पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Gwalior
  • 200 से ज्यादा खेताें में अवैध कृषि पंप कनेक्शन लगाकर किसान कर रहे खेती

200 से ज्यादा खेताें में अवैध कृषि पंप कनेक्शन लगाकर किसान कर रहे खेती

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
राजस्व विभाग और पुलिस प्रशासन द्वारा कराहल तहसील में पट्टाधारी आदिवासियों की जमीन पर कब्जा दिलाने के लिए विशेष मुहिम चलाई है। लेकिन सरकारी एवं चरनोई भूमि को अतिक्रमण से मुक्त कराने का मामला ठंडा पड़ा हुआ है। कराहल तहसील में अवैध कब्जे चिह्नित कर बेदखली की कार्रवार्इ अपने अंजाम तक नहीं पहुंची है। अकेले कराहल हल्के में ही लगभग 600 बीघा सरकारी व चरनाई भूमि पर अवैध रूप से कब्जा करने के बाद लोगों ने ट्यूबवेल खनन करवा लिए हैं। खास बात यह है कि बिजली कंपनी ने अवैध कब्जेधारियों के नाम करीब 200 से अधिक कृषि पंप कनेक्शन भी जारी कर दिए हैं। चरनोई भूमि पर खेत बनाकर अतिक्रमणकारी फिर से खेती कर रहे हैं। चरनाई भूमि पर ट्यूबवेल खनन एवं बिजली कनेक्शन दे दिए जाने की शिकायतोंं पर कार्रवाई नहीं जा रही है। चरनाेर्इ तथा सरकारी भूमि काे अतिक्रमण मुक्त कराने की मांग लाेगाें ने जिला प्रशासन से की है।

बीते साल कराहल तहसील मेें पुलिस एवं प्रशासन के साझा अभियान के तहत आदिवासियों के नाम पट्टे की जमीन पर काबिज बाहरी लोगों को बेदखल करने की कार्रवाई की मुहिम चलार्इ गर्इ थी। जिसमें लगभग 6000 बीघा जमीन पर पट्टेधारी किसानाें को कब्जा दिलाया जा चुका है। लेकिन सरकारी एवं चरनोई भूमि को अतिक्रमण मुक्त कराने की दिशा में पहल नहीं की जा रही है। जबकि सिर्फ कराहल हल्के में ही 600 बीघा चरनाई भूमि पर लोगों ने अवैध रूप से कब्जे कर रखे हैं। इसके अलावा कराहल तहसील में 1000 हेक्टेयर सरकारी जमीन अतिक्रमण की चपेट मेंं हैं। इनमेंं राजस्व विभाग द्वारा पिछले दिनों दो सौ लोगों को नोटिस देने के अलावा अाधा सैकड़ा लोगों के खिलाफ एसडीएम कोर्ट में मामले दर्ज किए गए हैं। राजस्व विभाग ने अवैध कब्जे की जमीन पर बोर खनन तथा बिजली कनेक्शन पर भी रोक लगा रखी है। इसके बावजूद क्षेत्र में वर्तमान में दो सौ से अधिक कब्जे की जमीन पर लोगों ने न सिर्फ ट्यूबवेल खनन करा लिए, बल्कि कृषि पंप बिजली कनेक्शन भी करा लिए हैं। जबकि पट्टे की जमीन पर ही बिजली कनेक्शन देने का नियम हैं। अवैध कब्जे की जमीन पर बिजली कनेक्शन किस अाधार पर दिए गए इसकी जांच कराए जाने की मांग लाेगाें ने कलेक्टर एवं एसडीएम से की है।

कराहल में सरकारी गोचर भूमि पर लगाए खेती के लिए लगाए बिजली कनेक्शन ।

ट्रांसफार्मरों पर बढ़ते लाेड के कारण गुल हाे रही 30 गांव की बिजली
प्रेमसर.ट्रांसफार्मर पर क्षमता से अधिक कनेक्शनों का लोड बढऩे से बिजली लाइन बार बार फाल्ट हो रही है। फाल्ट और ट्रिपिंग से 30 गांव मेंं किसानों का अधिकांश समय बिजली के इंतजार में बीत रहा है। बिजली संकट से क्षेत्र के ग्राम ढोटी, आसीदा, पच्चीपुरा, रिंगनी, किलोरच, बगवाड़ा, बमूली गुसांई, कंवरसली, गोहेड़ा, बिलवाड़ा, चक आसन, जलालपुरा, अडवाड़, झोंपड़ी, डाबरसा, पानड़ी, गांधीनगर, गुढ़ा, नीमोदा, आमल्दा, पटपड़ा, ननावद, विजरपुर, मावदा, दुबड़ी, सांकुड़ली, खेड़ा, छोटा खेड़ा, बड़ाखेड़ा आदि गांव की लगभग 40 हजार आबादी प्रभावित हो रही है। रामस्वरूप मीणा, रामचरण मीणा, दुर्गाशंकर नागर, कुलवंत सिंह भुल्लर, गुरुदेव सिंह, सरदार, बागसिंह, रामप्रसाद बैरवा, बलराम गुर्जर, जगदीश नागर, रामबलवान मीणा आदि किसानों ने बिजली सप्लाई व्यवस्था में सुधार के लिए उच्च क्षमता के ट्रांसफार्मर लगाने की मांग की है।

तहसीलदार के अादेश के बाद भी नहीं उठवाए ट्रांसफार्मर
कराहल में चरनोई भूमि पर लगाए गए विद्युत ट्रांसफार्मर को उठवाने के आदेश तहसीलदार द्वारा गत वर्ष बिजली कंपनी को जारी किए गए थे। लेकिन बिजली कंपनी ने अब तक इस मामले में कार्रवाई नहीं की है। इस बीच चरनोई भूमि पर काबिज लोगों ने बिजली कनेक्शन लगवाने के बाद मकान का निर्माण भी करा लिया है।

बिजली कंपनी काे लिखा है
चरनोई एवं शासकीय भूमि पर अवैध रूप से कब्जे हटाने की कार्रवाई के लिए तहसीलदार को निर्देशित किया गया है। अवैध कब्जे की जमीन पर लगाए गए बिजली कनेक्शन निरस्त कराने की कार्रवार्इ के लिए बिजली कंपनी को लिखा गया है। बीबी श्रीवास्तव, एसडीएम, कराहल

खबरें और भी हैं...