पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • इक्का दुक्का बसें चलीं, दोगुना किराया देकर गंतव्य तक पहुंचे

इक्का-दुक्का बसें चलीं, दोगुना किराया देकर गंतव्य तक पहुंचे

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मोटर व्हीकल एक्ट संशोधन विधेयक को पारित होने से रोकने के लिए ऑल इंडिया रोड ट्रांसपोर्ट वर्क्स फेडरेशन मप्र के आह्वान पर मंगलवार को राष्ट्रव्यापी हड़ताल की गई। इसे समर्थन देते हुए बस चालक-परिचालकों ने भी बसें नहीं चलाई। 500 बसों के नहीं चलने से 10 हजार से अधिक यात्री परेशान हुए। उन्हें दोगुना किराया चुकाकर टैक्सी, ऑटो से गंतव्य तक पहुंचना पड़ा। हालांकि हड़ताल के बावजूद इक्का-दुक्का बसें चलीं। निमाड़ परिक्षेत्रीय चालक-परिचालक कल्याण समिति के बैनर तले जिले के चालक-परिचालक भी हड़ताल पर रहे।

पुराने बस स्टैंड पर एक बस पहुंची उसे भी लौटा दिया गया।

स्टैंड पहुंची बस को लौटाया

शहर के चालक-परिचालक हड़ताल में शामिल हुए। लेकिन बाहर की इक्का-दुक्का बस चलती रही। दोपहर 3 बजे इंदौर से चली एक बस पुराने बस स्टैंड पहुंची, लेकिन हड़ताली चालक-परिचालकों ने उसे लौटा दिया। कहा शाम 5 बजे के बाद हड़ताल खत्म होगी।

स्कूली ऑटो को भी रोका

चालक-परिचालकों ने हड़ताल में शामिल होने के लिए सुबह ऑटो चालकों को भी मजबूर किया। सेंट जोसफ स्कूल के बच्चे ले जाने वाले एक ऑटो चालक ने बताया मुझे रोककर ऑटो नहीं चलाने को कहा गया। इस कारण मैं बच्चे लेने नहीं गया।

खबरें और भी हैं...