• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Kurali
  • ठेकेदार सिर्फ मिट्टी समतल करके बिछा रहा था पेवर ब्लाॅक, लोगों के विरोध पर विभाग ने रुकवाया काम
--Advertisement--

ठेकेदार सिर्फ मिट्टी समतल करके बिछा रहा था पेवर ब्लाॅक, लोगों के विरोध पर विभाग ने रुकवाया काम

करोरा रोड की टूटी-फूटी सड़क से परेशान गांव निवासियों के लिए नगर काउंसिल द्वारा एक करोड़ दस लाख से पेवर ब्लाक लगाकर...

Danik Bhaskar | May 28, 2018, 02:05 AM IST
करोरा रोड की टूटी-फूटी सड़क से परेशान गांव निवासियों के लिए नगर काउंसिल द्वारा एक करोड़ दस लाख से पेवर ब्लाक लगाकर इसकी मरम्मत का काम ठेकेदार को दिया। क्योकि इस रोड का इतना बुरा हाल है कि वाहन चलाना तो दूर पैदल चलना भी खतरे से खाली नहीं है। इस रोड पर सेंचुरी पब्लिक स्कूल है।

जिसमंे लगभग दो हजार के करीब बच्चों व उनके अभिभावकों को स्कूल जाने के लिए इस रोड से होकर गुजरना पड़ता है। लेकिन उन्हें स्कूल पहुंचने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। नगर काउंसिल द्वारा प्रस्ताव पास करके इसे बनाना शुरू किया लेकिन पहले तो इस रोड के कार्य की गति बहुत धीमी है दूसरा ठेके द्वारा सड़क के निर्माण के लिए मापदंड भी सही नहीं थे। सिर्फ सडक को जेसीबी से गहराई बनाकर सिर्फ मिट्टी को समतल करके ऊपर पेवर ब्लाक बिछाने का काम कर रहा है। इस पर लोगों शिकायत पर विभाग के अधिकारियों ने ठेकेदार से बीच में ही काम रूकवा दिया है।

झोला छाप डाॅक्टर का सामान किया जब्त

आरोपी डॉक्टर कर रहा था पुडिया देकर इलाज, ड्रग इंस्पेक्टर ने छापा मारकर पकड़ा

सिटी रिपोर्टर | मुल्लांपुर

सिसवा के एिरया में पिछले काफी समय से झोला छाप डॉक्टरों की भरमार हो गई है। इसके मद्देनजर गांव सिसवा में स्थित प्राचीन भैरो जती मंदिर के पुजारियों की और से मंदिर की दीवार पर ये लिख दिया गया था कि अगर कोई मंदिर के नाम पर दवाई बेचता है तो मंदिर की कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।

झोलाछाप डॉक्टर जो कि दवाईयां और पुडियां मरीजों को देकर बडी बीमारी जिसमें कैंसर, किडनी, गुर्दे, ववासीर आदि के इलाज करने का दावा करता है। इसी मदेनजर आज जिला आयुर्वेदिक एंड यूनानी अफसर कम ड्रग इंस्पेक्टर मोहाली डॉक्टर चंदन कौशल और उनके साथ सुपरिंटेंडेंट हरप्रीत पाल सिंह ने सिसवां स्थित मंदिर के पास झोला छाप डॉक्टरों को पकड़ने पहुंचे। जब उन्होंने वहां एक प्रसाद बेचने वाली दुकान के पीछे भीड़ लगी देखी तो वह वहां पहुंचे वहां पर एक वयक्ति मरीजों की जांच के बाद उन्हें दवाईयां दे रहा था। ड्रग इंस्पेक्टर ने बताया कि उन्हें देख ये व्यक्ति घबरा गया और उसके पास पड़ी पुड़ियों को वह बाल्टी में छुपाने लगा।

डॉक्टर चंदन कौशल ने बताया कि इस वयक्ति ने अपना नाम राजिंदर पाल शर्मा बताया जब इनसे इन पुडियो के बारे में पूछा तो कभी राजिंदर शर्मा अपने आप को मंदिर का भक्त बताता,कुछ देर बाद किसी कंपनी का मैनेजर बताने लगा और फिर बात को पलट अपने आप को पत्रकार की धौंस दिखा डॉक्टर चंदन को एक पंजाबी अखबार का पत्रकार होने का कार्ड दिखाने लगा। ड्रग इंस्पेक्टर ने बताया कि राजिंदर कुमार के पास से उन्हें 69 पुड़ियां और किसी कंपनियों की दवाईयां मिली हैं और राजिंदर कुमार को बकायदा नोटिस जारी कर मिला समान कब्जे में लेकर सैंपल के लिए लेबोरटरी भेज दिया गया है।

डॉक्टर चंदन ने बताया कि नोटिस में उन्होंने राजिंदर कुमार से ये पूछा है कि आपकी और से जो क्लिनिक चलाया जा रहा है और आपकी और से आयुर्वेदिक मेडिकल प्रणाली के माध्यम से शर्तिया इलाज करने का दावा भी किया जा रहा है इस कारण आप को हिदायत की जातीं है कि अगर आप के पास पंजाब की आयुर्वैदिक की रजिस्ट्रेशन नहीं है तो आप पंजाब आयुर्वैदिक शर्तिया इलाज के लगे बोर्ड को हटाएं।

कॉलोनी में दो महीनों से ठप पड़े निकासी के प्रबंध, लोगों ने की नारेबाजी

कुराली | स्थानीय वार्ड नंबर 17 में गत दो महीने से कई दर्जन घरो की निकासी बंद होने कारण लोगो को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है तथा गलियों और घरो के आसपास भरे गंदे पानी से बीमारी फैलने का खतरा बना हुआ है। मुहल्ला वासियों ने नगर काउंसिल की ओर से इस संबंधी कोई कार्रवाई ना किए जाने को लेकर आज लोगो ने नगर काउंसिल के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए गंदे पानी के निकास के ठोस प्रबंध किए जाने की मांग की।

गलियों में निकासी प्रबंध ठप होने कारण गली में भरे गंदे पानी को दिखाते हुए विपन वर्मा,ददविन्द्र कुमार,विमला रानी,वीना सूद,अमित वर्मा,सत्या देवी,विन्द्र सूद,आशा रानी और मीनू शर्मा सहित अन्य ने बताया कि उनके वार्ड नंबर 17 की खुशी राम कॉलोनी के कई दर्जन घरो की निकासी का गंदा पानी डेरा बाबा गोसाई आणा की दीवार के साथ बने नाले से होते हुए बड़े नाले में जाता था लेकिन गत दो महीने पहले डेरा बाबा गोसाई आणा के पास रेलवे फाटकों पर अंडर ब्रिज बनाने को लेकर काम शुरू किया गया था तथा अंडर ब्रिज की खुदाई दौरान जेसीबी मशीनों के साथ सारी मिट्टी खोद कर गोसाई आणा के साथ बनी दीवार के साथ लगा दी गई। जिस कारण कई-कई फुट मिट्टी गिरने से निकासी नाला पूरी तरह से बंद हो गया।