पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • पार्षद उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी पटेल ने भाजपा के राखोंडे को 109 मतों से हराया

पार्षद उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी पटेल ने भाजपा के राखोंडे को 109 मतों से हराया

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
आखिरकार कांग्रेस ने उपचुनाव में भी वार्ड दो की सीट अपने ही नाम रखी। नवनिर्वाचित कांग्रेस पार्षद राजेश पटेल ने 373 मत प्राप्त करते हुए 109 वोटों से जीत दर्ज की। वहीं भाजपा के संतोष राखोंडे को 264 वोट ही मिले। राजेश पटेल ने इस जीत को कांग्रेस पर लोगों के भरोसे की जीत कहा। जीत के बाद निर्वाचन आयोग का प्रमाण पत्र विजयी प्रत्याशी को सौंपा गया। जीत के बाद कांग्रेसियों ने नगर में जुलूस निकाला। वार्ड में सभा लेकर आभार व्यक्त किया।

मंगलवार सुबह 8 बजे ही प्रत्याशी अपने पदाधिकारियों के साथ तहसील कार्यालय स्थित स्ट्रांग रूम पहुंचे। एसडीएम आरएस मंडलोई, जोनल अधिकारी भूपेंद्र शुक्ला की उपस्थिति में 9 बजे ईवीएम से वोटोें की गिनती शुरू हुई। पांच मिनट में ही ईवीएम से परिणाम सामने आ गए। जिसमें कांग्रेस के राजेश पटेल को 373 मत और भाजपा के संतोष राखोंडे को 264 वोट डाले गए। वहीं वार्ड वासियों ने 5 मत नोटा में डाले।

प्रत्याशी के नामों की जीत की घोषणा होते ही। कांग्रेसियों ने जश्न मनाया। वहीं भाजपाईयों के चेहरे उतर गए। पूर्व में भी वार्ड में कांग्रेस की सीट थी। दूसरी बार भी लोगों ने कांग्रेस पर ही मुहर लगाई। 109 मतों से भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा। जश्न के रूप में कांग्रेसी बाइक रैली के रूप में तहसील से गुरुद्वारा तक पहुंचे। इसके बाद मातापुर बाजार, शीतला माता मंदिर, अंबेडकर चौराहा से होकर वार्ड में जुलूस निकाला।

मतदाता का मन नहीं भाप पाए

मंडल अध्यक्ष संजय विजयवर्गीय - संगठन ने तो पूरी ताकत लगाई। मतदाता की मर्जी। उनके मन में क्या चल रहा है यह भाप पाना मुश्किल है। आगे संगठन की बैठक में विषय को लेकर चर्चा करें। इसमें नगर पालिका के कामों को लेकर भी चर्चा की जाएगी।

जीत के बाद कांग्रेस ने मनाया जश्न

कुछ तो कमी रही होगी

नपा अध्यक्ष राजेश चौहान- वार्ड पूर्व में कांग्रेस सीट थी। फिर भी पिछली बार के चुनाव में इस बार दो गुना मत मिले हैं। कहीं हमारा प्रत्याशी भी कमजोर पड़ गया और शासन सत्ता का ओवर काॅन्फीडेंट भी कुछ हद तक परिणामों पर पड़ा है। इन सभी विषयों पर बैठक लेकर चर्चा करेंगे। जिससे स्थिति को सुधारा जा सके।

हर संभव प्रयास किए

भाजपा पार्षद प्रत्याशी संतोष राखोंडे- मैंने और पार्टी पदाधिकारियों ने हर संभव प्रयास किए। लेकिन कहीं ना कहीं लोगों ने नेपा मिल को लेकर नाराजगी जाहिर की है। शिक्षित वर्ग मेरे साथ था। कुछ लोगों ने शासन की योजना का लाभ लेकर विरोधी पक्ष के बहकावे में आ गए हैं।

