पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • दयावली में तीन साल से बंद है डीपबोर नाराज ग्रामीणों ने जताया कड़ा विरोध

दयावली में तीन साल से बंद है डीपबोर नाराज ग्रामीणों ने जताया कड़ा विरोध

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
क्षेत्र के गांव दयावली में शुक्रवार को जाटव बस्ती के महिला एवं पुरूषों ने अपने हाथों में खाली बर्तन लेकर जलदाय विभाग के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया है। जाटव बस्ती की महिलाओं ने बताया कि गांव दयावली में जलदाय विभाग द्वारा सिंघल फेज का डीप बोर पानी के लिए लगाया था। लेकिन यह डीप बोर तीन साल से बंद पड़ा हुआ है।

गांव दयावली के बस्ती के लोगों ने शुक्रवार को पानी की समस्या से परेशान होकर गांव में एकत्रित हो गए और हाथों में खाली बर्तन लेकर प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। जाटव बस्ती के लोगों ने पानी की समस्या को लेकर प्रशासन पर विभिन्न प्रकार के आरोप लगाए। बस्ती के लोगों ने बताया कि पीने के पानी के लिए एक मात्र सरकार द्वारा लगाया गया यही डीप बोर है जो काफी दिनों से बंद पड़ा है। जिसके खराब होने की सूचना जलदाय विभाग, उपखण्ड कार्यालय व जिला कलेक्टर को दी जा चुकी है, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। उन्होंने बताया कि सूचना पर एक बार जलदाय विभाग के कर्मचारी आए थे और उन्होंने बात को यह कह कर टाल दिया कि इस बोर में पानी नहींं है। जबकि ग्रामीणों का कहना है कि बोर में पानी है लेकिन विभाग के कर्मचारी बोर को चालू करने के लिए मेहनत करना नही चाह रहे हैं। बस्ती के लोगों ने बताया कि प्रशासन ने शीघ्र कार्रवाई कर बोर को ठीक नहीं कराया तो नदबई जाकर जलदाय विभाग के सहायक अभियंता के कार्यालय का घेराव करेंगे।

पालिका कर्मियों की मनमानी: टेंडर प्रक्रिया में गड़बड़ी के आरोप लगाकर ठेकेदारों ने किया विरोध-प्रदर्शन

कामां| ठेकेदारों ने टेंडर प्रक्रिया में नगर पालिका अधिकारियों पर मनमानी का आरोप लगाते हुए नगर पालिका के मुख्यद्वार पर नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। नगर पालिका में निर्माण कार्यों के लिए की जा रही टेंडर प्रक्रिया में पालिका के अधिशाषी अधिकारी व ठेकेदारों की मिलीभगत खुलकर सामने आ रही है। पालिका प्रशासन के अधिकारी अपने चहेते ठेकेदारों से मिलकर उन्हें लाभ पहुंचाने की नियत से उनके पक्ष में टेंडर जारी कर रहे हैं। जिसको लेकर ठेकेदारों ने नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारी कक्ष पर ताला लगा दिया और पालिका प्रशासन के मुख्य द्वार पर टेंडर प्रक्रिया में धांधली का आरोप लगाते हुए नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। उल्लेखनीय है कि गुरुवार को कामां नगरपालिका में करीब एक करोड़ की लागत से होने वाले निर्माण कार्यों के लिए टेंडर किए गए। शुक्रवार को भी करीब 10 करोड़ की लागत के विकास कार्यो की टेंडर प्रक्रिया होनी थी लेकिन लेकिन गुरुवार को हुई धांधलेबाजी के बाद कलेक्टर के टेंडर प्रक्रिया में पारदर्शिता बरतने के निर्देश पर स्वायत्त शासन विभाग के उच्चाधिकारियों ने भरतपुर में ही डीडी जमा करने शुरू कर दिए, लेकिन स्थानीय ठेकेदारों को यह प्रक्रिया रास नहीं आई और उन्होंने आक्रोशित होकर शुक्रवार दोपहर को नगर पालिका में प्रदर्शन किया व एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। जिसके बाद कलेक्टर के निर्देश पर कामां नगर पालिका में भी ठेकेदारों की निविदाएं व डीडी जमा किए गए।

नदबई. खाली बर्तनों के साथ प्रदर्शन करती महिलाएं।

जिले में गहराने लगा
जल संकट
कामां. पालिका कार्यालय पर प्रदर्शन करते ठेकेदार।

डीप बोर के लिए बड़ी मोटर की आवश्यकता : सरपंच
इस बारे में सरपंच तिमनपाल ने बताया कि तीन साल से बंद बोर में एक एचपी की मोटर डली हुई है जो गहराई से पानी खीचने में सक्षम नहीं है। इसी वजह से पानी नहीं आ पा रहा है। बोर के लिए बडी मोटर की आवश्यकता है जिससे लोगों की समस्या का समाधान हो सकेगा। सरपंच ने बताया कि तीन साल से बोर बंद होने के बावजूद भी बोर में बिजली डिस्कॉम की ओर से करीब 6 लाख रुपए का बिल सरपंच एवं सचिव के नाम आ रहा है।

खबरें और भी हैं...