• Hindi News
  • Rajya
  • Chhattisgarh
  • Kendri
  • 25 करोड़ में डालमिया भारत ग्रुप ने लालकिला गोद लिया, सरकार बोली मुनाफा कमाने की अनुमति नहीं

25 करोड़ में डालमिया भारत ग्रुप ने लालकिला गोद लिया, सरकार बोली- मुनाफा कमाने की अनुमति नहीं / 25 करोड़ में डालमिया भारत ग्रुप ने लालकिला गोद लिया, सरकार बोली- मुनाफा कमाने की अनुमति नहीं

Kendri News - दिल्ली के ऐतिहासिक लाल किले को सरकार ने \"एडॉप्ट ए हेरिटेज\' स्कीम के तहत डालमिया भारत ग्रुप को गोद दिया है। ग्रुप ने...

Apr 29, 2018, 03:20 AM IST
दिल्ली के ऐतिहासिक लाल किले को सरकार ने "एडॉप्ट ए हेरिटेज' स्कीम के तहत डालमिया भारत ग्रुप को गोद दिया है। ग्रुप ने लाल किले को 25 करोड़ रुपए में पांच वर्षों के लिए गोद लिया है। इसका कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों के साथ ही शिवसेना ने विरोध किया है। इनका कहना है कि सरकार ऐतिहासिक धरोहर का निजीकरण कर रही है।

कांग्रेस ने पूछा है कि क्या मोदी सरकार का यही न्यू इंडिया का आइडिया है। क्या धरोहर की देखभाल के लिए सरकार के पास पैसे नहीं हैं। विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए सरकार ने कहा है कि धरोहरों से निजी कंपनियों को मुनाफा कमाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। स्वतंत्रता दिवस पर यहां से प्रधानमंत्री तिरंगा झंडा फहराते हैं। अंग्रेजों के भारत छोड़ने के बाद से स्वतंत्रता दिवस के मौके पर यह रस्म हर साल 15 अगस्त को होती है। (पढ़ें पेज-18)



समारोह के लिए जुलाई में किले को सुरक्षा एजेंसियों को साैंपना होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौजूदा कार्यकाल में 15 अगस्त को आखिरी और पांचवीं बार लाल किले से झंडारोहण करेंगे।

----------------------------------

विरोध :

मोदी सरकार धरोहर को एक निजी उद्योग समूह को सौंप रही है। भारत और उसके इतिहास को लेकर आपकी क्या परिकल्पना है और प्रतिबद्धता है? हमें पता है कि आपकी कोई प्रतिबद्धता नहीं है, लेकिन फिर भी हम आपसे पूछना चाहते हैं। क्या आपके पास धनराशि की कमी है।

- पवन खेड़ा, प्रवक्ता, कांग्रेस

-----------------------

ये बहुत शर्मनाक बात है कि हम अपनी धरोहरों का रखरखाव नहीं कर सकते हैं। सरकार को इस पर फिर से विचार करना चाहिए।

- मनीषा कायंडे, नेता, शिवसेना

---------------

मोदी सरकार द्वारा इसे लाल किले का निजीकरण करना कहोगे, गिरवी रखना कहोगे या बेचना। अब प्रधानमंत्री का स्वतंत्रता दिवस का भाषण भी निजी कंपनी के स्वामित्व या नियंत्रण वाले मंच से होगा। ठोको ताली। जयकारा भारत माता का!

- तेजस्वी यादव, नेता, राजस्व

-------------------

लाल किले से 1857 का प्रथम स्वाधीनता संग्राम लड़ा गया और बहादुर शाह जफर ने यह लड़ाई इसी किले से लड़ी। आईएनए ट्रायल यहीं हुआ और आजादी का झंडा भी यहीं से फहराया गया। यह किला देश की आजादी का प्रतीक है। सरकार फैसला वापस ले।

- माकपा ने बयान जारी किया

------------------------

सरकार का जवाब :

