• Hindi News
  • National
  • भाटी रिलीव ; पैरेंट्स को मैसेज, बेटे ने कहा हमें जानकारी ही नहीं

भाटी रिलीव ; पैरेंट्स को मैसेज, बेटे ने कहा-हमें जानकारी ही नहीं

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर | सवाई मानसिंह स्कूल में चल रहे विवाद में सोमवार को नया मोड़ आया। स्कूल मैनेजमेंट की ओर से स्टूडेंट्स के पैरेंट्स को मैसेज कर प्रिंसिपल को बदलने की सूचना दी गई। स्कूल चेयरपर्सन विद्या देवी के नाम से भेजे गए मैसेज में स्कूल प्रशासन ने प्रिंसिपल कृष्णा भाटी को रिलीव कर कार्यकारी प्रिंसिपल आशा माथुर को बनाए जाने की जानकारी दी। आशा माथुर एसएमएस की ही वरिष्ठ शिक्षिका हैं जो 21 सालों से साइकोलॉजी पढ़ा रही हैं। स्कूल मैनेजमेंट की ओर से एडवाइजर दामोदर गोयल ने कहा 15 जून को हुई मीटिंग में कृष्णा भाटी की मौजूदगी में उन्हें प्रिंसिपल पद से रिलीव करने का निर्णय लिया गया था। गोयल ने बताया कि 31 मार्च 2019 को उनकी सेवानिवृत्ति तक के मानदेय 19 लाख रुपए का चैक 16 जून को ही भाटी को पोस्ट कर सेवामुक्त कर दिया गया है। जल्द नए प्रिंसीपल का चुनाव नियमानुसार किया जाएगा।

पूरे मामले में कृष्णा भाटी के बेटे अरिंजय का कहना है कि मां 15 जून की मीटिंग में थीं, लेकिन उनकी स्थिति ऐसी नहीं थी कि वह कोई फैसला ले सकें। मैनेजमेंट की ओर से रिलीव करने संबंधी जानकारी नहीं दी गई है। हम स्कूल परिसर में स्थित घर में रह रहे हैं, यदि मैनेजमेंट ने चैक पोस्ट किया है तो वह गार्ड के पास आता है। प्रिंसिपल पद से रिलीव करने या घर खाली करने के संबंध में हमसे स्कूल मैनेजमेंट ने किसी तरह से संपर्क नहीं किया है।

भाटी ने देर रात केस दर्ज कराया: प्रिंसीपल कृष्णा भाटी की ओर से सोमवार देर रात गांधीनगर थाने में स्कूल प्रबंधन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। वे दोनों बेटों के साथ थाने पहुंची और मीटिंग में हुई बेइज्जती के संबंध में सलाहकार दामोदर गोयल, सेक्रेट्री विक्रमादित्य के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई। उनका आरोप है कि उन्हें बार-बार धमकाया जा रहा है।

प्रमुख विवाद

ड्रामा कंपनी के 13.5 लाख रुपए
बकौल, प्रिंसिपल कृष्णा भाटी : जब मैंने समिति के सचिव की बहू की ड्रामा कंपनी के नाम पर सालाना दी जाने वाली साढ़े 13 लाख रुपए की राशि में कटौती की, तभी से मेरे खिलाफ षड्यंत्र रचा जा रहा था। हालांकि, मैनेजमेंट कमेटी के सदस्य दामोदर गोयल ने इससे इनकार करते हुए कहा था: अगर यह सच होता तो मैनेजमेंट को भाटी से दो साल पहले नाराज होना चाहिए था, ना कि अब।

आरटीई : प्रबंधन के खिलाफ शिकायत की थी

आरटीई के तहत गरीब बच्चों को प्रवेश नहीं देने पर प्रिंसिपल नेे सरकार को शिकायत की थी। सरकार ने स्कूल की आरटीई की राशि का भुगतान रोक दिया था। कहा जाता है- प्रबंधन ने प्रिंसिपल से आरटीई के 40 लाख रुपए की यह राशि वसूलने की बात कही थी।

2017 में 34 टीचर्स विरोध में थीं

पिछले साल 23 मार्च को स्कूल की 34 टीचर्स ने प्रिंसिपल कृष्णा भाटी पर मानसिक प्रताड़ना का आरोप लगाया था। हालांकि तब स्कूल प्रबंधन ने भाटी का पक्ष लिया था।

खबरें और भी हैं...