पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • अपहरण की कहानी निकली झूठी सीआईए ने व्यक्ति को मेरठ से ढूंढा

अपहरण की कहानी निकली झूठी सीआईए ने व्यक्ति को मेरठ से ढूंढा

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बुधवार शाम को गायब हुए नारायणगढ़ निवासी बलविंद्र के अपहरण की कहानी झूठी साबित हुई। सीआईए ने 24 घंटे में ही बलविंद्र को मेरठ उत्तर प्रदेश से बरामद कर लिया है। बलविंद्र ने पुलिस को बताया है कि वह पैसे मांगने वालों से परेशान होकर मर्जी से मेरठ गया था।

दरअसल, बलविंद्र सिंह पिछले काफी समय से एक गैंग के साथ मिलकर लोगों को बैंकों से लोन दिलवाने का काम करता था। इसकी एवज में लोगों से मोटी फीस वसूल की जाती थी। इस गैंग ने क्षेत्र के कई लोगों से पैसे ले रखे हैं। उसके अनुसार पैसे मांगने वाले उसे परेशान कर रहे थे, जबकि पैसे सुरेश सैनी निवासी तानका माजरा के पास हैं। परेशान होकर बुधवार शाम मोबाइल अस्पताल के नजदीक फेंक दिया और जीरकपुर चला गया। रात को जीरकपुर में रहने के बाद वीरवार को वह मेरठ चला गया। जहां मेरठ पुलिस को उसने आपबीती सुनाई।

करीब 6 महीने पहले सुरेश सैनी निवासी तानका माजरा ने भी लूट की झूठी कहानी रची थी, लेकिन कुछ घंटे बाद ही उसका झूठ सामने आ गया था। नारायणगढ़ पुलिस ने सुरेश के खिलाफ धारा 182 के तहत मामला भी दर्ज किया था जोकि कोर्ट में विचाराधीन है। उस समय भी सुरेश के खिलाफ कई लोग खड़े हो गए थे। जिनका कहना था कि वह बैंकों से लोन दिलवाने के नाम पर लोगों से ठगी करता है।

मेरठ पुलिस ने सीआईए नारायणगढ़ से फोन पर संपर्क कर बलविंद्र के मेरठ में होने की जानकारी दी थी। सीआईए ने बलविंद्र को बरामद कर उसके परिजनों के हवाले कर दिया है। मामला लेन देन से संबंधित है। कुलभूषण, सीआईए इंचार्ज, नारायणगढ़

खबरें और भी हैं...