पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • शहर की 311 अवैध कॉलोनी वैध करने की प्रक्रिया 15 अगस्त तक होगी पूरी

शहर की 311 अवैध कॉलोनी वैध करने की प्रक्रिया 15 अगस्त तक होगी पूरी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शहर की ऐसी सभी अवैध कॉलोनियां जो 2016 के पहले बनी हैं, उनके नियमितीकरण की प्रक्रिया 15 अगस्त तक करने का लक्ष्य रखा गया है। नगरीय प्रशासन विकास विभाग के निर्देश का पालन करने के लिए कलेक्टर ने संयुक्त दल गठित किया है।

मंगलवार को यह दल पहली बार कार्रवाई के लिए खानशाहवली वार्ड के बापू नगर पहुंचा। यहां दोपहर 12.30 से शाम पांच बजे तक विभिन्न बिंदुओं पर सर्वे किया। दल के साथ ही कंसलटेंट फ्रेंड्स एसोसिएट्स इंदौर से आए शरद सक्सेना और संजय तिवारी भी मौजूद थे। इसी कंसलटेंट द्वारा अवैध कॉलोनियों के विकास के लिए नक्शे तैयार किए जाएंगे। निगम पूर्व में 24 अवैध कॉलोनियों को वैध कर चुका है। बापू नगर में सर्वेक्षण के लिए निगम के सहायक यंत्री अंतरसिंह तंवर, उपयंत्री संजय शुक्ला, राधेश्याम उपाध्याय, राजस्व निरीक्षक शिवकुमार चौरासे, अनिल नरगावे सहित पटवारी अशोक तंवर मौजूद थे।

24 अवैध कॉलोनियों को निगम पहले ही कर चुका है वैध

कलेक्टर द्वारा गठित दल ने खानशाहवली वार्ड के बापू नगर में सर्वे का काम शुरू किया।

यह काम करेगा संयुक्त दल

खसरा नंबरों का सीमांकन कर ले आउट बनाया जाएगा। मास्टर प्लान अनुसार रोड, बगीचे इत्यादि की मार्किंग की जाएगी। प्रत्येक अवैध कॉलोनी का अलग-अलग नक्शा बनाया जाएगा। यह नक्शा 14 अगस्त तक आयुक्त नगर पालिक निगम खंडवा के पास प्रस्तुत किया जाएगा।

नियम अनुसार 31 दिसंबर 2016 तक की अवैध कॉलोनी होगी वैध

मप्र नगर पालिका अधिनियम में कॉलोनाइजर रजिस्ट्रीकरण निबंर्धन तथा शर्तें नियम 1998 के नियम 15 क में संशोधन किया है। अवैध कॉलोनी नियमितीकरण के प्रावधानों के सरलीकरण 19 मई के अनुसार 31 दिसंबर 2016 तक अस्तित्व में आई अवैध कॉलोनियों के नियमितीकरण की कार्यवाही की जाएगी।

इन्हें शामिल किया कार्रवाई दल में

निगम के सहायक यंत्री, उपयंत्री, समयपाल, जोन प्रभारी, राजस्व विभाग के निरीक्षक और पटवारी को कार्रवाई के लिए बनाए दल में शामिल किया। इसके लिए तीन दल बनाए हैं। खंडवा तरफ कुंबी एवं सुजापुरकलां, खंडवा तरफ माली-मालीपुरा, खंडवा तरफ मानकर।

80 प्रतिशत हो चुका टोटल स्टेशन सर्वे

सभी कॉलोनियों के नक्शे और इस्टीमेट बनाए जाएंगे। टोटल स्टेशन सर्वे 80 प्रतिशत हो चुका है। चतुर सीमा के हिसाब से प्लांटिंग कर एरिया निकाल देंगे। इसके बाद जिन कॉलोनियों के दावे-आपत्ति प्राप्त नहीं हुई उन्हें नियमितीकरण की प्रक्रिया में शामिल किया जाएगा। -ईश्वर सिंह चंदेली, कार्यपालन यंत्री

खबरें और भी हैं...