पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 200 लीटर स्पिरिट में पानी मिलाकर बनाते हैं 2000 लीटर कच्ची दारू, 20 हजार लगाकर हर ड्रम पर कमाते हैं 2 लाख

200 लीटर स्पिरिट में पानी मिलाकर बनाते हैं 2000 लीटर कच्ची दारू, 20 हजार लगाकर हर ड्रम पर कमाते हैं 2 लाख

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदेश भर में अवैध शराब (स्पिरिट) की सप्लाई करने वाले एक गिरोह के चार लोगों को पुलिस और एक्साइज विभाग की टीम ने हमीरा के पास नाकेबंदी कर एक टाटा 407 और मारुती कार समेत काबू कर उससे 2200 लीटर सफेद स्पिरिट बरामद की। एसपी इंवेस्टिगेशन जगजीत सिंह सरोआ ने बताया कि उक्त आरोपी 200 लीटर के ड्रम को 12 हजार में खरीदकर अवैध शराब रिटेलर को 20 हजार रुपए में बेचते हैं। गिरोह के तार किन-किन लोगों से जुड़े हैं, इसकी जांच जारी है। जिला पुलिस ने फिलहाल सभी आरोपियों के खिलाफ एक्साईज एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया है।

एसपीआई जगजीत सिंह सरोआ ने बताया कि सीआईए स्टाफ इंचार्ज सुखपाल सिंह की अध्यक्षता में एएसआई नवीन कुमार ने टीम के साथ गश्त कर रहे थे। उन्हें सूचना मिली कि गांव बूटा निवासी चतर सिंह उर्फ बिल्ला, बोधा पुत्र शेर सिंह, सुखवंत सिंह उर्फ राजा पुत्र गुरदीप सिंह और नारायण सिंह पुत्र जैमल सिंह स्पिरिट से अवैध शराब बनाकर बेचते हैं। इस समय वह चारों दो गाड़ियां टाटा 407 नं पीबी-08 वाई 2511 और एक मारुति कार नं पीबी-08 एक्स 9611 पर जालंधर से स्पिरिट लेकर ढिलवां की ओर आ रहे हैं। मारुति कार टाटा 407 के आगे-आगे चल कर रास्ता चेक कर रही है कि कहीं कोई पुलिस नाका तो नहीं है।

पुलिस और एक्साइज विभाग की टीम ने हमीरा के पास एक्साइज इंस्पेक्टर रणबहादुर सिंह के साथ नाकाबंदी कर दी और जालंधर की ओर से आ रही दोनों गाड़ियों को काबू कर लिया। मारुति कार को सुखवंत सिंह चला रहा था। जिसकी तलाशी लेने पर कार में से 50-50 लीटर के 4 कैन सफेद स्पिरिट से भरे बरामद किए गए जबकि टाटा 407 जिसे नारायण सिंह चला रहा था और चतर सिंह, बोधा सिंह उसके साथ बैठे थे, की तलाशी के दौरान गाड़ी से 10 ड् रम सफेद स्पिरिट से भरे बरामद किए। हर ड्रम में 200 लीटर स्पिरिट थी। पुलिस ने दोनों गाड़ियों से 2200 लीटर स्पिरिट बरामद करने का दावा किया है। सभी आरोपियों के खिलाफ थाना सुभानपुर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। आरोपी किस किस जिले में स्पिरिट की सप्लाई करते है और किन-किन लोगों को बेचते हैं, इसकी जांच जारी है।

स्पिरिट के साथ पकड़े गए आरोपियों को पेश करती हुई पुलिस टीम। -भास्कर

आधा ढक्कन स्पिरिट एक बोतल का देती है नशा

एक्साइज इंस्पेक्टर रणबहादुर सिंह ने बताया कि स्पिरिट में पानी मिलाने के बाद भी इसकी कोई डिग्री नहीं होती। यह पीने वाले की सेहत के लिए बेहद खतरनाक है। वहीं, शराब माफिया से जुड़े सूत्र बताते हैं कि अवैध शराब (स्पिरिट) के रिटेलर 20 हजार में लिए 200 लीटर के ड्रम में पानी मिलाकर 2 हजार लीटर बनाकर देसी शराब से आधे दामों में बेचते हैं। जानकारों के मुताबिक 3 एमएल स्पिरिट एक बोतल शराब का नशा देती है।

स्पिरिट से लिवर और ब्रेन डेमेज की संभावना प्रबल, इंसान की मौत भी हो सकती है

शराब व्यवसाय से जुड़े लोगों ने बताया जिन्हें स्पिरिट पीने की एक बार लत लग जाती है तो दूसरी किसी अन्य शराब से उनका नशा नहीं होता और उनके हाथ-पैर कांपने लगते है। वहीं, नशा मुक्ति केंद्र के इंचार्ज डॉ. संदीप भोला के मुताबिक स्पिरिट पीने से लिवर और ब्रेन डेमेज होने की संभावना प्रबल होती है। ज्यादातर केसों में मौत भी हो जाती है।

प्लास्टिक के पाउच में उपलब्ध करवाते हैं शराब

जगजीत सिंह सरोआ ने बताया कि आरोपियों ने माना है कि वह 12 हजार का ड्रम लेकर होलसेल में 20 हजार में बेचते हैं। एक लीटर स्पिरट में 9 लीटर पानी मिलाकर लोगों को सस्ती शराब प्लास्टिक पाउच में उपलब्ध करवाते हैं। स्पिरिट के इतने बड़े गिरोह के 4 सदस्य पकड़े जाने के बाद जिला पुलिस स्पिरिट की खरीद करने वाले अवैध शराब माफिया से जुड़े लोगों को तलाश रही है। स्पिरिट के खेल से जुड़े लोगों के तार कपूरथला और किन जिलों से जुड़े हैं, इसकी जांच जारी है।

दूलोवाल के सरपंच का गोदाम किराए पर लेकर डंप की थी शराब, 180 पेटी बरामद

भास्कर संवाददाता | कपूरथला

थाना फत्तूढींगा के अंतर्गत एक गैस कंपनी के बंद गोदाम से एक्साइज विभाग की टीम ने पुलिस पार्टी के साथ की गई छापेमारी के अवैध देसी शराब की 180 पेटियां बरामद कर ली हैं। इसमें 164 पेटी हीर और 16 पेटी रसभरी शामिल है। एक्साइज विभाग के मुताबिक बरामद की गई शराब का स्टॉक एक साल पुराना है। वहीं, फत्तूढींगा के एसएचओ जसपाल सिंह ने बताया कि प्रारंभिक जांच में पता चला है कि उक्त गोदाम बलजीत सिंह निवासी कुतबेवाल के पास साल 2012 से किराए पर था। फत्तूढींगा पुलिस ने गोदाम की छापेमारी के बाद 180 पेटी देसी शराब कब्जे में लेकर आरोपी बलजीत सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

एक्साईज विभाग के इंस्पेक्टर रणबहादुर सिंह ने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर उन्होंने मंगलवार को फत्तूढींगा पुलिस टीम के साथ फत्तूढींगा की गैस कंपनी के बंद पड़े गोदाम में छापेमारी की। जहां उन्हें अवैध देसी शराब की 180 पेटी बरामद हुईं। एसएचओ फत्तूढींगा जसपाल सिंह के मुताबिक एएसआई राजविंदर सिंह और पुलिस टीम ने एक्साइज विभाग की ओर से की गई छापेमारी के बाद बलजीत सिंह पुत्र रघबीर सिंह निवासी गांव कुतबेवाल के खिलाफ एक्साईज एक्ट की धारा के तहत मामला दर्ज कर लिया गया। उन्होंने बताया कि प्रारंभिक जांच में मालूम हुआ है कि उक्त गोदाम दूलोवाल के सरपंच दलजीत सिंह का है। उन्होंने साल 2012 से बलजीत सिंह को किराए पर लिखित तौर पर दे रखा है।

शराब का स्टॉक एक साल पुराना, एक पर केस दर्ज

गैस के बंद गोदाम से बरामद शराब।

आरोपी शराब वेंडर का पार्टनर बताया जा रहा

सूत्रों की माने तो फत्तूढींगा में बरामद की गई 180 पेटी शराब के मामले में आरोपी का सबंध जिले के एक शराब वेंडर के साथ बताया जा रहा है। सूत्र यह भी बताते है कि उक्त आरोपी वेंडर के साथ साइलेंट पार्टनर है।

खबरें और भी हैं...