कुराली

  • Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Kurali
  • कुराली फोकल प्वाॅइंट की सड़कों का हुआ खस्ता हाल, दिखती हैं तालाब की तरह
--Advertisement--

कुराली फोकल प्वाॅइंट की सड़कों का हुआ खस्ता हाल, दिखती हैं तालाब की तरह

स्थानीय नगर काउंसिल के अंतर्गत आते गांव चनालो के फोकल प्वाॅइंट की सड़कों की खस्ता हालत लोगों के लिए परेशानी का...

Danik Bhaskar

Jun 22, 2018, 02:00 AM IST
स्थानीय नगर काउंसिल के अंतर्गत आते गांव चनालो के फोकल प्वाॅइंट की सड़कों की खस्ता हालत लोगों के लिए परेशानी का कारण बनी हुई है। करोड़ों रुपए की लागत के साथ पिछली सरकार के समय बनी ये सड़कें अब तालाबों का रूप धारण कर चुकी हैं। लोगों ने फोकल प्वाॅइंट की तालाब बनी सड़कों की हालत को सुधारे जाने की मांग की है।

फोकल प्वाॅइंट में फैक्टरियां लगाने वाले इंडस्ट्रलिस्ट और एसोसिएशन द्वारा काफी संघर्ष तथा य|ों के बाद ही पिछली अकाली-भाजपा सरकार के समय लगभग सात साल पहले तत्काल हलका विधायक जत्थेदार उजागर सिंह बडाली के य|ों से राज्य सरकार की ओर से फोकल प्वाॅइंट की सड़कों के लिए करोड़ों रुपए की विशेष ग्रांट जारी की थी। बादल सरकार द्वारा कार्यकाल के दौरान जारी की ग्रांट के साथ ही फोकल प्वाॅइंट की मुख्य सड़कों की हालत सुधारने का काम पूरा होते ही भारी वाहनों तथा सामान से भरे ट्रकों के कारण सड़कें साइडों से टूटनी शुरू हो गई थी। सड़कें बनने के बाद पहली बरसात के खत्म होने तक फोकल प्वाॅइंट की अधिकतर सड़कों का अस्तित्व ही खत्म हो गया है और इन सड़कों में बड़े-बड़े गड्ढे पड़ने शुरू हो गए हैं। उस समय ठेकेदार द्वारा तुरंत बाद ही सड़कों को पंचर लगाकर विभाग और लोगों की आंखों में धूल डालने की कोशिश की थी। लेकिन, इसके बावजूद अब एक बार भी कई हिस्सों से ये सड़क अपना अस्तित्व खो चुकी है। आज जब फोकल प्वाॅइंट का पत्रकारों ने दौरा किया तो देखा कि गेट नंबर 1 जोकि गांव चनालो की तरफ बना हुआ है। इससे फोकट प्वाॅइंट के अंदर को जाती मुख्य सड़क जोकि गांव सिंघपुरा को सीधे जोड़ती है। उस सड़क की हालत काफी खस्ता बनी हुई है। इस सड़क में कई जगहों पर गड्ढे पड़े हुए हैं और पानी भरने के कारण यह सड़क तालाब का रूप धारण किए हुए हैं।

फोकल प्वाॅइंट के हाईवे पर बने गेट नंबर 2 से फोकल प्वाॅइंट को सीधे दाखिल होने वाली सड़क की हालत भी अच्छी नहीं है। यही नहीं, बल्कि फोकल प्वाॅइंट के अंदर वाली सड़कों की हालत इतनी खस्ता है कि वहां पर सड़क जैसी कोई भी चीज दिखाई ही नहीं दे रही। सूखे मौसम में इन सड़कों से उड़ती धूल, इनमें पड़े गड्ढे जहां लोगों के लिए परेशानी का कारण बनते हैं। वहीं बारिश होने के बाद सड़कों पर कई दिन तालाब बने रहते हैं।

सड़कें खराब होने से फैक्टरियों में आ रही रुकावट

इसी दौरान अलग-अलग फैक्टरियों में काम करने वाले अशोक यादव, महेश कुमार, पपू शर्मा, मोहित कुमार, शिवराज, रवि शंकर और अन्य ने बताया कि उन्हें फैक्टरियों में शिफ्टों में काम करने के लिए रात के समय और सुबह तड़के आना-जाना पड़ता है। उन्होंने कहा कि सड़कों की हालत खस्ता होने के कारण उन्हें आने-जाने में भारी परेशानी झेलनी पड़ती है। इन सड़कों पर वाहनों का आना-जाना तो संभव ही नहीं है, जबकि पैदल आने पर भी उन्हें अपनी जान जोखिम में डालनी पड़ रही है। उन्होंने सड़कों की हालत को सुधारे जाने की मांग की है। दूसरी तरफ सड़कों की हालत खस्ता होने के कारण इसका प्रभाव फैक्टरियों के काम काज पर भी पड़ रहा है।


पिछली सरकार ने एक दशक के दौरान फोकल प्वाॅइंट की कोई सार नहीं ली। इस विषय पर वह अधिकारियों के साथ कई मीटिंगें कर चुके हैं और उन्होंने यह मामला मुख्यमंत्री पंजाब कैप्टन अमरिन्द्र सिंह के ध्यान में ला दिया है। फोकल प्वाॅइंट की हालत को सुधारने के लिए ठोस कदम उठाए जा रहे हैं, ताकि अधिक से अधिक नौजवानों को यहां पर रोजगार मिल सके। - जगमोहन सिंह कंग, कैबिनेट मंत्री

Click to listen..