• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Kharar
  • डेढ़ महीने से खराब पड़ी पाइलिंग मशीन फिर से हुई ठीक, रुका हुआ काम शुरू
--Advertisement--

डेढ़ महीने से खराब पड़ी पाइलिंग मशीन फिर से हुई ठीक, रुका हुआ काम शुरू

बलौंगी-खानपुर फ्लाईओवर प्रोजेक्ट के निर्माण कार्यों के तहत मात्र चार लोकेशन की पाइलिंग का काम मशीन खराब होने से...

Danik Bhaskar | Jun 03, 2018, 02:00 AM IST
बलौंगी-खानपुर फ्लाईओवर प्रोजेक्ट के निर्माण कार्यों के तहत मात्र चार लोकेशन की पाइलिंग का काम मशीन खराब होने से पिछले डेढ़ महीने से रुका हुआ था और प्रोजेक्ट के कार्य बहुत ही धीमी गति से चल रहे थे। जिस कारण लोगों को रोज़ाना परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। लेकिन, अब उक्त मशीन ठीक हो जाने से पिछले डेढ़ महीने से रुके हुए पाइलिंग के कार्य दौबारा से शुरू हो गए हैं।

हाइड्रोलिक रिज मशीन खराब होने से अटका पड़ा था काम: इस प्रोजेक्ट के तहत पिलरों की पाइलिंग के कार्यों में बोर करने के लिए इस्तेमाल होने वाली हाइड्रोलिक रिज मशीन करीब डेढ़ महीना पहले ही खराब हो गई थी। जिस मशीन को ठीक करने में समय लगने के कारण पिलरों के पाइलिंग का काम पूरा ही नहीं हो पाया था, जिससे काम रुक गया था। इस संबंध में कंपनी का कहना था कि उक्त प्रोजेक्ट के तहत शुरुआती दौर में दो हाइड्रोलिक मशीनें काम में लगाई गई थी। लेकिन, पाइलिंग के लिए 4 लोकेशन पर ही काम बकाया रह जाने के कारण दो मशीनें एक साथ एक क्षेत्र में नहीं लगाई जा सकती थी। जिस कारण इनके द्वारा एक मशीन वापस भेज दी गई थी। मशीन वापस जाने के बाद उक्त एक ही मशीन बस अड्डे के निकट पाइलिंग के लिए बोर का कार्य कर रही थी, जो डेढ़ महीना पहले खराब हो गई थी। जिसके खराब हुए पार्ट को संबंधित एजेंसी द्वारा दिल्ली, कोलकाता व मुंबई से मंगवाया गया था। लेकिन, कहीं पर भी उक्त पार्ट नहीं मिल पाया। जिस कारण अब उक्त पार्ट मैन्यूफैक्चरिंग कंपनी से मंगवाए गए, जिससे अब विदेश से एजेंसी द्वारा पार्ट मंगवाने के बाद उक्त मशीन को ठीक कर दिया गया है। इस मशीन के द्वारा हाईवे के पुल के स्थापित किए जाने वाले पिलरों की फाउंडेशन बनाने के लिए करीब 40 मीटर तक जमीन के भीतर बोर किया जाता है।

डेढ़ महीने से रुके हुए काम के कारण हो रही थी ट्रैफिक की समस्या : खरड़ बस अड्डे से खानपुर पुल तक का हाईवे बहुत ही कंजस्टेड है। यहां से तीन राज्यों पंजाब, हिमाचल व जम्म्ू-कश्मीर से संबंधित लोग रोजाना सफर करते हैं व रोजाना करीब 40 हजार वाहन यहां से गुजरते हैं। लेकिन, पिछले डेढ़ महीने से प्रोजेक्ट के बस अड्डे के निकट रुका होने के कारण वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था व यहां पर हाईवे के मध्य पिलर बनाने के लिए की गई बैरिकेडिंग से समस्या बनी हुई थी।

वहीं, एलएंडटी कंपनी के मैनेजर आलोक नायक के अनुसार खरड़ बस अड्डे के निकट पाइलिंग का काम रुक गया था, लेकिन अब मशीन चालू हो गई है। इस चौक पर करीब चार पिलरों के ही पाइलिंग का काम होना बाकी है, जोकि आने वाले डेढ़ महीने तक पूरा हो जाएगा।

मशीन ठीक होने के बाद काम का दृश्य।