Hindi News »Chandigarh Zilla »Mohali »Kharar» स्पाइस लाइट प्वाॅइंट: सड़कों पर गड्‌ढों के कारण एक्टिवा का नियंत्रण खाेने से सिर पर आई चोटें

स्पाइस लाइट प्वाॅइंट: सड़कों पर गड्‌ढों के कारण एक्टिवा का नियंत्रण खाेने से सिर पर आई चोटें

विनीत राणा | मोहाली Vineet.rana@dbcorp.in शहर में बनी सड़कों पर इतने गहरे व चौड़े गड्ढे हैं कि वो किसी वाहन चालक की जान लेकर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 09, 2018, 02:00 AM IST

  • स्पाइस लाइट प्वाॅइंट: सड़कों पर गड्‌ढों के कारण एक्टिवा का नियंत्रण खाेने से सिर पर आई चोटें
    +1और स्लाइड देखें
    विनीत राणा | मोहाली Vineet.rana@dbcorp.in

    शहर में बनी सड़कों पर इतने गहरे व चौड़े गड्ढे हैं कि वो किसी वाहन चालक की जान लेकर रहेंगी। इस और न नगर निगम ध्यान दे रहा है और ना गमाडा। क्योंकि, शहर की कुछ सड़कें निगम के अधीन आती हैं, तो कुछ गमाडा के। शनिवार सुबह गांव बडाली खरड़ के रहने वाले एक्टिवा चालक 43 साल का अमरजीत सिंह सड़क में पड़े गड्ढे का शिकार हुआ। स्पाइस लाइट प्वाॅइंट पर सड़क के बीच पड़े तीन गड्ढों में अमरजीत सिंह की एक्टिवा का टॉयर स्लीप हुआ। जिससे वह औंधे मुंह सड़क के बीच गिरा और उनका पूरा मुंह छील गया। वह बेहोश हो गए और राहगीरों ने तुरंत उनको वहां से उठाकर एक पेड़ की छाया में बैठाकर पानी पिलाने का प्रयास किया। लेकिन, वह कुछ नहीं बोल रहे थे तो राहगीर खरड़ निवासी गुरप्रीत संधू घायल अमरजीत सिंह को तुरंत सिविल हॉस्पिटल फेज-6 ले जाया गया। वहां से उनको डॉक्टरों ने हेड इंजरी के कारण जीएमएसएच-16 रेफर कर दिया। लेकिन, हॉस्पिटल में अमरजीत सिंह की प|ी आ गई थी। जोकि, उनको जीएमएसएच-16 हॉस्पिटल ले जाने की बजाए सोहाना हॉस्पिटल में ले गई, क्योंकि वह वहीं पर काम करती हैं।

    सड़कों पर पड़े गड्ढ़े बन रहे खतरा

    आगे जा रही गाड़ी तीनों गड्ढे से बचकर निकल गई, लेकिन अमरजीत संभल नहीं पाए...अमरजीत सिंह अपनी प|ी को सोहाना हॉस्पिटल ड्यूटी पर छोड़कर एयरपोर्ट मार्ग से होते हुए फेज-1 जा रहे थे। वह जैसे ही स्पाइस लाइट प्वाॅइंट चौराहे से मात्र 30 मीटर पीछे थे कि उनकी एक्टिवा गहरे गड्ढे में टॉयर स्लीप हो गया। जिस कारण वह अनियंत्रित होकर रगड़ते हुए दूर जाकर गिरे। प्रत्यक्षदर्शी गुरप्रीत संधू ने बताया कि वह भी अमरजीत सिंह के पीछे जा रहे थे। वह अपनी प|ी को इंडस्ट्रियल एरिया फेज-8 में छोड़कर आए थे। हकीकत में एक्टिवा सवार अमरजीत सिंह के आगे एक गाड़ी जा रही थी। सड़क में तीन गड्ढ़े थे। जिनमें से गाड़ी चालक ने बचाकर निकाल लिया। लेकिन, पीछे एक्टिवा सवार अमरजीत सिंह को उन गड्ढों का पता नहीं चला। टॉयर पहले गड्ढे में गिरा और जैसे ही अमरजीत संभलने लगे तो आगे दूसरे गड्ढे में गहरा कट लगे होने के कारण टॉयर गड्ढे से निकल नहीं पाया। बल्कि, स्लीप कर गया। जिससे अमरजीत सिंह एक्टिवा के साथ काफी दूर तक रगड़ते हुए गिरे।

    गड्ढ़े के कारण बाइक चालक की गर्दन की हड्डी टूटी...

