भेजा। बच्चे ने बिरसो घर में मृत अवस्था में पाया। उसके शरीर व बिछोने में खून के निशान थे। इसके बाद भी महिला की लाश को गांव वालों की मौजूदगी में दफन कर दिया गया। बिरसो बाई का नाती रामदीप को शंका थी कि उसकी हत्या हुई है। वह पुलिस को सूचना देना चाहता था पर परिवार वालों ने मना कर दिया था। 1 अप्रैल को पूर्व बीडीसी महावीर यादव के समक्ष रामदीप ने पूरी घटना बताई। महावीर ने अपने स्तर पर बातें पता की। इसके बाद महावीर ने नारायणपुर थाने में घटना की सूचना देकर जांच करने का आग्रह किया। महिला की मौत के संबंध में उपरी छानबीन में पुलिस को पता चला कि जिस महिला को 31 मार्च को दफनाया गया है उस महिला के शरीर पर खून के निशान मिले थे। जिसके बाद पुलिस ने न्यायालय की अनुमति आगे की कार्रवाई के लिए की।

वर्सन

आरोपी में संदीप का नाम सामने आया है जो कि बिरसो बाई पर जादू-टोना करने की शंका करता था। घटना में अन्य आरोपी भी शामिल हैं। आरोपियों की पतासाजी की जा रही है।

आरजीएस गौतम, थाना प्रभारी नारायणपुर।

खबरें और भी हैं...