वार्डवासियों के विश्वास की जीत

कांग्रेस के विजयी पार्षद प्रत्याशी राजेश पटेल- यह जीत मेरी नहीं कांग्रेस पर विश्वास रखने वालों की जीत है। उनका यह भरोसा मैं कभी नहीं तोडूंगा। वार्ड के लिए उन्होंने मुझे अपना प्रतिनिधि चुना है। आमजन के हितों के लिए हमेशा साथ रहूंगा।

सहानुभूति की लहर चली है

विधायक मंजू दादू- यहां सहानुभूति के चलते कांग्रेस को जीत मिली है। क्योंकि पूर्व में यहां कांग्रेस की सीट थी। पार्षद के निधन के बाद उनकी माता ने भी प्रचार किया। हमने किसी प्रकार की कोई कमी नहीं छोड़ी है। फिर भी जिला अध्यक्ष के साथ बैठक लेकर इसका मंथन करेंगे। फिलहाल मैं भोपाल में हूं। कमी का पता लगाकर इसे पूरा करने के प्रयास करेंगे।

कांग्रेस के एकता की जीत है

नगर कांग्रेस अध्यक्ष सोहन सैनी- आज जो परिणाम आए हैं वह सभी का सहयोग, सभी का साथ है। पूरी एकता के साथ कांग्रेस आगे बढ़ रही है। सभी का मिश्रित सहयोग मिला। उन्होंने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व सांसद अरूण यादव को इसका श्रेय समर्पित किया है। उन्होंने कहा आगामी विधान सभा के पूर्व ही अरूण यादव नगर व कंपनी के लिए कुछ ऐसी घोषणा करें जिससे हम लोगों का विश्वास बनाए रखें। वर्तमान में कंपनी को जो मिला है वह कांग्रेस के प्रयास ही है। आगे भी हम इसी को बढ़ावा देंगे।

परिणाम

कांग्रेस 373

भाजपा 264

नोटा 05

कुल 642

कुल मतदाता 1025

एसडीएम, एसडीओपी ने विजयी प्रत्याशी राजेश पटेल को प्रमाण पत्र दिया

समर्थन में इन्होंने किया प्रचार

कांग्रेस- जिला अध्यक्ष अजय रघुवंशी, नगर से नगर कांग्रेस अध्यक्ष सोहन सैनी, जगविंदरसिंह जाॅली, विजयेता चौहान, भारती पाटील, रामकिसन पटेल, अंर्तसिंग बर्डे, सुमित्रा कास्डे ने प्रचार की कमान संभाली थी।

भाजपा- विधायक मंजू दादू, जिला अध्यक्ष विजय गुप्ता, मंडल अध्यक्ष संजय विजयवर्गीय, नगर पालिका अध्यक्ष राजेश चौहान, उपाध्यक्ष वैशाली पाटील ने मैदान में उतर कर प्रचार किया था।

यहां भी विफल रही भाजपा

भाजपा नेताओं ने स्थानीय निकाय चुनाव में नेपा मिल और नगर के विकास के लिए तमाम वायदे किए थे। लेकिन एक भी वायदा पूरा होते नहीं दिखा। नेपा लिमिटेड द्वारा दी जाने वाली नागरिकों को बुनियादी सुविधाएं राज्य सरकार को हस्तांतरण के मामले को देखते हुए प्रदेश के मुखिया शिवराजसिंह चौहान ने निकाय चुनाव से पूर्व 52 करोड़ के पेयजल योजना की घोषणा की थी। जो अभी तक फाइलों से आगे नहीं बढ़ पाई है। नेपा मिल द्वारा संचालित हायर सेकेंडरी स्कूल को भी राज्य सरकार द्वारा लेना था। लेकिन इसमें भी कमजोर राजनैतिक इच्छा शक्ति और अफसर शाही के चलते मामला केबीनेट तक भी नहीं पहुंच पाया। इसके कारण 300 बच्चों का भविष्य दांव पर लगा है। अपने बच्चों का शैक्षणिक भविष्य दांव पर लगा देख पालकों द्वारा नाराजगी जताते हुए स्कूल का घेराव भी किया गया था।

खबरें और भी हैं...