पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • शरीर के प्रति आसक्ति छोड़ो, तप तपस्या में आगे बढ़ो साध्वी मृदुप्रियाजी

शरीर के प्रति आसक्ति छोड़ो, तप-तपस्या में आगे बढ़ो- साध्वी मृदुप्रियाजी

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
हमें जमीकंद का त्याग करना चाहिए। बड़े पर्व व तिथियों पर वनस्पति का भी त्याग करना चाहिए। त्याग से हमें पाप कर्म से मुक्ति मिलती है। शरीर के प्रति आसक्ति छोड़कर तप-तपस्या में आगे बढ़ना चाहिए। स्वादिष्ट आहार करना और उससे शरीर की भूख शांत करना जन्मों से चला आ रहा है।

यह बात साध्वी मृदुप्रियाश्रीजी ने कही। वे रूपचांद आराधना भवन में चल रही धर्मसभा में बोल रही थीं। उन्होंने कहा आराधना होना जरूरी है। पिता के द्वारा कमाई गई धन-संपत्ति आपकी बहन के समान है जिसका उपयोग कन्यादान में होना चाहिए। अर्थात माता-पिता द्वारा छोड़ी धन-संपत्ति का उपयोग धार्मिक कार्यों में करना चाहिए।

इनकी चल रही तपस्या- विमल छिंगावत की 16 उपवास, सरोज बेन कोठारी की 13 उपवास पूर्ण, देवांशी जेन की 8 उपवास की तपस्या चल रही है। आराधना भवन में शंखेश्वर पार्श्वनाथ के तेले की तपस्या 5 अगस्त को शुरू हुई जो 8 को पूर्ण होगी। इसमें 60 तपस्वियों ने उपवास किए।

रूपचांद आराधना भवन में धर्मसभा में उपस्थित श्रावक-श्राविकाओं को संबोधित करती साध्वीश्री।

‘दूसरों को देखकर श्रद्धा मत बदलो, ऐसे लोग आत्मकल्याण का मार्ग प्रशस्त नहीं करते’

मंदसौर |
चातुर्मास के चलते शास्त्री कॉलोनी स्थित जैन दिवाकर स्वाध्याय भवन में धर्मसभा चल रही है। इसमें साध्वी श्री अपूर्वप्रज्ञाजी मसा ने मंगलवार को कहा आजकल हर व्यक्ति धनवान बनना चाहता है। वह सुख-समृद्धि प्राप्त कर यशवान बनना चाहता है। इसी लालच में अधिकतर लोग प्रतिदिन कई मंदिरों व धार्मिक स्थानों पर भगवान की आराधना करते हैं। कई एक ही देवता की उपासना उद्देश्य प्राप्ति के लिए करते हैं ताकि भगवान धन, सुख व समृद्धि की पूर्ति करें। हालांकि ऐसा होता नहीं है क्योंकि लालच में किया धर्म पुण्यकर्म का संचय नहीं करता। यदि हम कपड़ों की भांति देवी-देवता बदलते रहे तो भगवान कैसे सुनेगा। साध्वी ने कहा दूसरों को देखकर अपनी श्रद्धा मत बदलो, ऐसे लोग कभी अपने आत्मकल्याण का मार्ग प्रशस्त नहीं कर पाते।

कार्यकारिणी का मिलन समारोह आज

मंदसौर | जैन श्वे. मूर्तिपूजक श्रीसंघ के अध्यक्ष संजय मुरड़िया व प्रभारी सुरेंद्र लोढ़ा ने मूर्तिपूजक जैन श्वे. युवा संगम का नया गठन कर पदाधिकारियों की घोषणा की। इसमें उपाध्यक्ष पंकज खटोड़, महामंत्री राजेश बोहरा, प्रतीक चंडालिया, सहमंत्री पीयूष पोरवाल, शिखर धारीवाल, अनिल डांगी, नीलेश बम्बोरिया, राजेश छिंगावत, कोषाध्यक्ष राजकुमार श्रीमाल, अजय फांफरिया, सहकोषाध्यक्ष आशीष डूंगरवाल, वरुण किर्लोस्कर, संगठन मंत्री पंकज सुराणा, सोविल पोरवाल सहित कार्यकारिणी सदस्य मनोनीत हुए। युवा संगम के सभी पदाधिकारियों व कार्यकारिणी सदस्यों का मिलन समारोह 8 अगस्त को शाम 8.30 बजे राजेन्द्र विलास जीवागंज पर होगा।

खबरें और भी हैं...