पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • धीमा चल रहा है सरकारी मोबाइल, नेटवर्क खोजने बार बार करना पड़ता है ऑन ऑफ

धीमा चल रहा है सरकारी मोबाइल, नेटवर्क खोजने बार-बार करना पड़ता है ऑन-ऑफ

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिले में मंगलवार से स्काई योजना के तहत स्मार्टफोन वितरण शुरू किया गया। पहले दिन कांकेर व चारामा में मोबाइल वितरण किया गया। सरकारी मोबाइल से लोगों की शिकायत रही कि काफी स्लो चल रहा है। नेटवर्क भी बार-बार गायब हो जाता है। नेटवर्क खोजने कई बार मोबाइल बंद करना पड़ रहा है।

पहले दिन शहर के न्यू कम्युनिटी हाल में अलबेलापारा व संजय नगर के लोगों को बुलाया गया था। अन्य वार्ड के लोग भी पहुंचने लगे जिन्हें अलग-अलग दिन वार्डों के हिसाब से मोबाइल वितरण की जानकारी दी जाती रही। मोबाइल वितरण कंपनी ने एक व्यक्ति को 8 मिनट में मोबाइल प्रदान करने दावा किया था लेकिन अव्यवस्था के चलते टोकन कटाकर मोबाइल लेने में घंटों लग गए। इसके बाद मोबाइल चालू कराने फिर से कई घंटों लाइन में लगना पड़ा।

फिंगर प्रिंट लेने में ही दिक्कत: वितरण कंपनी द्वारा फिंगर प्रिंट लेकर मोबाइल नंबर से अपडेट किया जा रहा था। फिंगर प्रिंट लेने में ही सबसे अधिक समय लगता रहा। कई के फिंगर मैच नहीं होने से कर्मचारियों का दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

दो स्लाट हैं, दूसरी कंपनी का सिम डालकर भी चला सकते हैं

वितरण केंद्र में जियो कंपनी कर्मचारियों द्वारा घोषणा की जा रही थी की सरकारी मोबाइल में केवल जियो का ही सिम ही चलेगा। दूसरी कंपनी का सिम डालने पर यह लॉक हो जाएगा। दूसरी कंपनी के कर्मचारियों ने कहा जियो कर्मचारी गुमराह कर रहे हैं। मोबाइल में दो स्लाट दिए गए हैं, पहले स्लाट में जियो तथा दूसरे स्लाट में अन्य कंपनियों का सिम डालकर चलाया जा सकता है।

चालू होने में 10 मिनट लगते हैं

तामेश्वरी छाटा ने कहा सरकारी मोबाइल की स्पीड काफी स्लो है। चालू होने में 10 मिनट से अधिक समय लगता है। अन्य स्मार्टफोन तुरंत शुरू हो जाते हैं। यह बार-बार हैंग भी हो रहा है।

नेटवर्क नहीं बता रहा

गोमती निर्मलकर ने कहा चालू करने बाद भी नेटवर्क नहीं दिखा रहा है। कई बार चालू बंद करना पड़ रहा है। कर्मचारियों को मोबाइल के बारे में कुछ तो जानकारी देनी थी। पहली बार स्मार्टफोन चला रहे हैं।

कैमरा क्वालिटी ठीक नहीं

अनुसूइया कोसरिया ने कहा मोबाइल के कैमरे की क्वालिटी ठीक नहीं है। सेल्फी भी सही नहीं आ रही है। फ्रंट कैमरा के साथ फ्लैश भी होना चाहिए था। इसके साथ इसकी क्वालिटी और बढ़ाई जा सकती थी।

जियो कंपनी के मैनेजर ने कहा- जियो सिम ही चलाने अनाउसमेंट नहीं किया

जियो कंपनी के मैनेजर अशोक देवांगन ने कहा कंपनी द्वारा सरकारी मोबाइल में जियो के ही सिम चलाने अनाउसमेंट नहीं किया गया है। पहले स्लाट में जरूर जियो का सिम चलाना होगा। इसके अलावा कंपनी और मोबाइल बनाने वाली माइक्रोमैक्स कंपनी के बीच क्या टाईअप हुआ है इसकी जानकारी नहीं है।

सरकारी मोबाइल में से कमियां बताई

सरकारी मोबाइल मिलते ही पति के साथ सेल्फी लेती गोमती निर्मलकर।

ट्रेनिंग देने का दावा खोखला

योजना शुरू होने से पहले मोबाइल वितरण के साथ ही हितग्राहियों को एप व फंक्शन की जानकारी देने मित्र डेस्क बनाने का दावा किया गया था। पहले दिन दावे की पोल खुल गई। दो वार्ड के लोगों को मोबाइल वितरण करने 8 टेबल लगाए गए थे। अधिकांश टेबल में मोबाइल रजिस्ट्रेशन काम किया जा रहा था। एक अलग टेबल पर मोबाइल शुरू करने प्रक्रिया की जा रही है। कंपनी कर्मचारियों ने समय नहीं होने की बात कहते मोबाइल फंक्शन की जानकारी दिए बिना मोबाइल पकड़ा रवाना कर दिया।

खबरें और भी हैं...