• Hindi News
  • National
  • शिक्षकों काे बच्चों के शिक्षण में अपना बेस्ट देना चाहिए

शिक्षकों काे बच्चों के शिक्षण में अपना बेस्ट देना चाहिए

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जिला स्तरीय प्राथमिक शिक्षकों का ज्ञानसेतु कार्यशाला रविवार को सम्पन्न हुआ। समापन दिवस के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में क्षेत्रीय शिक्षा उपनिदेशक राम यतन राम मौजूद थे। उन्होंने मौके पर जिले के विभिन्न प्रखंडों से आए शिक्षकों को विद्यालय में प्राथमिक बच्चों को लर्निंग गैप को समाप्त करने के लिए उत्प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि सभी शिक्षकों को बच्चों के शिक्षण में अपना बेस्ट देना चाहिए। अन्यथा जो बच्चे शिक्षा के अभाव में समाज के गलत राह में चले जाएंगे उनकी पूरी जिम्मेदारी आप प्राथमिक शिक्षकों की होगी। इसलिए आप अपनी मेहनत से समाज के सभी वर्गों के बच्चे को बेहतर शिक्षण कर उन्हें समाज का सजग इंसान बनाने में अपनी भूमिका तय करें। इससे पुरातन समय का शिक्षक गौरव वापस पा सकें। प्राथमिक शिक्षक समाज और राष्ट्र निर्माण के सबसे महत्वपूर्ण कड़ी होते हैं। मुख्य उत्प्रेरक दिनेश कुमार शुक्ल ने बताया कि इस कार्यशाला में जिले के सभी प्रखंडों के छह-छह शिक्षकों को उत्प्रेरक के रूप में प्रशिक्षण दिया गया है, जो अपने-अपने प्रखंड में जाकर उस प्रखंड के सभी प्राथमिक शिक्षकों को अलग-अलग बैच में प्रशिक्षित करने का कार्य करेंगे। उसके बाद सभी प्राथमिक शिक्षक अपने विद्यालयों में जुलाई के अंतिम सप्ताह से ज्ञान सेतु कार्यक्रम के तहत प्राथमिक कक्षाओं के बच्चों को अधिगम संवर्धन के लिए गतिविधि आधारित शिक्षण देंगे। इसके लिए प्रति कार्य दिवस में पहली दो पीरियड ज्ञान सेतु के तहत कक्षा 1-5 के बच्चे को तीन अलग अलग समूहों निर्माण, लक्ष्य और प्रगति में रखकर उनके अधिगम संवर्धन के लिए अभ्यास कार्य कराएंगे तथा शेष पीरियड में सामान्य रूप से कक्षा स्तर की कक्षाएं संचालित होंगी। जबकि कक्षा 6-9 के बच्चों को लक्ष्य, सुगम एवं सुबोध नामक समूह में रखकर पहले डेढ़ माह पूरे कार्यदिवस में ज्ञान सेतु कार्यक्रम के तहत अभ्यास कार्य कराए जाएंगे और फिर डेढ़ माह बाद केवल कार्यदिवस के पहले दो पीरियड में अभ्यास कार्य कराए जाएंगे और शेष पीरियड में सामान्य कक्षाएं संचालित होंगी। इस कार्यक्रम का अनुश्रवण ब्लॉक व जिला स्तर की टीम के अतिरिक्त राज्य स्तरीय टीम करेगी।जिसमें इ-विद्यावाहिनी के माध्यम से ऑनलाइन मॉनिटरी की जाएगी। ज्ञान सेतु कार्यक्रम का लक्ष्य है कि राज्य के सभी सरकारी विद्यालयों में अध्ययन कर रहे बच्चों का अधिगम उनके कक्षा स्तर के हो। यह कार्यक्रम 30 माह के लिए निर्धारित है। इस अवसर पर फेसिलिटेटर दिनेश कुमार शुक्ल, ममता कुमारी, देवेश कुमार पांडेय एवं विभिन्न प्रखंडों के उत्प्रेरकगण उपस्थित थे।

मेदिनीनगर में ज्ञान सेतु कार्यक्रम में शामिल अधिकारी।

खबरें और भी हैं...