पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • सरपंच सचिव ने अपात्र को पात्र बना दे दिया आवास का लाभ

सरपंच-सचिव ने अपात्र को पात्र बना दे दिया आवास का लाभ

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिला मुख्यालय से 35 किमी दूर ग्राम कयामपुर में सरपंच-सचिव मनमानी कर पूर्व में अपात्र घोषित सुरेशकुमार सेठिया को प्रधानमंत्री आवास में पात्र घोषित कर लाभ पहुंचा रहे हैं। सेठिया का पहले से 660 वर्गफीट में दो मंजिला पक्का मकान है। इसके आगे मकान के पुराने एक हिस्से काे गिराकर आवास योजना का लाभ ले लिया। ग्रामीणों ने मामले की शिकायत जनपद सीईओ से भी की लेकिन आज तक सुनवाई नहीं हुई। शिकायत होने के बाद सेठिया ने शटर निकालकर पीछे एक कमरा बना दिया और आगे की दीवारें ऐसे ही छोड़ दीं।

प्रधानमंत्री आवास के नाम पर जिलेभर में कई जगह अपात्रों को लाभ पहुंचाने का काम चल रहा है। ऐसा ही मामला कयामपुर में सामने आया है। यहां सत्र 2016-17 में अनुक्रमांक 141 तक पीएम अावास स्वीकृत किए गए व 102 नं. सुरेशकुमार के पास बड़ा पक्का मकान होने पर अपात्र घोषित किया। इस साल ग्राम पंचायत ने सुरेश को पात्र घोषित कर प्रधानमंत्री आवास का लाभ दे दिया।

सुरेश के पास करीब 1 हजार वर्गफीट में मकान था, वर्तमान में भी 660 वर्ग फीट जमीन पर दो मंजिला पक्का मकान है। इसी मकान के आगे पुराने बने मकान को तोड़ प्रधानमंत्री आवास का लाभ दे दिया। ग्रामीण विमलकुमार जैन ने मामले की शिकायत जनपद सीईओ से भी की लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही। मौके पर निर्माण कार्य जारी है। जैन ने मामले की शिकायत अब शासन स्तर पर भी की है।

गड़बड़ी

प्रधानमंत्री आवास योजना के नाम पर पक्के मकान के आगे बनाईं जा रहीं दुकानें, ग्रामीणों ने जनपद सीईओ से की शिकायत, सुनवाई नहीं हुई

निर्माणाधीन स्थल के पीछे दो मंजिला मकान है। मौके पर इस तरह दुकानें बनाई जा रही हैं। (फोटो 2 जुलाई का)

शिकायत के बाद भी हितग्राहियों ने दीवार खड़ी कर के मकान बना दिया

यही नहीं गलत तरह से प्रधानमंत्री आवास का लाभ लेनेे के बाद मौके पर जिम्मेदारों द्वारा दुकानों का निर्माण किया जा रहा था। 2 जुलाई तक यहां सामने व साइड में दुकान के शटर लगना शुरू हो गए थे। लेकिन ग्रामीण द्वारा शिकायत किए जाने के बाद जुलाई अंत तक हितग्राही ने मध्य में दीवार खड़ी कर पीछे एक कमरा बना दिया। आगे अभी भी दुकानों के हिसाब से खाली जगह छोड़ रखी है। मामले में ग्राम पंचायत सचिव घनश्याम पाटीदार ने बताया कि सेठिया पात्र में आते हैं। उनका जो पुराना मकान था उसमें दरारें पड़ गई थीं और वह गिरने की कगार पर था। इसलिए प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत कराया है। उनके पास कोई जमीन नहीं है सिर्फ मकान ही है इसलिए वह पात्र में आते हैं।

शिकायत के बाद पीछे एक शटर निकालकर कमरा बना दिया, आगे दुकानों के लिए जगह छोड़ दी। (फोटो 26 जुलाई का)

मुझे मामले की जानकारी नहीं

मामले की जानकारी नहीं है। यदि गलत तरह से किसी को लाभ पहुंचाया है तो इसकी जांच करवाता हूं। राकेश शर्मा, सीईओ, जनपद पंचायत सीतामऊ

अपात्र को योजना का लाभ देना गलत

अपात्र को योजना का लाभ दिया है तो वह पूरी तरह से गलत है। मामले की जांच कर सभी जिम्मेदारों के खिलाफ जल्द कार्रवाई की जाएगी। आदित्य सिंह, सीईओ, जिला पंचायत

खबरें और भी हैं...