पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • नहीं खुला आम रास्ता, गुस्साए ग्रामीणों ने सरपंच का घेराव किया

नहीं खुला आम रास्ता, गुस्साए ग्रामीणों ने सरपंच का घेराव किया

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नाथूसर ग्राम पंचायत के रतनपुरा गांव में मंगलवार को ग्रामीणों ने रतनपुरा स्टैंड से सरकारी विद्यालय तक जाने वाले आम रास्ते को खुलवाने के लिए सरपंच प्रतिनिधि बंशीधर डेगड़ा का घेराव किया। मुकेश कुमार जितरवाल ने बताया कि रतनपुरा स्टैंड से राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय तक जाने वाले आम रास्ते पर सीमेंट इंटरलॉकिंग के लिए मार्च में वित्तीय मंजूरी मिलने के बाद भी आज तक काम शुरू नहीं हो पाया है। इसके चलते स्थानीय लोगों ने रास्ते पर तारबंदी कर बंद कर दिया है। आम रास्ते के बंद होने के कारण स्कूल जाने वाले छोटे बच्चों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है। सरपंच को बार-बार सूचित करने पर भी रास्ते पर हो रहे अतिक्रमण को लेकर कोई कार्रवाई नहीं होने पर मंगलवार को ग्रामीणों ने सरपंच प्रतिनिधि बंशीधर देगड़ा का घेराव कर खरी-खोटी सुनाई तो सरपंच प्रतिनिधि ने 20 अगस्त तक अतिक्रमण हटवाकर रास्ते में सीमेंट के इंटरलॉक लगाने का आश्वासन दिया। 20 अगस्त तक काम शुरू नहीं होने पर ग्रामीणों ने स्कूल गेट पर ताला लगाकर बड़ा आंदोलन करने की चेतावनी दी है। इस दौरान मुकेश जीतरवाल, हनुमान सामोता,जगदीश प्रसाद, भगवान सहाय, शिवपाल वर्मा, नाथूराम जाखड़, गोविंदराम, बोदूराम,बनवारीलाल सहित अनेक ग्रामीण उपस्थित रहे।

मूंडरू . रतनपुरा में आम रास्ते को खुलवाने के लिए सरपंच का घेराव किए हुए ग्रामीण।

कांवट | अंडरपास का काम पूरा कराने के लिए माधोकाबास रेलवे फाटक पर ट्रेन रोकने का प्रयास करते ग्रामीण।

अधूरे पड़े अंडरपास को लेकर ग्रामीणों ने रेलवे फाटक पर ट्रेन रोकने का प्रयास किया

कांवट | माधोकाबास रेलवे फाटक पर अधूरे पड़े अंडरपास व अधिग्रहण की गई सड़क को दोबारा निर्माण कराने की मांग को लेकर करीब एक दर्जन गांव-ढाणियों के सैकड़ों ग्रामीण मंगलवार को रेलवे ट्रैक पर पहुंचे व कॉरिडोर ट्रैक पर ट्रायल पर आई ट्रेन के सामने खड़े होकर रोकने का प्रयास किया, लेकिन ट्रेन को तेज गति से आते देखकर ग्रामीण रेलवे ट्रैक को छोड़कर इधर-उधर भाग गए।

ग्रामीणों ने बताया कि ग्रामीणों की मांग के अनुसार अंडरपास निर्माण करने की सहमति बनी तो धरना हटाया लिया जाएगा अगर एलएनटी कंपनी व रेल प्रशासन अपनी मर्जी के अनुसार अंडरपास का निर्माण करेंगे तो ग्रामीण उग्र आंदोलन की ओर रुख करेंगे। ग्रामीणों ने बताया कि माधोकाबास रेलवे फाटक पर अधूरे पड़े अंडरपास से दो साल से करीब एक दर्जन गांव-ढाणियों का सड़क मार्ग से संपर्क टूटा हुआ है। इससे लोग परेशान हैं।

खबरें और भी हैं...