• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Kharar
  • धोखाधड़ी के दो मामलों में बाप के बाद बेटे को भी किया गिरफ्तार, भेजा जेल
--Advertisement--

धोखाधड़ी के दो मामलों में बाप के बाद बेटे को भी किया गिरफ्तार, भेजा जेल

खरड़ सिटी पुलिस ने धोखाधड़ी के दो विभिन्न मामलों में लाखों रुपए की धोखाधड़ी करने के आरोप में अदालत द्वारा भगोड़ा करार...

Danik Bhaskar | Jun 21, 2018, 02:00 AM IST
खरड़ सिटी पुलिस ने धोखाधड़ी के दो विभिन्न मामलों में लाखों रुपए की धोखाधड़ी करने के आरोप में अदालत द्वारा भगोड़ा करार दिए गए आरोपी को खरड़ सिटी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। जिसे बुधवार को खरड़ अदालत में पेश किया गया और वहां से उसे 14 दिन के न्यायिक रिमांड पर जेल भेज दिया गया है। उक्त आरोपी ने माननीय हाईकोर्ट द्वारा धोखाधड़ी के उक्त दोनों केसों में अग्रिम जमानत मिलने के बाद भी पुलिस इन्वेस्टिगेशन ज्वाॅइन नहीं की थी। जिस कारण खरड़ अदालत द्वारा आरोपी को भगोड़ा करार दिया गया था। जिसके बाद पुलिस ने काबू करके उक्त दोनों केसों में अलग-अलग गिरफ्तारी डालकर खरड़ अदालत में उसे पेश किया है।

दोनों ही मामले में प्लॉट बेचने के नाम पर हुई धोखाधड़ी: इस संबंध में एएसआई जीवन सिंह ने बताया कि उक्त आरोपी गांव मुल्लांपुर गरीबदास निवासी मनीश कुमार के खिलाफ दो मामले धोखाधड़ी के सिटी थाना खरड़ में दर्ज हैं। जीवन सिंह ने बताया कि पहला मामला मनीश कुमार व उसके पिता के खिलाफ 16 अक्टूबर 2014 को सिटी थाने में दर्ज हुआ था। जिसमें शिकायतकर्ता सेक्टर-38 चंडीगढ़ निवासी अनिल कुमार जोशी ने आरोप लगाए थे कि उक्त आरोपियों ने खरड़ में ही स्थित एक प्लॉट बेचने के नाम पर उससे 11 लाख रुपए की धोखाधड़ी की थी। जिस केस में एंटीसिपेट्री बेल मिलने के बाद आरोपियों ने पुलिस इन्वेस्टिगेशन ज्वाॅइन नहीं की थी। जिस कारण अदालत में पुलिस द्वारा पेश किए गए चालान के बाद पीओ की प्रोसीडिंग के तहत खरड़ अदालत ने 9 जनवरी 2018 में उक्त आरोपियों को भगोड़ा करार दे दिया था। आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस को पता चला कि उक्त अदालत द्वारा ही एक अन्य मामले में भी मनीश कुमार काे भगोड़ा करार दिया जा चुका है।

जिस संबंध में सन्नी एन्क्लेव चौकी इंचार्ज अवतार सिंह ने बताया कि मनीश कुमार के खिलाफ चंडीगढ़ निवासी महिला वीना बुद्धिराज ने शिकायत दर्ज करवाई थी कि उक्त आरोपी ने उसे गांव मुल्लांपुर में 9 बिसवे जमीन के नाम पर 14 लाख 11 हजार रुपए की धोखाधड़ी की थी। उसके उपरांत ना तो उसे जमीन की रजिस्ट्री करवाई गई व ना ही उसके रुपए वापस किए गए। जिस मामले में भी पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया है।


पुलिस के अनुसार मनीश कुमार के पिता अश्वनी कुमार को भी तीन धोखाधड़ी के मामलों में भगौड़ा करार होने के बाद 8 अप्रैल, 2018 को गिरफ्तार कर लिया था, जोकि इन दिनों जेल में है। पुलिस के अनुसार पहला मामला अश्वनी कुमार के खिलाफ 16 अक्टूबर 2014 को सिटी थाना में दर्ज हुआ था। जिसमें सेक्टर-38 चंडीगढ़ निवासी अनिल कुमार जोशी को एक प्लॉट बेचने के नाम पर 11 लाख रुपए की धोखाधड़ी का था। जिसमें उसके बेटे के शामिल होने के कारण अब गिरफ्तार हुई है। वहीं, दूसरा मामला अश्वनी कुमार के खिलाफ 24 जुलाई 2015 को दर्ज हुआ था। जिसमें शिकायतकर्ता गांव फतेहउल्लाहपुर निवासी लाभ सिंह के साथ साढ़े नौ लाख की ठगी व तीसरा मामला 25 जुलाई 2017 को गांव सौतल निवासी सोहन सिंह के साथ 14 लाख 11 हजार रुपए की धोखाधड़ी का दर्ज हुआ था। जिन मामलो में पुलिस ने बाप को पहले से ही गिरफ्तार कर लिया था। अब उक्त दो मामलों में बेटे को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।