पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • दो भाजपा पार्षदों ने अपनी परिषद से कहा डीपीआर के खिलाफ सीवरेज की जांच करो

दो भाजपा पार्षदों ने अपनी परिषद से कहा- डीपीआर के खिलाफ सीवरेज की जांच करो

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वार्ड 30 में कई जगह लाइन डालने के बाद रोड रेस्टोरेशन का काम नहीं किया।

48 करोड़ के काम पर सवाल, शहर में 75 किमी तक सीवरेज लाइन की हुई खुदाई

भास्कर संवाददाता | खरगोन

शहर में अमृत योजना में 48 करोड़ रुपए के अंडरग्राउंड सीवरेज सिस्टम के काम पर भाजपा के दो पार्षदों ने अपनी ही नगर पालिका परिषद पर सवाल खड़े किए हैं। पार्षदांे ने निर्माण को डीपीआर खिलाफ बताकर घटिया निर्माण और राशि रोकने की मांग की है। मामले मंे सीएमओ को जांच की मांग को लेकर पत्र लिखा है। अध्यक्ष ने जांच को कहा है। साथ ही घटिया निर्माण निकला तो संबंधित ठेकेदार के खिलाफ कार्रवाई होगी।

भाजपा के भायजुमो को प्रदेश सहसंयोजक और वार्ड 30 के पार्षद लक्ष्मण इंगले व वार्ड 4 की पार्षद पायल पवन सेन ने कहा कि शहर मंे सीवरेज का काम पीसी स्नेहल कंस्ट्रक्शन कंपनी अहमदाबाद गुजरात कर रही है। 143 किमी की खुदाई कर सीवरेज की लाइन डाली जा रही है। अब तक 75 किमी लाइन खोदी गई है। पार्षदों ने कहा कि कंस्ट्रक्शन कंपनी के काम की लापरवाही को लेकर शहरवासी भी विरोध जता चुके हैं।

निर्माण पर उठाए 6 सवाल
1. सीवरेज मंे एक ही प्रकार के पाइप का उपयोग किया जा रहा है, जबकि अलग-अलग पाइप उपयोग मंे लेना थे।

2. वार्ड क्रमांक 4 मंे गौरीधाम मंे डीपीआर के खिलाफ काली रेत व डस्ट का उपयोग खुले रूप से हुआ।

3. निर्माण में डीपीआर का उल्लंघन किया है, डीपीआर के अनुसार काम नहीं किया गया।

4. सीवरेज लाइन डालने के बाद सड़क पर रोलर नहीं घुमाया गया, इससे सड़कें उबड़-खाबड़ बन रही है।

5. सीसी रोड की खुदाई के बाद बगैर बैस के केवल िगट्‌टी डालकर ऊपर से कांक्रीट किया जा रहा है।

6. ड्राइंग के लेवल से पाइप नहीं डाले गए हैं, सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट मंे पाइप डालने से पूर्व बिडिंग नहीं की गई।

आदेश भी बेअसर
कलेक्टर शशिभूषणसिंह ने शहर में सीवरेज लाइन का निरीक्षण किया था। साथ ही बारिश के पहले खुदाई को भरने और आम लोगों के िलए रास्ता बनाने को कहा था लेकिन कई जगह कलेक्टर के आदेश का पालन ही नहीं हुआ है। लोगों को अब भी कई जगह परेशानी हो रही है।

जांच मंे भारी भ्रष्टाचार निकलेगा
सीवरेज लाइन का काम घटिया तरीके से किया जा रहा है। जांच के िलए सीएमओ को पत्र लिखा है। इसमें ठेकेदार व अन्य लोगों का भारी भ्रष्टाचार निकलेगा। कई जगह रोड रेस्टोरेशन अधूरा छोड़ दिया है। शहरवािसयांे को परेशानी हो रही है। - लक्ष्मण इंगले, पार्षद वार्ड 30

ठेकेदार पर कार्रवाई करेंगे
पार्षदों ने शिकायत पर इसकी जांच कराएंगे। जांच मंे यदि घटिया निर्माण साबित होता है तो हम ठेकेदार पर कार्रवाई करंेगे। - विपिन गौर, अध्यक्ष नपा खरगोन

अधूरा काम होने से लोगांे को हो रही यह परेशानी
सीवरेज लाइन का काम कई जगह पर अधूरा छोड़ा है। चार माह बाद भी रोड रेस्टोरेशन काम नहीं पूरा हुआ। इससे सड़क खराब हो गई है। बड़े गड्‌ढे हो गए हैं। बारिश मंे बच्चांे का निकलना मुश्किल हो रहा है। शासन के निर्देश है कि रोड रेस्टोरेशन का काम बारिश के पूर्व किया जाए, लेकिन नहीं हुआ।

ऐसा है सीवरेज लाइन का काम
48 करोड़ रुपए अमृत योजना मंे सरकार ने स्वीकृत किए हैं। शहर को गंदी नाली मुक्त बनाने के लिए सीवरेज सिस्टम के तहत नालियांे को अंडर ग्राउंड कर चंेबर बनाए जा रहे हैं। जनवरी 2018 मंे काम शुरू हुआ था लेकिन प्राेजेक्ट मंे देरी की जा रही है। निर्माण की डेडलाइन िदसंबर 2019 है। इसके तहत शहर के 27 हजार घरांे की नालियां सीवरेज लाइन में जोड़कर शहर से नाली के गंदे पानी को शहर से बाहर निकाला जाएगा।

कांग्रेस ने नगरीय प्रशासन मंत्रालय को की शिकायत
कांग्रेस ने भी एक माह पूर्व नगरीय प्रशासन मंत्री माया सिंह के नाम मंत्रालय को पत्र लिखा है। कांग्रेस के पार्षद अल्ताफ आजाद ने सीवरेज लाइन में जांच के लिए मंत्री को पत्र लिखा था।

खबरें और भी हैं...