• Home
  • Chandigarh Zilla
  • Mohali
  • Lalru
  • लालडू के नजदीक झरमल नदी की दशकों पुरानी बदबू से मिली राहत
--Advertisement--

लालडू के नजदीक झरमल नदी की दशकों पुरानी बदबू से मिली राहत

लालडू के नजदीक झरमल नदी में फैक्ट्रियों के प्रदूषित पानी का डिस्चार्ज रोककर निकासी के पक्के प्रबंध किए जाने से...

Danik Bhaskar | Jun 12, 2018, 02:00 AM IST
लालडू के नजदीक झरमल नदी में फैक्ट्रियों के प्रदूषित पानी का डिस्चार्ज रोककर निकासी के पक्के प्रबंध किए जाने से अंबाला चंडीगढ़ के राहगीरों समेत लालडू गांव के लोगों को दशकों से फैल रही बदबू से काफी राहत मिली है।

पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, ड्रेनेज विभाग और सिंचाई विभाग ने संयुक्त रूप से निकासी स्थल जहां पक्का हुआ है, वहीं सफाई प्रबंध मुकम्मल होने से पानी का बहाव साफ व दुरुस्त हो गया। नदी के पानी का बहाव बनाने के लिए वहां मिट्टी भरकर पक्का किए जाने का काम 6 महीने पहले शुरू हुआ था। बता दें कि इस प्रदूषित नदी की असहनीय बदबू से स्थानीय बाशिंदे ही नहीं, अंबाला-चंडीगढ़ के सड़क व ट्रेन के राहगीर दशकों से परेशानी झेलते आ रहे हैं। जानकारी देते हुए पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के एक्सईएन लवलीन दुबे ने बताया की नदी में पुल की सफाई न होने के कारण आसपास के रासायनिक उद्योगों का डिस्चार्ज पानी जमा होने से यहां बदबू फैल रही थी। पुल के नीचे दूर तक गंदा पानी खड़ा रहते थे क्योंकि निकासी के प्रबंध नाकाफी थे।

बोर्ड के चेयरमैन कहां सिंह पन्नू के पास पहुंची शिकायतों के बाद इस जगह का जायजा लिया गया और नजदीकी फैक्ट्रियों के मालिकों के साथ बैठक की गई जिसके बाद पुल के नीचे दिसंबर महीने में सफाई का अभियान शुरू किया गया और वहां से गाद समेत पानी का बहाव ठीक करने के लिए नीचे का स्थान पक्का किया गया।

नदी के जमीन स्तर को समतल किया गया

सिंचाई विभाग के जेई नरिंदर ने बताया कि नाले के नीचे रुके पानी के बहाव के लिए नदी के जमीन स्तर को समतल किया गया। साथ ही पुल के नीचे नालियां पक्की बनाने के लिए पानी का फ्लो डायवर्ट रखा गया था जिसे अब खोल दिया गया है। पानी रुका रहने से असहनीय बदबू फैल रही थी। नदी के पानी के फ्लो को हाईवे के पुल से रेलवे पुल तक आगे बहाव दिया गया, वहीं आसपास प्रदूषण फैलाने की आरोपी फैक्ट्रीज पर नकेल कसी गई है। नरिंदर के अनुसार सफाई होने से जहां गंदगी से राहत मिली है वही वातावरण का भी बचाव हुआ है।