लालकिले समेत कई ऐतिहासिक भवनों को संरक्षण और पर्यटकों को ज्यादा सुविधाएं देने के लिए निजी कंपनियों के साथ करार किया गया है। इनको मुनाफा कमाने की अनुमति नहीं दी गई है। इमारतों में होने वाली गतिविधियों से अर्जित धन का इस्तेमाल इन्हीं के संरक्षण पर खर्च किया जाएगा।

- महेश शर्मा, केंद्रीय पर्यटन राज्य मंत्री

------------------------

9 अप्रैल को ही समझौता हुआ था :

भारत के इतिहास में पहली बार किसी कॉर्पोरेट घराने ने ऐतिहासिक विरासत को गो‍द लिया है। इस पर डालमिया भारत ग्रुप ने 9 अप्रैल को ही पर्यटन मंत्रालय, संस्‍कृति मंत्रालय और भारतीय पुरातत्‍व सर्वेक्षण के साथ समझौता किया था। लाल किला को एडॉप्‍ट करने की होड़ में इंडिगो एयरलाइंस और जीएमआर ग्रुप भी शामिल थीं। लेकिन डालमिया भारत ग्रुप ने इन्‍हें पछाड़ते हुए कांट्रैक्‍ट हासिल किया। ग्रुप ने आंध्र प्रदेश के कड़पा जिले के गंडीकोटा किले को लेकर एमओयू किया है।

-------------------------

यूरोपीय किलों की तर्ज पर विकसित किया जाएगा :

डालमिया ग्रुप के सीईओ महेंद्र सिंघी ने कहा कि लाल किले में 30 दिनों के अंदर काम शुरू कर दिया जाएगा। उन्‍होंने कहा, ‘लाल किला हमें शुरुआत में पांच वर्षों के लिए मिला है। कांट्रैक्‍ट को बाद में बढ़ाया भी जा सकता है। हर पर्यटक हमारे लिए एक कस्‍टमर होगा और इसे उसी तर्ज पर विकसित किया जाएगा। यूरोप में कुछ किले लाल किले के मुकाबले बहुत ही छोटे हैं, लेकिन उन्‍हें बेहतरीन तरीके से विकसित किया गया है। हम लोग भी लाल किले को उसी तर्ज पर विकसित करेंगे।’

--------------------

क्या है एमओयू में :

समझौते के तहत डालमिया ग्रुप लाल किले में सुविधाएं बढ़ाने का काम करेगा। इसमें लोगों के आने-जाने के लिए बैट्री चालित वाहन, शुद्ध पेयजल, साफ-सफाई, सर्विलांस सिस्‍टम, पर्यटकों के लिए आरामदायक कुर्सियां और उनको बेहतर सुविधाएं देगा। इसमें दिव्‍यांगों के लिए सुविधाएं बढ़ाने का काम भी होगा। ये विकास काम एक साल में पूरा करने होंगे। - सीसीटीवी कैमरे लगवाएंगे

- पर्यटकों की संख्‍या बढ़ाने पर जोर रहेगा

- लाइट और साउंड शो का नियमित तौर पर आयोजन होगा

- सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन होगा

- किले को रात में देखने लायक भी बनाएगा

-------------------------

पर्यटकों से वसूली करेगा ग्रुप :

केंद्र सरकार से जरूरी मंजूरी मिलने के बाद डालमिया भारत ग्रुप पर्यटकों से फीस वसूलना शुरू करेगी। इस राजस्‍व का किले के रखरखाव और उसके विकास पर खर्च करने की योजना है। ग्रुप इस पर हर साल करीब 5 करोड़ रुपए खर्च करेगा।

----------------------

ताजमहल को गोद लेने की होड़ में आईटीसी और जीएमआर :

ताजमहल को गोद लेने के लिए दो कंपनियां आईटीसी और जीएमआर ग्रुप होड़ में हैं। इनमें से किसी एक को ताजमहल मिल सकता है। "एडॉप्‍ट ए हेरिटेज' योजना केंद्र की मोदी सरकार की योजना है। पिछले साल विश्व पर्यटन दिवस पर 27 सितंबर को राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद ने इसकी शुरुआत की थी।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना