पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • किसान बोले नहीं मिली बीमा राशि, अतिथि शिक्षक ने कहा नियुक्ति प्रक्रिया में बरती अनियमितता

किसान बोले- नहीं मिली बीमा राशि, अतिथि शिक्षक ने कहा- नियुक्ति प्रक्रिया में बरती अनियमितता

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मंगलवार को कलेक्टर विशेष गढ़पाले की गैर मौजूदगी में जनसुनवाई हुई। इसमें मोरदड़ क्षेत्र सहित चमाटी के किसान फसल बीमा नहीं मिलने की शिकायत लेकर पहुंचे। किसानों ने यहां विरोध स्वरूप नारेबाजी भी की। वहीं अतिथि शिक्षकों ने नियुक्ति प्रक्रिया में अनियमितता बरतने संबंधी शिकायत की। इसके अलावा अन्य कई लोग भी अपनी-अपनी समस्याएं लेकर पहुंचे।

भारतीय किसान संघ के जिला प्रवक्ता सुभाष पटेल के साथ आए मोरदड़ क्षेत्र के किसानों ने कहा 2016-17 में सोयाबीन का उत्पादन सिर्फ 25 से 30 प्रतिशत ही हुआ। इससे किसानों को नुकसान हुआ। इसकी बीमा राशि भी स्वीकृत हुई। लेकिन जानकारी अनुसार मोरदड़ को इस राशि से वंचित किया जा रहा है। कहा जा रहा है कि बीमा की राशि सेवा सहकारी समिति और अन्य बैंक की शाखाओं में जमा नहीं हुई है। किसानों ने कहा 10 अगस्त तक बीमा संबंधी जानकारी नहीं मिली तो 11 तारीख से आंदोलन करेंगे।

जनसुनवाई में पहुंचे अतिथि शिक्षकों ने ऑनलाइन भर्ती प्रक्रिया में गड़बड़ी की शिकायत की। उन्होंने ऑनलाइन प्रक्रिया में पारदर्शिता, पूर्व से पढ़ा रहे अतिथि शिक्षकों को स्कोर कार्ड के आधार पर विषयवार नियुक्ति देने, निचली रैंक वाले को नहीं रखे जाने सहित अन्य मांगे रखी। अतिथि शिक्षकों के रिक्त पदों पर 10 साल से पढ़ा रहे अतिथि शिक्षकों को रखा जाए। महिला जिला उपाध्यक्ष लक्ष्मी श्रीवास्तव, जिला उपाध्यक्ष अर्जुन मांडले, वीणा चंद्रवंशी, स्मिता रघुवंशी, शबनम बानो, नीतू सोनी, राजेश कुमार रनतोई, पवन पटेल, अखिलेश बारूड़, रुक्मिणी प्रजापति सहित अन्य अतिथि शिक्षक समस्या लेकर पहुंचे थे। भकराड़ा के उप सरपंच कैलाश सिंह पंवार ने पंचायत में विकास कार्य नहीं होने और कमल पिता रामसिंह द्वारा पांच किसानों का रास्ता बंद करने संबंधी शिकायत की। ओंकारेश्वर के सुरेश हजारीलाल कौशिक ने बेटी सहित पहुंचकर महेश रामेश्वर शर्मा और नगर परिषद द्वारा उनका मकान तोड़ने की शिकायत की। इस दौरान मलबा गिरने से वे घायल भी हुए।

कलेक्टोरेट में भाकिसं के साथ आए किसानों ने बीमा राशि दिलाने की मांग की है।

इधर, जनसुनवाई में सीएमओ से बहस

टॉवर का काम शुरू होते ही वार्ड के लोगों ने किया हंगामा

हरसूद | पुनर्वास स्थल के वार्ड क्रमांक 4 में मंगलवार को मोबाइल कंपनी के टॉवर का निर्माण शुरू होते ही लोगों ने हंगामा कर दिया। उन्होंने तत्काल जनसुनवाई में आवेदन दिया और नगर परिषद पहुंचकर हंगामा किया। ढाई घंटे विरोध के बाद नगर परिषद प्रशासन ने टॉवर निर्माण कार्य रुकवा दिया। वार्ड के 150 से अधिक महिला-पुरुष पार्षद के साथ आवासीय भूखंड पर टॉवर की अनुमति के विरोध में जनसुनवाई में पहुंचे थे। वार्ड के कल्याण चौराहे के पास मोबाइल टॉवर निर्माण कार्य प्रारंभ होता देख लोगों ने विरोध करना शुरू कर दिया। महिलाएं और पुरुष एकत्रित होकर जनसुनवाई में पहुंचे। तहसीलदार यादव के समक्ष विरोध कर आवेदन देकर निर्माण कार्य रुकवाने की मांग की। जनसुनवाई में उपस्थित नप सीएमओ संजय गीते से वार्डवासियों की टॉवर की एनओसी को लेकर तीखी बहस हुई। लोगों ने टॉवर को नियम के विरुद्ध बताते हुए कहा निर्माण के स्थान पर चारों ओर हाई टेंशन लाइन है। नगर परिषद कार्यालय में अहस्तांतरणीय भूखंड का नामांतरण करने और एनओसी को लेकर लोगों और सीएमओ में जमकर बहस हुई। लोगों ने आपत्ति जताते हुए कहा पुनर्वास स्थल के अहस्तांतरणीय भूखंड का नामांतरण संभव नहीं है। ऐसे में नप द्वारा एनओसी जारी करना संभव नहीं है।

खबरें और भी हैं...