पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • आज पीएमसी की नियुक्ति पर लगेगी मोहर, शहर को स्मार्ट बनाने के विजन पर होगा काम

आज पीएमसी की नियुक्ति पर लगेगी मोहर, शहर को स्मार्ट बनाने के विजन पर होगा काम

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्मार्ट सिटी के लिए प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसलटेंसी (पीएमसी) का चयन हो गया है। पीएमसी की नियुक्ति पर सिर्फ मोहर लगना बाकी है। इसी सिलसिले में 8 अगस्त को पीएमसी की नियुक्ति के लिए बोर्ड ऑफ डॉयरेक्टर्स की मीटिंग होगी। इस मीटिंग में चयनित कंसलटेंसी को बाेर्ड ऑफ डायरेक्टर द्वारा स्वीकृति प्रदान की जाएगी। पीएमसी की नियुक्त होने से शहर को स्मार्ट सिटी बनाने के विजन पर कार्य शुरू हो जाएगा। पिछले एक साल से स्मार्ट सिटी के तहत किसी भी बड़े प्रोजेक्ट पर काम नहीं हो पाया है, क्योंकि पीएमसी के बिना बड़े प्रोजेक्ट्स पर काम संभव नहीं है। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत होने वाले सभी कार्यों के प्रोजेक्ट्स पीएमसी द्वारा बनाए जाने हैं, जिनको बोर्ड ऑफ डॉयरेक्टर की स्वीकृति मिलने में कार्यरूप दिया जाएगा।

इन तीन कंपनियों में से एक होगी अपनी पीएमसी

शहर में स्मार्ट सिटी के लिए पीएमसी की नियुक्ति के लिए 7 कंपनियों ने टेंडर भरे थे, जिनमें से दो के रिजेक्ट हो गए थे। इसके बाद शेष कंपनियों ने टेक्निकल बिड को लेकर अपनी प्रेजेंटेशन दी थी। इन कंपनियों में टाटा, फीड बैक और केपीएमजी शामिल हैं। इन तीनों कंपनियों में से एक कंपनी को चयनित किया गया है, जिसके चयन पर बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की मोहर लगने पर कंपनी के नाम का खुलासा किया जाएगा।

कंसलटेंसी तैयार करेगी डिवलेपमेंट प्रोजेक्ट

शहर में निगम की ओर से खुद से नए प्रोजेक्ट बनाने पर ब्रेक लगा दिया गया है। अब शहर के लिए जो भी प्रोजेक्ट तैयार होंगे वे सभी पीएमसी द्वारा किए जाएंगे। निगम अपने स्तर पर कोई भी बड़ा प्राेजेक्ट शुरू नहीं करेगा।

करनाल शहर

विकास पर खर्च होंगे Rs.1295.81 करोड़

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत शहर में 1295.81 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसी राशि में 1000 करोड़ रुपए की राशि केंद्र व राज्य सरकार द्वारा दी जाएगी, जबकि शेष राशि निगम के अन्य आय के स्रोतों से जुटाई जाएगी। इसमें सरकार भी सहायता कर सकती है। इतने पैसा खर्च होने पर शहर में स्मार्टनेस आ जाएगी।

योजनाबद्ध ढंग से शुरू होंगे कार्य: प्रोजेक्ट मैनेजमेंट के तहत योजनाबद्ध ढंग से कार्य होंगे। जो भी प्रोजेक्ट बनेगा शृंखलाबद्ध ढंग से बनेगा अर्थात ये नहीं होगा कि पहले सड़क बनाई जाए और फिर बिजली के तारों को अंडर ग्राउंड करने के लिए सड़क को उखाड़ा जाए।

ट्रैफिक जाम से निपटने पर होगा काम

शहर में ट्रैफिक जाम की बड़ी समस्या है। दिनोंदिन यह समस्या बढ़ती जा रही है। ट्रैफिक जाम से निपटने के लिए निगम के अब तक के प्रयास बौने साबित हुए हैं। निगम इस समस्या से निपटने के लिए कोई भी समुचित प्रबंध नहीं कर पाया है।

मीटिंग में घोषित होगा पीएमसी का नाम

8 अगस्त को चंडीगढ़ में बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की मीटिंग आयोजित होगी। इस बैठक में चयनित पीएमसी पर फाइनल मोहर लगाई जाएगी। इसी दिन पीएमसी का नाम घोषित होगा। इसके बाद प्राेजेक्ट तैयार होंगे। -राजीव मेहता, कमिश्नर नगर निगम।

खबरें और भी हैं...