पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • नक्सल से प्रभावित गांव की छात्रा को भी हॉस्टल में नहीं मिल सका दाखिला

नक्सल से प्रभावित गांव की छात्रा को भी हॉस्टल में नहीं मिल सका दाखिला

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
द्वारतरा कला की छात्रा खुशबू मरकाम ने कलेक्टर जनदर्शन में आदिवासी कन्या छात्रावास में प्रवेश दिलाने की मांग की है। खुशबू का कहना है कि मैं अति पिछड़ी भुजिया जाति का गरीब छात्रा हूं। कक्षा पहली से 10वीं तक छात्रावास में रहकर पढ़ाई की हूं। कक्षा 11वीं में आशी बाई कन्या उच्चतर माध्यमिक शाला महासमुंद में प्रवेश ली हूं, लेकिन छात्रावास में प्रवेश नहीं मिलने के कारण परेशान हूं। मेरे पिता गरीब हैं। अन्य जगह किराए के मकान में रख पाने में असमर्थ हैं और महासमुंद से गांव की दूरी 70 किमी है। मेरा गांव नक्सल प्रभावित है।

पीएम आवास, राशन कार्ड के आवेदन ज्यादा आए: विकासखंडों से पहुंचे 105 ग्रामीणों व प्रतिनिधि मंडलों ने कलेक्टर हिमशिखर गुप्ता को अपनी मांग एवं समस्याओं से अवगत कराया। इनमें विभिन्न योजनाओं के तहत आर्थिक सहायता दिए जाने, राशन कार्ड बनवाने, प्रधानमंत्री आवास योजना से लाभान्वित करने, अतिक्रमण हटाने, वनाधिकार पट्टा दिलाने, भूमि का सीमांकन कराने संबंधी आवेदन प्रमुख थे। इनमें ग्राम बेलटुकरी के दिव्यांग छबिराम मरार ने बैटरी चलित ट्राइसिकिल दिलाने की मांग की। उन्होंने बताया कि वे दिव्यांग होने के कारण उन्हें कही आने-जाने में परेशानी होती है।

आदिवासी हाॅस्टल में प्रवेश की मांग को लेकर कलेक्टोरेट पहुंची खुशबू।

बेजा कब्जा हटाने की मांग

लाफिन खुर्द के ऋतु साहू ने बेजा कब्जा हटाने, भोरिंग के कृष्णा बाई साहू तथा डोमन बाई साहू ने विधवा पेंशन एवं आर्थिक सहायता राशि दिलाने, सलिहाभाठा के ग्रामीणों ने शासकीय प्राथमिक शाला में शिक्षक की व्यवस्था करने, खैरा की हेमबाई ने विद्युत बिल अधिक आने संबंधित आवेदन सौंपा।

खबरें और भी हैं...