पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • पुलिस मानसिक रूप से था परेशान कांग्रेस गरीबी के कारण लगाई फांसी

पुलिस-मानसिक रूप से था परेशान कांग्रेस-गरीबी के कारण लगाई फांसी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जांजगीर-चांपा | कुरियारी के धनीराम बंजारे ने गुरूवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। टीआई आत्महत्या करने वाले की मानसिक स्थिति अस्थिर होना बता रहे हैं तो कांग्रेस ने इसके लिए उसकी गरीबी को जिम्मेदार ठहराया है। कांग्रेस का आरोप है कि धनीराम की प्रेरक की नौकरी छूटने से वह परेशान था इसलिए उसने फांसी लगाई।

शिवरीनारायण थाना क्षेत्र के कुरियारी का युवक धनीराम खूंटे साक्षर भारत कार्यक्रम में प्रेरक था। उसके पास खेती के नाम पर मात्र 20 डिसमिल जमीन है। उसकी प|ी और दो बेटे हैं। उसे प्रेरक के एवज में प्रति माह 2000 रुपए मानदेय मिलता था। सरकार ने 31 मार्च से प्रेरकों को निकाल दिया है। इसके बाद से इस योजना में काम करने वाले बेरोजगार हो गए हैं। कांग्रेस जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा का दावा है कि बेरोजगारी के ही कारण उसने आत्महत्या की है। वहीं पुलिस इस प्रकार की घटना से इनकार कर रही है। टीआई अजयशंकर त्रिपाठी का कहना है कि बयान में उसके घर वाले और गांव वालों का कहना है कि वह पिछले चार- पांच माह से मानसिक रूप से परेशान था।

गांव के सरपंच के पति ने लगाई फांसी
जांजगीर- सेमरा | चौराभांठा पंचायत की सरपंच मोहतस बाई सहिस के पति हरनारायण सहिस ने शुक्रवार की रात अपने भाई के सुने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। इस दौरान उसकी प|ी घर में नहीं थी, वह अपने बहन के घर कोरबा गई थी। श्री साहू के अनुसार तीन दिन पहले शराब पीने के कारण ही दोनों पति प|ी के बीच झगड़ा हो गया। झगड़ा से नाराज होकर सरपंच दूसरे दिन अपनी बहन के घर कोरबा चली गई। शुक्रवार की रात करीब 11 बजे हरनारायण अपने घर से निकला और अपने भाई के सूनेे घर में जाकर फांसी लगा ली।

आज जाएगी जिला कांग्रेस की टीम
जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष दिनेश शर्मा ने इस मामले की जांच करने के लिए ग्यारह सदस्यों की टीम बनाई है। टीम में शेषराज हरवंश, गोरलाल बर्मन, प्रेमचंद जायसी, रविशेखर भारद्वाज, रामकिंकर शुक्ला, शत्रुहनदास महंत, मनोज तिवारी, राजेंद्र यादव, रामलाल यादव, गोविंद कश्यप, चिंताराम कश्यप शामिल किए गए हैं। टीम रविवार को जांच करने के लिए कुरियारी जाएगी और प्रेरक के आत्महत्या करने के कारणों की पड़ताल करेगी।

जांजगीर-चांपा | कुरियारी के धनीराम बंजारे ने गुरूवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। टीआई आत्महत्या करने वाले की मानसिक स्थिति अस्थिर होना बता रहे हैं तो कांग्रेस ने इसके लिए उसकी गरीबी को जिम्मेदार ठहराया है। कांग्रेस का आरोप है कि धनीराम की प्रेरक की नौकरी छूटने से वह परेशान था इसलिए उसने फांसी लगाई।

शिवरीनारायण थाना क्षेत्र के कुरियारी का युवक धनीराम खूंटे साक्षर भारत कार्यक्रम में प्रेरक था। उसके पास खेती के नाम पर मात्र 20 डिसमिल जमीन है। उसकी प|ी और दो बेटे हैं। उसे प्रेरक के एवज में प्रति माह 2000 रुपए मानदेय मिलता था। सरकार ने 31 मार्च से प्रेरकों को निकाल दिया है। इसके बाद से इस योजना में काम करने वाले बेरोजगार हो गए हैं। कांग्रेस जिलाध्यक्ष दिनेश शर्मा का दावा है कि बेरोजगारी के ही कारण उसने आत्महत्या की है। वहीं पुलिस इस प्रकार की घटना से इनकार कर रही है। टीआई अजयशंकर त्रिपाठी का कहना है कि बयान में उसके घर वाले और गांव वालों का कहना है कि वह पिछले चार- पांच माह से मानसिक रूप से परेशान था।

खबरें और भी हैं...