पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • ‘धर्मशाला निर्माण की जगह दिलाने के स्थान पर शिक्षामंत्री ने समाज को ही बांट दिया’

‘धर्मशाला निर्माण की जगह दिलाने के स्थान पर शिक्षामंत्री ने समाज को ही बांट दिया’

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राजपूत सभा के प्रधान सवाई सिंह राजपूत ने शिक्षा मंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा पर समाज को बांटे का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि 40 साल से प्रो. शर्मा समाज को अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं की पूर्ति के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं। समाज की मांग पर भूमि दिलाने की जगह समाज के ही दो गुट बना दिए। सवाई सिंह शनिवार पीडब्ल्यूडी विश्राम गृह में राजपूत सभा के तत्वावधान में प्रस्तावित शौर्य भवन की आधारशिला के संबंध में जानकारी दे रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि 23 जुलाई को शौर्य भवन की आधारशिला रखी जाएगी। संत समाज एवं सामाजिक संगठनों तथा राजपूत समाज के लोगों की उपस्थिति में हवन-यज्ञ के उपरांत भूमि पूजन होगा। शौर्य भवन निर्माण को लेकर 40 वर्षों से चली आ रही समाज की मांग भी समाज ही के बलबूते पर पूरी होने से राजपूत समाज में उत्साह है। सभा द्वारा समाज के लोगों की खून-पसीने की गाढ़ी कमाई से कनीना-महेंद्रगढ़ रोड पर रेलवे स्टेशन के पास हाल ही में खरीदी गई जमीन पर भव्य शौर्य भवन का निर्माण किया जाएगा। जिस पर लगभग 5 करोड़ रुपए की लागत आएगी। कार्यक्रम में प्रदेशभर के राजपूत संगठनों के अलावा देशभर से राजपूत संगठन एवं गणमान्य लोग भाग लेंगे। कार्यक्रम के लिए कुछ बड़ी राजनीतिक हस्तियों से भी संपर्क में है। उन्होंने बताया कि राजपूत समाज द्वारा गत 40 वर्षों से विधायक एवं मंत्रियों से लेकर सत्तासीन सरकारों तक भवन निर्माण के लिए जमीन देने की मांग की जा चुकी है। लेकिन सरकार या मंत्रियों ने समाज को केवल वोट बैंक के रूप में प्रयोग कर उसकी अनदेखी की है।

जब इस संबंध में पत्रकारों ने इसके लिए किसी विशेष राजनीतिक के हस्तक्षेप करने की बात पूछी गई तो उन्होंने कहा कि शिक्षा मंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा 40 वर्षों से समाज के लोगों का शोषण कर रहे हैं। समाज के लोगों ने जब उनसे समाज की धर्मशाला के लिए सरकार से जमीन दिलाने की मांग की तो उन्होंने समाज के ही लोगों को बांट दिया। उन्होंने कुछ लोगों को गुमराह करके एक नई सोसायटी बनवा दी। उन्हें आर्थिक सहायता की भी घोषणा की। लेकिन आज तक यह पता नहीं चला ही वो सोसायटी उस सरकारी पैसे का कहा इस्तेमाल किया। अब समाज के लोगों ने स्वयं गांव-गांव व घर-घर जाकर एक-एक पैसा एकत्र किया है। उससे जमीन ली है। अब उस जमीन पर शौर्य भवन का निर्माण समाज ने अपने बलबूते पर पूरा करने का निर्णय लिया है। इस कार्य में पूरे समाज को साथ लेकर चला जाएगा। जो धरातल पर काम करेगा समाज उसी का सहयोग करेगा। इस अवसर पर गुरदयाल सिंह कैमला, कैप्टन शेर सिंह, पूर्व सरपंच दलीप सिंह पाथेड़ा, सूबेदार मेजर अजीत सिंह, सूबेदार वेदपाल सिंह, जयपाल तंवर, राजकुमार शेखावत, संजीव तंवर चितलांग, सुभाष परमार सावंड़िया, राकेश तंवर बसई, मास्टर सतेन्द्र सिंह, सोहन सिंह तंवर, विष्णु तंवर, सुनील पाली, सरपंच प्रतिनिधि अगिहार राज सिंह, रविन्द्र एडवोकेट, रविन्द्र तंवर झगड़ोली, डॉ. नरेश सिंह, सोनू पाली, एडवोकेट सिकंदर सिंह राघव सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे।

समाज ने अपने बलबूते जमीन खरीद शौर्य भवन बनाने का निर्णय लिया है, इसके निर्माण के लिए 23 जुलाई को होगा भूमि पूजन

महेंद्रगढ़. प्रेस से रूबरू होते राजपूत सभा के प्रधान सवाई सिंह राजपूत व कर्मचारी नेता।

खबरें और भी हैं...