• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Kharar
  • खरड़ की प्रीत एन्क्लेव के लोग सुविधाओं के लिए तरसे, चेयरमैन को लगाई गुहार
--Advertisement--

खरड़ की प्रीत एन्क्लेव के लोग सुविधाओं के लिए तरसे, चेयरमैन को लगाई गुहार

खरड़ के वार्ड नं 23 में स्थित प्रीत एन्क्लेव में रह रहे करीब 86 परिवार पिछले दो वर्षों से मूलभूत सुविधाओं के लिए तरस...

Danik Bhaskar | Jun 28, 2018, 02:00 AM IST
खरड़ के वार्ड नं 23 में स्थित प्रीत एन्क्लेव में रह रहे करीब 86 परिवार पिछले दो वर्षों से मूलभूत सुविधाओं के लिए तरस रहे हैं। जिन्हें काॅलोनी में सीवरेज, सड़कें, स्ट्रीट लाइटें, बिजली, पानी व ड्रेनेज सिस्टम की व्यवस्था ना होने के कारण परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

इस संबंध में काॅलोनी के लोगों ने पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के जिला मोहाली चेयरमैन (यूथ एंड स्पोर्टस) हरजीत सिंह गंजा से मदद की गुहार लगाई है। इस मौके पर स्थानीय निवासियों में लीला देवी, राजीव शर्मा, पंडित चंदन कुमार, मंजीत सिंह, चरणजीत सिंह, मोनू वर्मा, अश्वनी कुमार, विष्णु गुप्ता, अश्वनी पाल, अनीश कुमार, जसवंत सिंह, रितू शर्मा, रीत वर्मा, खुशी पाल ने नगर काउंसिल खरड़ को लिखा लेटर दिखाते हुए हरजीत सिंह को बताया कि उक्त काॅलोनी करीब ढाई साल पहले बसी थी। उक्त काॅलोनी में प्लॉट बेचते समय कॉलोनाईजर ने इन लोगों को सभी मूलभूत सुविधाएं देने का वायदा किया था। लेकिन, जब प्लॉट बिक गए तो सभी वायदे धरे के धरे रह गए। काॅलोनी काटते समय कॉलोनाइजर ने कच्ची सड़कें दिखाई व सीवरेज व पानी की लाइनें भी बिछाई हुई दिखाई व कहा गया कि जल्द ही काउंसिल यह काम पूरे करेगी। लेकिन, बाद में इन्हें पता चला कि काॅलोनी रेगुलराइज ही नहीं है। इस काॅलोनी में डाले गए सीवरेज के कनेक्शन काउंसिल की मेन लाइन से नहीं जोड़े गए है और ना ही क्षेत्र में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाया है।

वहीं, पानी की सप्लाई भी नहीं थी। लेकिन, अब जब लोगों ने शोर मचाया तो स्थानीय एमसी ने जैसे तैसे पानी की लाइन तो काउंसिल की लाइन से जूड़वा दी। लेकिन, यह पानी भी प्रर्याप्त नहीं है। पानी का प्रेशर इतना कम है कि लोगों की जरूरत पूरी नहीं हो रही है। जिस कारण लोगों को गर्मी के दिनों हर साल की तरह इस साल भी टैंकर मंगवाकर पानी की जरूरत को पूरा कर गुजारा करना पड़ रहा है।

अवैध बिजली के कनेक्शन से हो रही सप्लाई: क्षेत्र में करीब 86 घर हैं, जिनमें सेे कई घरों को काउंसिल द्वारा एनओसी ना दिए जाने के कारण इन्हें बिजली के कनेक्शन नहीं मिल पा रहे हैं। बिल्डर द्वारा अस्थाई तौर पर एक मीटर पर चार-चार कनेक्शन बिजली के दे रखे हैं। थ्री-फेज लाइन ना होने के कारण लो वोल्टेज के कारण लोगों को परेशानी रहती है। इसी तरह क्षेत्र में सीवरेज की डिस्पोजल ना होने के कारण सीवरेज की निकासी की समस्या बरकरार है। क्षेत्र की सड़कें कच्ची हैं, जिन्हें पक्का नहीं किया जा रहा। हल्की सी बारिश के बाद काॅलोनी के सभी रास्ते दलदल के रूप में बदल जाते हैं।

काॅलोनी में लोगों ने हरजीत सिंह को लेटर में लिखी सभी समस्याएं

कुछ लोगों के तो नक्शे भी हो रखे हैं पास

इन लोगों ने कहा कि इनके द्वारा अपने मकान बनाने के लिए नगर काउंसिल से नक्शे पास करवाए हैं। जिनकी एवज में इनके द्वारा सभी डेवलपमेंट चार्जेज भी दिए गए हैं। इसके बावजूद नगर काउंसिल इन लोगों को सुविधाओं के नाम पर कुछ भी नहीं दे रही। इन लोगों ने कहा कि अगर काउंसिल इन्हें सुविधाएं दे ही नहीं सकती थी तो इनसे डेवलपमेंट चार्जेज क्यों लिए गए। बिल्डर द्वारा काॅलोनी में बिजली की आपूर्ति के लिए एक भी ट्रांसफार्मर नहीं लगवाया गया। अब इन लोगों को जो बिजली मिल रही है वह बहुत ही कम है। जिससे इनका गुजारा नहीं हो रहा। क्षेत्र में स्ट्रीट लाइटें भी नहीं हैं। इन लोगों ने बिल्डर से उक्त काॅलोनी रेगुलराइज करवाने की मांग की है। अगर ऐसा नहीं हो सकता तो काउंसिल को इस बिल्डर के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग की है। वहीं, इन लोगों ने कहा कि डेवलपमेंट चार्जेज ले चुकी काउंसिल इन लोगों को अब विकास दे। इस मौके पर हरजीत सिंह ने कांउसिल के अधिकारियों को चेतावनी दी है कि अगर जल्द ही इन लोगों की समस्या का समाधान ना हुआ तो वह लोग संघर्ष करेंगे व निदेशक निकाय विभाग को मिलेंगे।

बिल्डरों के खिलाफ नहीं की जा रही उचित कार्रवाई

इस काॅलोनी के निकट स्थित बरसाती पानी का नाला कुछ बिल्डरों द्वारा कवर करके इसके ऊपर से कच्ची सड़क बनाकर रास्ता निकाला हुआ है, जो आगे जाकर अनकवर हो रखा है। जिस कारण यहां पर बदबू भरा माहौल बना हुआ है। बरसातों में सांप व अन्य जीव लोगों के घरों में आना अब आम बात हो रखी है। इस काॅलोनी काे पूरी तरह से विकसित करने में असफल हुए बिल्डर इन दिनों पास ही की एक अन्य काॅलोनी काट रहे हैं। लेकिन, उनके खिलाफ कोई भी कार्रवाई करने का तैयार नहीं है।