    शनिवार रात फेज-11 में एक बाइक चालक लड़का गड्ढे के कारण स्लीप हो गया। वहां से गुजर रहे लोग उसको उठाकर जीएसएसएच-32 ले गए। वहां पर डाक्टरों ने बताया कि उसकी गर्दन ही हड्डी टूट गई है और वह अब जिंदगी व मौत के बीच जूंझ रहा है। इसकी सूचना फेज-11 पुलिस स्टेशन को नहीं है। लेकिन, प्रत्यक्षदर्शी हरमेश ने बताया कि वह खुद मौके पर मौजूद थे। गड्ढे के कारण बाइक स्लीप हुआ और तब चालक गिरा। यह तो शुक्र था कि पीछे से कोई अन्य वाहन उस पर नहीं चढ़ा।

    गिरते ही बेहोश हुए, लोग खींचने लगे फोटो...

    गुरप्रीत संधू ने बताया कि वह वहां से गुजर रहे लोग अमरजीत को संभालने के लिए रुक गए थे। लेकिन, दूसरी तरफ मार्ग से जा रहे कुछ लोग फोटोज खींचने लगे हुए थे व वीडियो भी बना रहे थे। अमरजीत सिंह का पूरा मुंह छील चुका था और खून निकल रहा था। उनको तुरंत वहां से उठाकर एक पेड़ की छाया में बैठाकर पानी पिलाने का प्रयास किया गया तो उन्होंने नहीं पिया। उनके मोबाइल से उनके घरवालों को सूचित किया गया। लेकिन, उनको उक्त हॉस्पिटल ले गए। हॉस्पिटल में हेड इंजरी के कारण एमआरआई होनी थी, जोकि इस हॉस्पटिल में है नहीं थी। इसलिए, उनको चंडीगढ़-16 हॉस्पिटल रेफर कर दिया गया। लेकिन, सिविल हॉस्पिटल में उनकी प|ी आ गई थी। वो खुद सोहाना हॉस्पिटल में काम करती हैं, इसलिए अपने पति को वहीं इलाज के लिए ले गईं।

    मां-बच्ची कीचड़ में गिरी, लोग उठाने के बजाए बनाते रहे वीडियो...दूसरी घटना भी शनिवार को बलोंगी खरड़ मार्ग पर घटी। टीडीआई की रहने वाली नीतू अपने छोटे बच्चे के साथ एक्टिवा पर जा रही थी। तभी सड़क में गड्ढ़े के कारण एक कार चालक ने कट मारा, जिससे एक्टिवा फेंट मार गया। जिससे एक्टिवा सवार मां व बच्चा सड़क के किनारे कीचड़ में जा गिरे। मां बेहोश हो गई और बच्चा उसको पकड़ कर रोता रहा। वहां से गुजर रहे लोगों ने घायल को उठाने या हॉस्पिटल ले जाने का प्रयास नहीं किया। बल्कि, वीडियो बनाने लगे रहे। एक कार चालक हरजिंदर सिंह ने जब रश देखा तो अपनी फैमिली कार से उतरकर घायल मां व बच्चे को लेकर गए। जहां से महिला की हालत गंभीर होने के कारण पीजीआई रेफर कर दिया गया।

  • स्पाइस लाइट प्वाॅइंट: सड़कों पर गड्‌ढों के कारण एक्टिवा का नियंत्रण खाेने से सिर पर आई चोटें
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kharar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×